बड़ी ख़बरें

डा.महेश शर्मा के खिलाफ फिर पोस्टर वाॅर, पूरे लोकसभा क्षेत्र में लगे पोस्टर

Tricity Today Correspondent/Noida

 

केंद्रीय संस्कृति मंत्री और गौतमबुद्ध नगर से लोकसभा सांसद डा.महेश शर्मा के खिलाफ एक बार फिर पोस्टर वाॅर शुरू हो गया है। इस बार सतपाल बजरंगी नाम के व्यक्ति ने पूरे लोकसभा क्षेत्र में पोस्टर लगवाए हैं। जिनमें डा.महेश शर्मा से कई सवाल पूछे गए हैं। साथ ही ठाकुर बिरादरी से पूछा गया है कि क्या सिर्फ भारतीय जनता पार्टी को वोट देने की बाध्यता के कारण हम डा.महेश शर्मा को चुनने के लिए मजबूर हैं। उनके गलत फैसलों को मानने के लिए मजबूर हैं।

 

सतपाल बजरंगी ने पोस्टर पर बाकायदा अपना पता और मोबाइल नंबर छपवाया है। लोगों से अपील की है कि जो उनकी बात से हसमत हैं, काॅल या एसएमस करके समर्थन दे सकते हैं। सतपाल बजरंगी ने पूछा है कि डा.महेश शर्मा जब से सांसद और मंत्री बने हैं, तब से ठाकुर बिरादरी के कितने युवकों को नौकरियां दिलाई हैं। पार्टी के संगठन में कितने लोगों को जगह दिलाई हैं। ठाकुरों के कितने गांवों में अपनी सांसद निधि से या केंद्र सरकार से पैसा लाकर विकास कार्य करवाए हैं। सतपाल ने आरोप लगाया है कि गौतमबुद्ध नगर जिले में सबसे ज्यादा वोटर ठाकुर बिरादरी के हैं लेकिन उन्होंने पार्टी का जिलाध्यक्ष भी किसी ठाकुर को नहीं बनने दिया है।

 

सतपाल का कहना है कि जो लोग डा.महेश शर्मा को गालियां देते थे और उनके लिए वोट नहीं डालने दे रहे थे, आज महेश शर्मा उन्हीं लोगों को संगठन में उच्च पदों पर बैठा रहे हैं। डा.महेश शर्मा ने हमारी बिरादरी को अपनी पिछलग्गू समझ रखा है। मैं अपने समाज के लोगों से अपील करता हूं कि भारतीय जनता पार्टी के भ्रम में नहीं पड़ें। जहां सम्मान मिलेगा, वहां हम समर्थन देंगे।

 

रविन के परिवार को क्यों नहीं दी आर्थिक मदद
सतपाल बजरंगी ने सवाल किया है कि डा.महेश शर्मा जातिवादी राजनीति कर रहे हैं। उनके मन में ब्राह्मण की ज्यादा कीमत है। इसी कारण जब दादरी में विजय पंडित की हत्या हुई तो उसके परिवार को 10 लाख रुपये की मदद सांसद ने की थी। अब जब बिसाहड़ा गांव के युवक रविन की जेल में मौत हो गई तो उसके परिवार को भाजपा नेताओं के साथ मिलकर पांच लाख रुपये की मदद दी। उसमें सांसद ने केवल डेढ़ या दो लाख रुपये दिए हैं।

 

पंकज सिंह के खिलाफ षड़यंत्र रचने का आरोप
सतपाल बजरंगी ने पोस्टर पर लिखा है कि जिस ठाकुर समाज ने वोट देकर डा.महेश शर्मा को संसद भेजा, उसी समाज के सबसे बड़े नेता राजनाथ सिंह के पुत्र पंकज सिंह के खिलाफ षड़यंत्र रचा। पंकज सिंह नोएडा से विधानसभा के लिए उप चुनाव लड़ना चाहते थे। लेकिन डा.महेश शर्मा ने खुद को असुरक्षित मानते हुए उन्हें नोएडा से चुनाव नहीं लड़ने दिया। उनके खिलाफ बेहद घिनौनी साजिश रची थी।