बड़ी ख़बरें

EXCLUSIVE: अखलाख के गांव बिसाहड़ा में बंपर वोटिंग, पिछले सारे रिकाॅर्ड टूटे

Tricity Today Correspondent


अखलाख हत्याकांड के बाद देश की राजनीति में भूचाल लाने वाले बिसाहड़ा गांव में शनिवार को विधानसभा चुनाव के लिए वोट डाले गए। गांव वालों ने बंपर वोटिंग की है। अखलाख के परिजनों ने वोटिंग की। अखलाख हत्याकांड के आरोपी रविन की पत्नी और मां भी वोट डालने के लिए लाइन में लगी मिलीं। रविन की पिछले साल गौतमबुद्ध नगर जिला जेल में मौत हो गई थी।

बिसाहड़ा गांव में चुनाव प्रचार के अंतिम दौर में गृह मंत्री राजनाथ सिंह जनसभा करके गए हैं। हालांकि, रविन की पत्नी और मां ने उनका तीखा विरोध किया था। शनिवार को बिसाहड़ा के राणा संग्राम सिंह इंटर काॅलेज में वोट डालने आई रविन की पत्नी पूजा ने कहा, हम अखिलेश यादव के खिलाफ वोट करेंगे। इस सरकार ने हमें तबाह कर दिया है। इसी सरकार के कारण मेरे निर्दोष पति को जेल भेजा गया और वहां उनकी हत्या कर दी गई। लेकिन हम भाजपा को भी वोट नहीं देंगे। दूसरी ओर अखलाख के भाई जान मोहम्मद अपनी पत्नी के साथ वोट डालने पोलिंग सेंटर पहुंचे।

ग्राम प्रधान हरिओम राणा ने कहा, लोकतंत्र में हर जुल्म और जबरदस्ती का जवाब वोट होता है। हमने जोरदार जवाब दिया है। हर घर से वोट डाला गया है। बिसाहड़ा गांव में चार पोलिंग बूथ हैं। इनमें 5,030 वोटर हैं। 3,860 ग्रामीणों ने वोट डाली हैं। यह 76 प्रतिशत मतदान है। अगर वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव की बात करें तो बिसाहड़ा में 63 फीसदी मतदान हुआ था। तब गांव में 4,619 वोट थे। इनमें से 2,910 वोटरों ने मतदान किया था। 28 सितंबर 2015 को अखलाख हत्याकांड के बाद यह पहला चुनाव था, जिसमें आशंकाओं को दरकिनार करते हुए ग्रामीणों ने जोर-शोर से वोटिंग की है।

गौतमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी एनपी सिंह का कहना है कि गांव को हमने संवेदनशील श्रेणी में रखा था। लेकिन गांव पूरी तरह सामान्य है। गांव के मतदान केंद्र को आदर्श मतदान केंद्र बनाया गया था। गांव वालों ने बहुत अच्छे ढंग से मतदान किया है। इसकी मुझे बहुत खुशी है। इससे पता चलता है कि गांव सामान्य हो गया है।