बड़ी ख़बरें

नोटबन्दी: बैंक मैनेजर ने चेक फाड़ा, बुजुर्ग की हार्ट अटैक से मौत

Tricity Today Correspondent

मेरठ, अब्दुल्लापुर स्थित यूनियन बैंक की शाखा में मंगलवार को दिल का दौरा पड़ने से किसान की मौत हो गई। यह देख बैंक शाखा में हड़कंप मच गया। बैंक मैनेजर पर किसान का 24 हजार रुपये का चेक फाड़ने का आरोप लगाते हुए भीड़ ने बैंक पर धावा बोल दिया। सीसीटीवी कैमरे तोड़ डाले और जमकर बवाल काटा। गुस्साए लोगों ने बैंक में आग लगाने का भी प्रयास किया। जान बचाने के लिए बैंक के कर्मचारी बाथरूम और लॉकर रूम में जा छिपे। पुलिस ने किसी तरह से स्थिति को संभाला।

अब्दुल्लापुर के मोहल्ला खिन्नी निवासी इस्तियाक (40 वर्ष) किसान थे। मंगलवार सुबह करीब आठ बजे पत्नी हनीसा फातमा के साथ वह अब्दुल्लापुर की यूनियन बैंक शाखा में पहुंचे थे। करीब 11:30 बजे बैंक के कैश काउंटर पर दंपति पहुंचा तो कैशियर धीरज ने 24 हजार रुपये देने से इंकार कर दिया। इस्तियाक बैंक प्रबंधक श्रद्धा खन्ना के पास पहुंचे तो प्रबंधक ने बताया कि कैश कम है और इतनी रकम नहीं दी जा सकती। इस्तियाक ने बताया कि उन्हें बुवाई के लिए बीज खरीदना है और रकम की जरूरत है। इस पर दोनों के बीच विवाद हो गया। इस्तियाक की पत्नी का आरोप है कि बैंक मैनेजर ने उनका चेक फाड़ दिया और चार हजार रुपये का नया बैंक चेक भरने को कहा।

इस्तियाक ने चार हजार रुपये का नया चेक भरा और भुगतान भी ले लिया, लेकिन इसी दौरान उनकी तबीयत बिगड़ गई। बैंक से बाहर निकलते वक्त ही उनको दिल का दौरा पड़ गया। बैंक के बाहर लाइन में लगे गांव के लोग उन्हें डाक्टर के पास ले गए लेकिन डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

इसके बाद भीड़ का गुस्सा भड़क गया। आक्रोशित भीड़ ने बैंक पर धावा बोल दिया और बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे तोड़ डाले। सैकड़ों लोगों की भीड़ बैंक के अंदर घुस गई और तोड़फोड़ कर दी। बैंक में आग लगाने का भी प्रयास किया गया। भीड़ का गुस्सा देख बैंक कर्मचारी बाथरूम और लॉकर रूम में जा छिपे। पुलिस मौके पर पहुंची और जैसे तैसे स्थिति को काबू में किया। लोगों ने बैंक कर्मियों पर नोट बांटने में धांधली का आरोप लगाया। पुलिस ने लिखित में शिकायत मांगी। रात करीब आठ बजे किसान को सुपुर्द ए खाक किया गया।