बड़ी ख़बरें

जिलाधिकारी ने किया ऐसा काम बच्चें भी हो गये भावुक

Tricity Today Correspondent

इतिहास गवाह है, जब जब देश में मान, सम्मान और देश रक्षा की बात आती है। तो भारत की नारियों ने बिना कुछ सोचे समझे बिना जान की परवाह के देश की रक्षा के लिए खरी उतरी है। लेकिन इस देश में आज भी कुछ ऐसे भी लोग हैं। जो नारी को सिर्फ अपने नीचे ही मानते हैं। और पांव की झूल समझते हैं। भारत के पिछड़े क्षेत्रों में आज भी लड़कियों का शिक्षित भी नही किया जाता, जिससे महिलाएं का सही प्रकार से पालन पोषण नही होता हैं।

लेकिन फिर भी देश मे कुछ ऐसे लोग भी है, जो नारी को हमेशा से ही सम्मान का दर्जा देते हंै। उनको पढ़ा लिखा कर कुछ करने के लायक बनाते हैं। और हमेसा ही कदम से कदम मिलाकर चलते हैं। जिससे आज पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटेल, मेरीकाम और आई पी एस पूजा अवाना जैसी लाखों महिलाएं इसका उदाहरण हैं। जो देशा को आगे बढाती हैं।

आज हम एक ऐसे व्यक्ति की बात कर रहे हैं। जिसके काम ने समाज मे अपनी एक अलग पहचान बनाई हैं। इस व्यक्ति ने ऐसा काम किया हैं जिसको सुनकर आप भी हैरान हो जायेगे। मामला उत्तराखंड के बागेश्वर जिले का हैं। जहाँ एक स्कूल में विज्ञान के अध्यापक की कमी होने से विद्यार्थियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। यह बात बागेश्वर के जिलाधिकारी मंगेश सिंह तक पहुँची। लेकिन कोई हल नही मिल पाया।

हैरानी की बात तो जब हुई जब जिलाधिकारी ने यह बात अपनी पत्नी को बताई। तो अलगे ही दिन से जिलाधिकारी की पत्नी ने स्कूल में जाकर विद्यार्थियों को विज्ञान की क्लास दी। हालांकि स्कूल में पहले किसी को इस बारे में भनक भी नही थी। लेकिन जब विद्यार्थियों को इस बात का पता चला तो सबको बहुत हैरानी हुई और विद्यार्थी भावुक हो गये।

इस स्कूल में सभी विद्यार्थी जिलाधिकारी का अहसान मानते हैं। लेकिन जिलाधिकारी मंगेश सिंह उस बात को अपना धर्म मानकर टाल देते हैं। आज हमारे देश को ऐसे हजारों जिलाधिकारी मंगेश सिंह की जरूरत हैं।