बड़ी ख़बरें

इंटरनेशनल फुटबॉलर ने अपनी पत्नी के साथ अफेयर के शक में अपने दोस्तों को मारी गोली

Tricity Today Correspondent

इंटरनेशनल फुटबॉलर और राजनीतिक दल AJSU के केंद्रीय सचिव अजय सिंह ने बुधवार की देर रात दो अपने ही दो दोस्तों को गोली मार दी। जिसमें से एक की मौत हो गई वही दूसरे का अस्पताल में इलाज चल रहा है।

दरअसल, बुधवार की देर रात को इंटरनेशनल फुटबॉलर अजय सिंह की अपनी पत्नी एंजेला सिंह से विवाद हो गया, जिसके बाद उसकी पत्नी घर छोड़कर चली गई थी। जिसे तलाशते अजय सेक्टर-9 में अपने फार्महाउस में पहुंचा और उसे घर ले जाने की कोशिश में दोनों में काफी विवाद हो गया। 

इसी दौरान दोनों के फैमिली फ्रेंड सुनील गुप्ता और अमरेंद्र सिंह मौके पर पहुंचे और बीचबचाव की कोशिश की। तभी गुस्से में आकर अजय ने दोनों पर पिस्टल से फायरिंग कर दी। सुनील के सिर में गोली लगी और अमरेंद्र के पाँव में गोली लगी। घटना के बाद अजय ही सुनील को लेकर अस्पताल पहुंचा। जहां डॉक्टरों ने सुनील को मृत घोषित कर दिया, जिसको सुनकर अजय हॉस्पिटल से आल्टो कार लेकर फरार हो गया। 

आपको बता दे की इंटरनेशनल फुटबॉलर अजय सिंह ने 1992 से ईस्ट बंगाल की टीम से फुटबॉल खेलना शुरू किया था। 1992 में वह सब जूनियर इंडिया टीम में था। जूनियर इंडिया टीम के 1994 में कप्तान थे। 1996 में सीनियर टीम इंडिया में खेल चुके हैं। अजय ने 2005 के विधानसभा चुनाव में आजसू (ऑल झारखंड स्टूडेंट यूनियन) की टिकट पर चुनाव लड़ा था। पिछले चुनाव में कांग्रेस से भी चुनाव लड़ा।

वही एंजेला सिंह इंटरनेशनल तीरंदाज है। उनके पिता और बुआ भी मशहूर तीरंदाज रह चुके हैं। एंजेला की शादी अजय सिंह से 2002 में हुई। उसके बाद वह 2005 में बोकारो आई और 2010 में बोकारो में तीरंदाजी की नींव रखी।

बताया जाता है कि आरोपी अजय को अपनी पत्नी पर शक था की उसका उसके दोस्त सुनील गुप्ता और अमरेंद्र सिंह के साथ अफेयर चल रहा है। इस कारण ही अजय ने अपने दोस्तों को मारने को कोशिश की, लेकिन पुलिस का कहना है की एंजेला सिंह का किसी भी दोस्त के साथ अफेयर की बात सिद्ध नहीं हुई है।

पुलिस का कहना है कि अजय सिंह हथियारों की तस्करी भी करता था। वह अपने घर में हथियार रखता था और खरीद-बिक्री करता था। पुलिस को अजय सिंह के सेक्टर 9 स्थित मकान से 1 देसी कारबाइन, 1 डबल बैरल देसी पिस्टल, 2 सिंगल बैरल का देसी पिस्टल, 9 एमएम बोर के 5 जिंदा कारतूस, 0.315 बोर के 8 जिंदा कारतूस मिले हैं। वहीं अराजू गांव स्थित पुश्तैनी मकान से 1 सिंगल बैरल देसी पिस्टल, 0.315 बोर का 6 जिंदा कारतूस और बहुत से बड़े हथियार मिले।