बड़ी ख़बरें

EXCLUSIVE: भ्रष्टाचार के खिलाफ यह कैसी लड़ाई, ‘भ्रष्टाचारी’ को आशीर्वाद दे गए राजनाथ सिंह

Tricity Today Correspondent/Greater Noida


बुधवार को गाजियाबाद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, अगर यूपी में हमारी सरकार बनी तो विकास प्राधिकरणों से भ्रष्टाचार खत्म करेंगे। एसआईटी बनाकर जांच करवाएंगे। भ्रष्ट अफसरों को जेल भेजेंगे। दूसरी ओर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को ग्रेटर नोएडा के बिसाड़ा में कहा, चाहे अटल बिहारी वाजपेयी जी की सरकार हो या नरेंद्र मोदी की सरकार, किसी एक मंत्री पर भी भ्रष्टाचार का दाग नहीं है। लेकिन शायद उन्हें मालूम नहीं होगा कि मंच पर उनके पांव छूकर आशीर्वाद लेने वालों में एक ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण का ऐसा अफसर है, जिस पर देश के सबसे बड़े नोएडा एक्सटेंशन भूमि घोटाले में जांच चल रही है। आयकर विभाग ने उसके घर छापे मारे थे और प्रवर्तन निदेशालय के रडार पर है।

दादरी के बिसाड़ा गांव में भाजपा उम्मीदवार के लिए राजनाथ सिंह रैली करने पहुंचे थे। वहीं, मंच पर दूसरी कतार में ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण के पूर्व महाप्रबंधक रविंद्र तोंगड़ भी विराजमान थे। रविंद्र तोंगड़ उसी टीम के सदस्य हैं, जिस टीम का सदस्य नोएडा का चीफ इंजीनियर यादव सिंह है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गाजियाबाद की रैली में उसी यादव सिंह को जेल में सड़ाने का बयान दिया है। उसे ही मायावती का सबसे खास अफसर बताया है। बता दें कि रविंद्र तोंगड़ भी उतना ही खास अफसर रहा है।

मायावती सरकार के कार्यकाल में देश का सबसे बड़ा भूमि घोटाला नोएडा एक्सटेंशन भूमि घोटाला हुआ। जिसमें रातोंरात किसानों की हजारों हेक्टेयर जमीन छीनकर बिल्डरों और भू-माफिया को बेच दी गई। भूमि का अधिग्रहण उद्योग लगाने के नाम पर किया गया था। इस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई का आदेश दिया। उस आदेश पर रविंद्र तोंगड़ समेत 20 अफसरों के खिलाफ अब तक जांच चल रही है। इसके बाद ही रविंद्र तोंगड़ समेत तीन बड़े अफसरों के घरों में आयकर विभाग ने छापामारी की थी। प्रवर्तन निदेशालय और आयकर विभाग की सर्विलांस लिस्ट में अब भी रविंद्र तोंगड़ का नाम है। प्रदेश में जैसे ही समाजवादी पार्टी की सरकार बनी रविंद्र तोंगड़ ने प्राधिकरण की नौकरी छोड़ दी थी। लेकिन उसे घोटाले में अब तक क्लीन चिट नहीं मिली है।

जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नोटबंदी करके भ्रष्टाचार के खिलाफ युद्ध लड़ रहे थे, उसी समय भाजपा की गौतमबुद्ध नगर जिला इकाई ने रविंद्र तोंगड़ को पार्टी ज्वाइन करवाई। भाजपा की परिर्वतन यात्रा में रविंद्र तोंगड़ ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। इतना ही नहीं रविंद्र तोंगड़ को दादरी से विधानसभा का चुनाव लड़वाने की तैयारियां शुरू हो गई थीं। संगठन में मतभेद के कारण ऐसा नहीं हो सका। लेकिन बुधवार को उस समय सब हैरत में पड़ गए जब रविंद्र तोंगड़ राजनाथ सिंह के साथ मंच साझा करते नजर आए। वह बाकायदा पूरे समय मंच पर बैठे रहे।

भाजपा के क्षेत्रीय महामंत्री सतेंद्र सिंह शिशौदिया ने रविंद्र तोंगड़ को बुलाया और राजनाथ सिंह से परिचय करवाया। रविंद्र तोंगड़ ने राजनाथ सिंह के पांव छूए और आशीर्वाद भी लिया। राजनाथ सिंह ने उनसे हालचाल भी पूछा। बराबर में ही डा.महेश शर्मा भी बैठे थे। डा.महेश शर्मा ने तो अपना भाषण शुरू करने से पहले रविंद्र तोंगड़ का नाम लेकर अभिवादन भी किया। लेकिन इसमें हैरत इसलिए नहीं कि रविंद्र तोंगड़ सार्वजनिक रूप से कहते हैं कि उनकी प्राधिकरण में नौकरी लगवाने के लिए कभी डा.महेश शर्मा ने ही पैरवी की थी।

जब राजनाथ सिंह ने अपने भाषण की शुरूआत की तो उन्होंने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग लड़ने की दुहाई दी। अटल बिहारी वाजपेयी और नरेंद्र मोदी सरकार को भ्रष्टाचार विहीन करार दिया। लेकिन शायद उन्हें नहीं मालूम होगा कि उनके उम्मीदवार कैसे लोगों का सहारा लेकर चुनाव लड़ रहे हैं। उनकी पार्टी के पदाधिकारी पाप धुलवाने वालों के लिए शाॅर्ट कट रास्ते बनाकर भाजपा रूपी गंगा में गोते लगवा रहे हैं।