नारद पुराणः इन आठ चीजों को छू लिया तो जिदंगी भर पीछा नहीं छोड़ेगा दुर्भाग्य

Tricity Today Correspondent

हर कोई कामयाब होना चाहता है। अच्छी जिंदगी जीने के लिए धन कमाना चाहता है। दूसरों से अलग अपना बेहतर लाइफ स्टाइल बनाना चाहता है। इसके लिए लागतार संघर्ष भी करते हैं लेकिन छोटी-छोटी गलतियों की वजह से पूरी मेहनत करने के बाद भी उस कामयाबी में कमी रह जाती हैं जो आप चाहते हैं। शास्त्र और ज्योतिष के मुताबिक कुछ ऐसी बातें हैं जिनको नजरअंदाज करने से हमे पूरी जिंदगी पछताना पड़ता है। नारद पुराण के मुताबिक आठ ऐसी गलतियां हैं जो हमे कामयाबी से कोसो दूर और नाकरात्मकता में धकेल देती हैं और लाख कोशिशों के बाद भी इन्हें हल नहीं ढूंढ पाते। जानिए वो गलतियां।


1. दाह-संस्कार के वक्त निकलने वाला धुआं। इस धुएं से हर संभव दूर रहना चाहिए। इस धुएं से आप गुजर गए तो ये दुर्भाग्य का संयोग है।
2. किसी के अंतिम संस्कार में किसी अपवित्र या अशुभ चीज को छूना लेना। मृत व्यक्ति के शरीर, उसकी हड्डी या उससे जुड़ी कोई भी वस्तु आप को नकारात्मक ऊर्जा के साए में ले जाएगी जिसके बाद दुर्भाग्य शुरू।
3. खाने की सामग्री का जमीन पर गिरना। खाना जमीन पर नहीं गिरना चाहिए या गिरे हुए भोजन पर पैर रखना शास्त्रों में बेहद गलत माना गया है।
4. दाह-संस्कार के लिए इस्तेमाल होने वाली लकड़ियों को छूना भी गलत माना गया है। ऐसा करने से वहां मौजूद नकारात्मक शक्तियां आपके प्रति आकर्षित होती हैं और फिर जिदंगी भर साथ रहती हैं।
5. घर की साफ सफाई करते वक्त गंदी झाड़ू का शरीर से छू जाना भी गलत माना गया है।
6. शव का स्पर्श। गलती से किसी के शव का स्पर्श कर लेना सबसे बड़ा अपशगुन है। ऐसा हो तो खुद पर गंगा जल छिड़कें। वरना कभी ना खत्म होने वाला दुर्भाग्य आपके पीछे पड़ जाएगा।
7. किसी शुभ कार्य पर जाने से पहले कुत्ते का छू लेना भी बुरा संकेत है। नारद पुराण के अनुसार यह आपके जीवन में आने वाली निर्धनता और दरिद्रता का सूचक है।
8. गंदगी से लिपटे व्यक्ति को नग्न हाथ से कभी नहीं छूना चाहिए। यह आपके आसपास की सकारात्मकता को छीनकर नकारात्मकता भर देता है।