चार साल से परिवार से बिछड़ी महिला जेवर एसओ की मदद से परिवार से मिली

Tricity Today Correspondent/Greater Noida

ग्रेटर नोएडा की जेवर कोतवाली में एसओ की मदद से एक महिला अपने परिवार से 4 साल बाद मिली। महिला 4 साल पहले पश्चिम बंगाल से लापता हो गयी थी। महिला के बच्चे मां को देख ज़ारोकतार रोने लगे। महिला के पति ने महिला को मृत समझ दो साल पहले दूसरी शादी कर ली थी। वही एसओ अजय कुमार शर्मा ने परिवार की आर्थिक सहायता के रूप में 10 हजार रूपये दिये हैं। 

ग्रेटर नोएडा की जेवर कोतवाली में 4 साल पहले अपने परिवार से  बिछड़ी महिला गुरूवार को अपने बच्चों से मिली। बच्चे अपनी मां को देख जारो कतार रोने लगे। इस मिलन को देख जेवर एसओ अजय कुमार शर्मा की आंखे भी नम हो गयी। एसओ अजय कुमार शर्मा ने बताया कि जेवर के गांव रोही के प्रधान भगवान सिंह को 20 दिन पहले उनके घेर में एक महिला बैठी मिली। महिला अपना नाम पता कुछ नही बता पा रही थी। प्रधान ने इसकी जानकारी जेवर पुलिस को दी। एसओ ने महिला को प्रधान को सौपते हुऐ उसकी तलाश शुरू की और महिला का फोटो बिहार, मध्य प्रदेश व बंगाल आदि प्रदेशों की सोशल मीड़िया पर डालते हुऐ इसकी इसकी जानकारी क्रांइम ब्रांच को दी। करीब 20 दिन बाद महिला की पहचान महमूना पुत्री ओफिल गांव ठहरिया जिला कटीहार बिहार के रूप में हुई। महिला की मां मथईया, मौसा मुहम्मद शईद, बेटा शाहनेवाज व बेटी मीरा गुरूवार की शाम जेवर कोतवाली पहुंचे। महमूना की शादी पश्चिम बंगाल के सिली गुटी निवासी सुलेमान से हुई थी। महमूना कुछ मंद बुद्धी है। महमूना के बेटा दिलखुश (12), शाहनेवाज(8) व बेटी मीरा(6) साल है। महमूना 4 साल पहले अपनी ससुराल से अचानक लापता हो गयी थी। काफी तलाश के बाद भी वह नही मिली तो,  उसके पति सुलेमान ने उसे मृत समझ दूसरी शादी कर महमूना के बच्चों को उसके मायके छोड़ दिया था। तभी से नानी मथईया मेहनत मजदूरी कर उनको पाल रही थी।  

 

एसओ अजय शर्मा की मदद से पहुंचे जेवर

जेवर कोतवाली एसओ अजय कुमार शर्मा ने परिवार को आर्थिक सहायता के लिये 10 हजार रूपये दिये हैं।महमूना की मां मथईया ने बताया कि उनके पास जेवर तक आने के लिये रूपये नही थे। प्रधान ने एसओ के कहने पर किराये के लिये रूपये उधार दिये थे। अब वह एसओ द्वारा दिये गये रूपये से पहले प्रधान का कर्ज उतारेंगे।