बड़ी ख़बरें

रालोद छोड़कर दलवीर सिंह भाजपा में शामिल, रालोद विधान मंडल दल के नेता थे दलवीर

TricityToday Correspondent/Aligargh

 

भारतीय जनता पार्टी पुरजोर कोशिश के साथ विपक्षी पार्टियों को नुकसान पहुंचा रही है। रविवार को लखनऊ में कई बड़े नेताओं ने अपनी पार्टियां छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया। इनमें सबसे बड़ा नाम राष्ट्रीय लोकदल के विधायक दलवीर सिंह हैं। दलवीर सिंह अलीगढ़ की बरौली सीट से विधायक हैं और रालोद विधान मंडल दल के नेता हैं। इस दल बदल से चौधरी अजित सिंह को बड़ा झटका लगा है।

 

दलवीर सिंह पुराने नेता हैं। वर्ष 1991 के चुनाव से उनका राजनीतिक करियर बतौर जनप्रतिनिधि शुरू हुआ था। जनता दल के टिकट पर चुनाव जीतकर वह विधानसभा पहुंचे थे। इसके बाद 1993 का चुनाव भाजपा के मुनीश गौड़ से हार गए। इसके बाद दलवीर सिंह कांग्रेस में शामिल हो गए और वर्ष 1996 का चुनाव जीतने में कामयाब रहे। लेकिन अगले दो चुनाव 2002 और 2007 में बसपा के ठाकुर जयवीर सिंह से हारते रहे।

 

वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में उन्हें रालोद के टिकट पर कामयाबी मिल गई। अब उन्होंने रालोद को छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया है। बागपत से विधायक नवाब कोकब हमीद के चुनाव हार जाने के कारण दलवीर सिंह को चौधरी अजित सिंह ने विधायक दल का नेता बनाया था। अब दलवीर सिंह, स्वामी प्रसाद मौर्य के बाद दूसरे ऐसे नेता बन गए हैं जो इतने महत्वपूर्ण पद पर होने के बावजूद पार्टी छोड़कर गए हैं। दलवीर सिंह उत्तर प्रदेश सरकार में स्पोट्र्स, पर्यटन और गन्ना-चीनी मंत्री रह चुके हैं।

यह भी पढ़िए

ठाकुर धीरेंद्र सिंह भाजपा में शामिल, कांग्रेस को बड़ा झटका

EXCLISIVE: पढ़िए, भाजपा में शामिल होने के बाद कांग्रेसी नेता धीरेंद्र सिंह ने क्या कहा