बड़ी ख़बरें

एसकेएस प्रताप को बहादुरी के लिए मिला राष्ट्रपति पदक

Tricity Today Correspondent/Meerut

 

एसकेएस प्रताप सिंह को उनकी बहादुरी के लिए बीते शुक्रवार को गवर्नर राम नाईक ने राष्ट्रपति पुलिस पदक से सम्मानित किया। गवर्नर ने लखनऊ में यूपी पुलिस वीक के उद्घाटन अवसर पर जांबाज पुलिस वालों को सम्मानित किया है। डीएसपी सुनील प्रताप सिंह, गौतमबुद्ध नगर, बागपत, मुजफ्फरनगर और बुलंदशहर में तैनात रहे हैं। एसकेएस प्रताप के नाम से मशहूर इस पुलिस अधिकारी को एनकाउंटर स्पेशलिस्ट माना जाता है। वेस्ट यूपी के कई बड़े कुख्यात बदमाशों को एसकेएस प्रताप की गोली का निशाना बनना पड़ा या उनकी तैनाती के वक्त जिला छोड़कर फरार हो गए।

 

 

एसकेएस प्रताप के बेटे गौरव प्रताप भी सम्मान समारोह के दौरान उपस्थित रहे। गौरव प्रताप भी अपने पिता की तरह बहादुर हैं और फिलहाल भारतीय सेना में राजपत्रित अधिकारी के रूप में सेवाएं दे रहे हैं। गौरव प्रताप सिंह ने करीब चार वर्ष पूर्व डिफेन्स सर्विसेज ज्वाइन की हैं। अभी एसकेएस प्रताप बतौर डीएसपी मुजफ्फरनगर जिले में तैनात हैं। प्रताप अपने काम की बदौलत हमेशा मीडिया, पुलिस और शासन के चहेते रहे हैं।

 

उन्होंने आगरा के सेंट जोन्स काॅलेज से पढ़ाई की और उत्तर प्रदेश पुलिस में बतौर सब इंस्पेक्टर तैनाती हासिल की। लगातार शानदार काम की बदौलत उन्होंने आउट आॅर्फ टर्न प्रोमोशन हासिल किए हैं। कानून-व्यवस्था को दुरुस्त रखने के लिए कड़ाई से काम करने वाले एसकेएस प्रताप की गिनती प्रदेश के चुनिंदा पुलिस अधिकारियों में होती है।