बड़ी ख़बरें

आजमगढ में तोड़ी एक और अंबेडकर की मूर्ति, योगी के निर्देशों पर नही हो नही कोई कार्यवाही

Mayank Tawer

उत्तर प्रदेश में एक और मूर्ति तोड़ेने का मामला प्रकाश में आया है। उत्तर प्रदेश के आजमगढ जिले में डॉ अंबेडकर की मूर्ति को तोड़ा गया है। जानकारी के अनुसार, जिले के कप्तानगंज थाना क्षेत्र के राजापट्टी गांव के पास आंबेडकर की प्रतिमा तोड़ी गई है। लोगों ने खंड़ित मूर्ति को देख पुलिस को सूचना दी है। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई। हालांकि, मूर्ति तोडने वाले लोगो का अभी तक पुलिस को पता नही चल पाया हैं।

आपको बता दें, कि यह कोई पहली बार की बात नही है इससे पहले भी देश के मेरठ समेंत कई जिलोें में मूर्ति तोडी जा चुकी हैं। बीते मंगलवार की देर रात को मेरठ के मवाना गांव मे स्थापित अंबेडकर की मूर्ति को तोड़ दिया था। जिसके बाद बाबा अंबेडकर की मूर्ति तोडने से दलित समाज के ग्रामीण आक्रोश में हैं और उन्होंने बुधवार को रोड जाम कर दिया था। स्थानीय प्रशासन ने मौके पर पहुंच कर ग्रामीणों को समझाया और नयी मूर्ति स्थापित कराई। 

मेरठ के मवाना में अंबेडकर की मूर्ति तोड़े जाने से सीएम योगी आदित्यनाथ ने नाराजगी जताई हैं। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा था कि दोषियों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाये। 

सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने ऑफिसियल ट्विटर से ट्वीट कर प्रदेश के डीएम और एसपी को कहा है कि जिले में शांति भंग करने वाले दोषियों पर सख्त कार्यवाही की जाए। लेकिन फिर भी मूर्ति तोडने के मामले दिन प्रतिदिन बढते जा रहे है। इससे एक बात ओर साफ नजर आ रही है कि शायद अब योगी आदित्यनाथ का डर लोगो के मन में से समाप्त होता जा रहा हैं।

बुधवार को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा कि देशभर में मूर्ति तोड़ने की घटनाएं सामने आ रही हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने भी इस पर चिंता जताई है। मंत्रालय इस तरह की घटनाओं पर सख्त कार्रवाई करेगा। गृह मंत्रालय ने राज्यों को भी इस तरह की घटनाओं पर जरूरी कदम उठाने के आदेश दिए हैं। 

ये भी कहा कि जो लोग में इसमें शामिल होंगे, उनसे कानून के तहत सख्ती से निपटा जाएगा। मूर्तियां तोड़े जाने की शुरुआत सबसे पहले त्रिपुरा में लेनिन की मूर्ति से हुई थी। उसके बाद अलग-अलग इलाकों से ऐसी खबरें आने लगी। उसके बाद पेरियार की मूर्ति और कोलकाता में महात्मा गांधी की मूर्ति को नुकसान पहुंचाया गया था।