बुलंदशहर एडीजे की फेसबुक आईडी हैक कर खुद को बताया परेशान, फिर व्यापारी से ठग लिए 15 हजार

Bulandshahr : बुलंदशहर एडीजे की फेसबुक आईडी हैक कर खुद को बताया परेशान, फिर व्यापारी से ठग लिए 15 हजार

बुलंदशहर एडीजे की फेसबुक आईडी हैक कर खुद को बताया परेशान, फिर व्यापारी से ठग लिए 15 हजार

Google Image | Symbolic Photo

बुलंदशहर एडीजे की फेसबुक आईडी हैक कर खुद को बताया परेशान, फिर व्यापारी से ठग लिए 15 हजार Bulandshahr : साइबर अपराधियों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं। इस बार अपराधियों ने उत्तर प्रदेश के जनपद बुलंदशहर में तैनात अपर जिला जज की फेसबुक आईडी हैक कर अमरोहा जिले के औद्योगिक नगरी गजरौला के एक व्यापारी नेता से ठगी कर 15 हजार रुपए खाते में ट्रांसफर करा लिए। ठगों ने एडीजे बनकर मैसेंजर पर वार्तालाप के दौरान खुद को परेशान बताया और खाते में पैसे ट्रांसफर करने के लिए कहा। पैसे ट्रांसफर करने वाले व्यक्ति ने शक होने पर पूछताछ की तो पता चला कि उसके साथ ठगी हो गई है। जब मामले की जानकारी अपर जिला जज को हुई तो उनके भी होश उड़ गए। घटना की शिकायत साइबर सेल में दर्ज कराई गई है।

फेसबुक पर मैसेज कर ठग लिए 15 हजार रुपए
पीड़ित व्यक्ति गजरौला के चौपाल निवासी है। पीड़ित का नाम राजू यादव है। राजू यादव सुरक्षा फोरम समिति के नगर अध्यक्ष है और बुलंदशहर के अपर जिला जज हेमंत देव उनके फेसबुक मित्र हैं। दोनों में अक्सर फेसबुक पर वार्तालाप होती रहती है। बुधवार की रात तकरीबन साङे दस बजे जिला जज के फेसबुक मैसेंजर से व्यापारी नेता को मैसेज आया। मैसेज करने वाले व्यक्ति ने पहले कुछ देर उनसे हालचाल जाने इसके बाद एडीजी की तरफ से खुद को परेशान बताया गया और 15 हजार रुपए की मांग की गई। व्यापारी नेता एडीजे के परिचित थे इसलिए उन्होंने ज्यादा समय ना लगाते हुए गूगल पर से 15 हजार रुपए का भुगतान कर दिया। 

25 हजार रुपए और मांगने पर हुआ शक
कुछ देर बाद एडीजी के मैसेंजर से फिर मैसेज आया और 25 हजार रुपए मांगे गए। इस बार व्यापारी को कुछ शक हुआ। उन्होंने अपर जिला जज को तुरंत फोन कर मालूम किया। जिला जज ने ऐसी किसी भी घटना की जानकारी होने से इंकार कर दिया। इसके बाद व्यापारी के होश उड़ गए। ठगी हो जाने के बाद व्यापारी नेता ने पुलिस को जानकारी देते हुए साइबर सेल में शिकायत दर्ज कराई है। प्रभारी निरीक्षक राजेश तिवारी ने बताया कि मामला संज्ञान में आ चुका है। मामले की तहकीकात साइबर सेल से कराई जा रही है।

अन्य खबरे

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.