बड़ी ख़बरें

DPS स्कूल रेप - महिला प्रिंसिपल ही कर रही है रेप आरोपी को बचने का कोशिश

Mayank Tawer

ग्रेटर नोएडा के DPS स्कूल में 3 साल की बच्ची के साथ हुई शर्मनाक घटना को प्रिंसिपल द्वारा दबाये जाने के कारण स्कूल में अभिभावक ने आज DPS स्कूल पर जमकर हंगामा और आक्रोश दिखाया और इस मामले को लेकर अभिभावको ने गौतम बुद्ध नगर जिलाधिकारी को स्कूल प्रिंसिपल रेनू चतुर्वेदी को बर्खाश्त की मांग के लिए ज्ञापन सौपा। 

आरोपी चाडीदास

दरअसल, ग्रेटर नोएडा के डी पी एस स्कुल में कुछ समय पहले एक 3 वर्षीय छोटी छात्रा के साथ एक स्कुल कर्मचारी ने छेडछाड की। जिसकी बात उस 3 वर्षीय छोटी बच्ची ने अपने माता पिता से बतायी, लेकिन जब बच्ची के अभिभावक ने डी पी एस स्कुल की प्रिसिपंल रेनू चतुर्वेदी से इस बारे में बात की तो प्रिसिपंल रेनू चतुर्वेदी ने कहा की हमारे स्कुल के कर्मचारी इस प्रकार की हरकत नही कर सकता इतना ही नही आरोपी चाडीदास के बचाने का कार्य कर रही है।

इस मामले को लेकर आज DPS स्कूल के आक्रोश में जगबीर नम्बरदार ने बताया कि स्कुल प्रिसिपंल रेनू चतुर्वेदी कर्मचारी चाडीदास को बचाने का कार्य ही नही बल्कि पिडित परिवार को परेशान कर रही है। उन्होने बताया की पुलिस ने आरोपी की जांच शुरू कर दी हैं और छेडछाड की भी पुष्टि हो गयी है अब तो सिर्फ कोर्ट ही फैसला सुनायेगा की मामले में क्या होना है तो आखिर फिर डी पी एस स्कुल की प्रिसिपंल रेनू चतुर्वेदी आरोपी को बचाने का कार्य क्यों कर रही है अर्थात प्रिसिपंल पर भी कार्रवाई की जाये। 

स्कूल प्रिंसिपल रेनू चतुर्वेदी

उन्होने बताया की बच्ची के साथ छेडछाड हुई है, बच्ची के अभिभावक ने मामला दर्ज कराया हैं, आरोपी पुलिस की कस्टडी के हैं मामला साफ नजर आ रहा है तो फिर स्कुल की प्रिसिपंल आरोपी को बचाने के लिए बच्ची के अभिभावक को परेशान और अरोपी को क्लीनचिट कैसे दे रही हैं।

एक महिला अभिभावक ने स्कुल प्रिसिपंल से पूछा की इस स्कुल में छोटी बच्ची के साथ छेडछाड हुई या नही येस या नो में बताओं तो स्कुल प्रिसिपंल ने कहा कि यह जांच का विषय है और शान्त हो गयी लेकिन दुसरी तरफ कह रही है की आपको सच्चाई भी नही पता और हमारा कर्मचारी ऐसा नही कर सकता। 

इस मामले में आज स्कुल में पढ रहे बच्चों के अभिभावक, पिडित परिवार और भी सामाजिक लागों ने आरोपी के खिलाफ ही नही बल्कि स्कुल प्रसाशन और स्कुल प्रिसिपंल रेनू चतुर्वेदी को आरोपी को बचाने की कोशिश के लिए मामला दर्ज व जांच की मांग की हैं। वही जिलाधिकारी ने पूर्ण मामले की जांच के लिए 5 लोगों की टीम गठित की है।