बड़ी ख़बरें

मोदी-योगी पर भारी पड़ी, बुआ-अखिलेश की जोड़ी

Tricity Today Correspondent

उत्तर प्रदेश की गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव के नतीजे कुछ समय में सामने आ जाएंगे। इन सीटों पर मतगणना शुरू हो गयी है। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के मतों की गिनती के लिए 14 टेबल लगाए गए हैं। एक टेबल आरओ का होगा। मतों की गणना का परिणाम एलईडी स्क्रीन लगाकर प्रदर्शित किया जाएगा। इसके अलावा आरओ माइक से भी घोषणा करेंगे।

12:46 पर गोरखपुर में तेजी से आगे निकलते हुए एसपी करीब 10 हजार वोटोंं से आगे चल रही है।  और 12:34 पर छठे राउंड के बाद गोरखपुर में सपा 7139 वोट से आगे चल रही है। सपा बीजेपी पर दबाव बनाती दिख रही है। 

प्रत्येक टेबल पर मतगणना पर्यवेक्षक समेत चार कर्मचारी होंगे। सभी मतगणना पर्यवेक्षक राजपत्रित अधिकारी होंगे। हर टेबल पर प्रत्येक प्रत्याशी एक-एक एजेंट तैनात कर सकेंगे। सहजनवां में सबसे कम 29 राउंड और गोरखपुर शहर में सबसे ज्यादा करीब 34 राउंड की गिनती होगी। कैंपियरगंज और पिपराइच में 30 राउंड और गोरखपुर ग्रामीण विधानसभा में 31 राउंड की गिनती होगी। सबसे पहले सर्विस वोटरों के वोटों की गिनती होगी। सुबह 11 बजे तक रूझान और दोपहर एक बजे के करीब नतीजे आ जाएंगे। 

इन लोकसभा सीटों के नतीजे न सिर्फ यूपी बल्कि केंद्र की राजनीति के सियासी समीकरणों में भी बड़ा बदलाव लाएंगे। खासतौर पर गोरखपुर और फूलपुर उपचुनाव को राज्य के सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और सपा-बसपा की प्रतिष्ठा से जोड़कर देखा जा रहा है। गोरखपुर-फूलपुर उपचुनाव से पहले यूपी की राजनीति ने नई करवट ली है। मतदान से ठीक पहले जहां चिर प्रतिद्वंद्वी सपा-बसपा ने हाथ मिला लिया, वहीं राज्यसभा चुनाव में सपा-बसपा के साथ कांग्रेस भी भाजपा के खिलाफ एक मंच पर आ गई है।

जाहिर तौर पर अगर उपचुनाव के नतीजे सपा के पक्ष में रहे तो इन तीनों दलों के लोकसभा चुनाव से पूर्व एक मंच पर आने की संभावना और मजबूत हो जाएगी। चूंकि ये दोनों सीटें सीएम योगी और डिप्टी सीएम मौर्य के इस्तीफे से खाली हुई है, इसलिए इसे न सिर्फ भाजपा बल्कि योगी-मौर्य की प्रतिष्ठा से भी जोड़ कर देखा जा रहा है। अगर सत्तारूढ़ दल अपनी दोनों सीटें जीतने में कामयाब रहा तो सपा-बसपा-कांग्रेस के एक मंच पर आने की संभावनाओं पर ग्रहण लगने के आसार बनेंगे।