बड़ी ख़बरें

मैं महिला कांस्टेबल हूं तो क्या इंस्पेक्टर के घर जाकर खाना बनाउंगी, देखिए वीडियो

Tricity Today Correspondent/Lucknow

 

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश पुलिस का चेहरा कितना भी सुधारने का प्रयास कर लें लेकिन चंद पुलिस अफसर सब पर पानी फेरने के लिए काफी हैं। अब मैनपुरी जिले में करहल थाने के इंस्पेक्टर सुभाष यादव के खिलाफ महिला कांस्टेबल ने मोर्चा खोला है। कांस्टेबल का कहना है कि इंस्पेक्टर ने उसे आदेश दिया कि वह उसके घर जाकर बच्चों के लिए खाना बनाए। जब महिला कांस्टेबल ने इंकार कर दिया तो उसके खिलाफ रपट लिख दी। चार दिन बाद डीएसपी के हस्तक्षेप से महिला कांस्टेबल को थाने में वापस तैनाती दी गई। महिला कांस्टेबल थाने पहुंची तो इंस्पेक्टर सुभाष यादव ने उसे अपने कार्यालय में बुलाकर उसके मुंह पर सिगरेट का धुंआ छोड़ा और मेज पर रखे काजू उसके मुंह में ठूंस दिए।

 

 

महिला कांस्टेबल रूपेश भारती ने बताया कि वह और उनके पति सौरभ भारती हरहल थाने में तीन वर्षों से तैनात हैं। जब से इंस्पेक्टर सुभाष यादव आए हैं, उन्हें परेशान कर रहे हैं। रूपेश अनुसूचित जाति हैं। उनके लिए जाति सूचक शब्दों का प्रयोग करते हैं। हद तो तब हो गई जब इंस्पेक्टर ने रूपेश को बुलाकर अपने बच्चों के लिए खाना बनाने का आदेश दिया। जब रूपेश ने इंकार कर दिया तो उसके खिलाफ रपट लिख दी गई। रूपेश ने डीएसपी से शिकायत की। डीएसपी के हस्तक्षेप पर रूपेश ने चार दिन बाद थाने में ज्वाइन किया। रूपेश ने बताया कि मैं थाने पहुंची तो मुझे सुभाष यादव ने बुलाया। अपने कार्यालय में बैठे सुभाष यादव सिगरेट पी रहे थे। मेरे मुंह पर सिगरेट का धुंआ छोड़ा। मेज पर रखे काजू उठाकर मेरे मुंह में ठूंसने लगे।

 

यह भी पढ़िए

अखिलेश राजः छेड़खानी का विरोध करने पर महिला को लाठियों से पीटा, देखिए वीडियो

डाॅ महेश शर्मा के दोहरे चेहरे से तंग आकर सांसद प्रतिनिधि ने छोड़ी भाजपा, वीडियो में खोली पोल

मैंने अपने पति को जानकारी दी। मेरे पति सौरभ को बुलाकर इंस्पेक्टर ने कहा, तेरा तबादला ऐसी जगह करूंगा कि कभी वापस नहीं आ पाएगा और तेरी बीवी को यहीं रखूंगा अपने पास। रूपेश का कहना है कि मैं सुभाष यादव के खिलाफ कार्रवाई चाहती हूं। अगर इसके खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो मैं इस्तीफा दे दूंगी। आत्महत्या कर लूंगी। रूपेश का कहना है कि हम महिला कांस्टेबल क्या इन अफसरों के घर में चूल्हा चौका करने के लिए पुलिस में भर्ती की गई हैं। सुभाष यादव के खिलाफ पूरे थाने के कर्मचारी हैं। मामला लखनऊ तक पहुंच चुका है।

आप हमें फेसबुक और टि्वटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।