बड़ी ख़बरें

सुथियाना के मां भगवती मणिपुर वाषणी मंदिर में दूसरे दिन भी श्रद्धालुओं की भारी भीड

Mayank Tawer

ग्रेटर नोएडा के सुथियाना ग्राम में स्थित मां भगवती मणिपुर वाषणी मंदिर में श्रीमद देवी भागवत महापुराण का विशाल आयोजन के दूसरे दिन भी श्रद्धालुओं की सैकडों की संख्या में भीड देखने को मिली। नवरात्री के दूसरे दिन श्री 1008 स्वामी शिववन जी महाराज जी ने मां ब्रह्मचारिणी का वर्णन किया।

स्वामी शिववन जी महाराज जी ने बात करते हुऐ बताया कि आज के करीब 45 वर्ष पूर्व मणिपुर वाषणी मंदिर में मां भगवती मूर्ति की स्थापना हुई तब से ही ग्राम सुथियाना में स्थित मां भगवती मणिपुर वाषणी मंदिर में हर वर्ष में दो बार विशाल भागवत कथा का आयोजन किया जाता हैं।

स्वामी शिववन जी महाराज जी ने आज नवरात्री के दूसरे दिन श्रीमद देवी भागवत महापुराण में मां ब्रह्मचारिणी का बहुत ही सुदंर वर्णन किया हैं। उन्होनें बताया कि ब्रह्मचारिणी में ब्रह्म का अर्थ है तपस्या व चारिणी का अर्थ है आचरण करने वाली देवी अर्थात मां ब्रह्मचारिणी नौ देवी में सबसे शांत स्वभाव की हैं, मां ने भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए कई सौ वर्षो तक कठिन तपस्या की इसी कारण मां का नाम मां ब्रह्मचारिणी पडा। उन्होनें बताया कि मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने वाले व्यक्ति को इच्छा रूपी प्राप्ति होती हैं।

स्वामी शिववन जी महाराज जी ने उमडेें श्रद्धालुओें बताया कि भगवती एक ही है लेकिन लोगोें और संसार के कल्याण कार्य के कारण इनको अलग अलग रूप धारण करने पडे हैं, इसलिए नारी में शक्ति का रूप माना जाता हैं और हमेशा ही नारी का सम्मान करना चाहिए, जिस घर में नारी का अपमान होता है उस घर में देवी का निवास नही हो सकता।

नवरात्री के दूसरे दिन ललित वन जी महाराज, सुनील पंडित जी, सतेन्द्र वन जी, कालूराम शर्मा, अमित, मानसिंह यादव, रघुराज वर्मा, विनोद, अज्जू नागर, सूरज चपराना, विजय चंदेल, मलखान कश्यप, बबली, राजेश शर्मा, पुनीत शर्मा, रिछपाल सिंह, दयाचंद प्रजापति नरेद्र कश्यप, अजीत कश्यप, रोहित कश्यप, भगवती देवी, कुसूम, संगीता भाटी, वंशिका भाटी, किरण शर्मा, पूजा भटट, राधिका जैन्हर, संगीता जैन्हर आदि सैकडों श्रद्धालु लोग मौजूद थे।