नाबालिक दुष्कर्म पीड़िता ने दिया बेटी को जन्म, परिवार वाले बेटी के भविष्य के लिए हुए चिंतित

बुलंदशहर : नाबालिक दुष्कर्म पीड़िता ने दिया बेटी को जन्म, परिवार वाले बेटी के भविष्य के लिए हुए चिंतित

नाबालिक दुष्कर्म पीड़िता ने दिया बेटी को जन्म, परिवार वाले बेटी के भविष्य के लिए हुए चिंतित

Google Image | Symbolic Photo

नाबालिक दुष्कर्म पीड़िता ने दिया बेटी को जन्म, परिवार वाले बेटी के भविष्य के लिए हुए चिंतित Bulandshahr : ककोड़ की एक नाबालिग दुष्कर्म पीड़िता ने गौतमबुद्ध नगर के एक निजी अस्पताल में एक बच्चे को जन्म दिया। बच्चे के जन्म के बाद से ही पीड़िता के परिवार वाले उस बच्चे और पीड़िता के भविष्य को लेकर परेशान हैं। पीड़ित से दुष्कर्म करने वाला आरोपी फिलहाल जेल में है। मार्च में आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था।

डरा-धमका कर आरोपी करता रहा दुष्कर्म
मार्च 2022 में 16 वर्षीय किशोरी के परिजनों ने थाने में तहरीर देकर बताया था कि उनकी बेटी एक किसान के खेत पर काम करती थी। कुछ महीने पहले बेटी को डरा धमका कर उससे दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया गया। दुष्कर्म के बाद पीड़िता को जान से मारने की धमकी भी दी गई। पीड़ित के परिवार वालों को भी जान से मारने की धमकी दी गई थी। धमकी की आड़ में आरोपी लगातार दुष्कर्म करता रहा। धमकी के डर से पीड़िता ने किसी को कुछ नहीं बताया। कुछ दिन बाद पीड़िता की तबीयत खराब होने लगी। उपचार के लिए जब चिकित्सक के पास ले जाया गया तब पीड़िता के गर्भवती होने का खुलासा हुआ। खुलासा होने के बाद पीड़िता से पूछताछ की गई तो उसने सारी कहानी बयान की। जिस वक्त खुलासा हुआ तब तक इतना वक्त हो चुका था कि बच्ची के पेट में गर्भ ठहर चुका था। कानूनी और चिकित्सीय पहलुओं को देखने के बाद डॉक्टरों ने गर्भपात करने से इंकार कर दिया।

बेटी के भविष्य के लिए चिंतित है पूरा परिवार
मामले की सूचना मिलने के बाद और परिजनों की तहरीर के आधार पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली थी। बाद में आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। आरोपी फिलहाल अभी भी जेल में है। बुधवार को पीड़िता की तबीयत बिगड़ने लगी। तबीयत बिगड़ने के बाद उसे एक निजी अस्पताल में ले जाया गया। गौतमबुद्ध नगर के एक निधि अस्पताल में पीड़िता ने एक बेटी को जन्म दिया। बेटी के जन्म के बाद से ही परिवार वाले परेशान हैं। उनका कहना है कि अब उनकी बेटी से शादी कौन करेगा। बेटी के कुंवारी मां बनने के बाद से ही समाज में उन्हें सम्मान की नजर से नहीं देखा जा रहा है। परिवार वाले जन्म के बाद से ही पीड़िता के भविष्य के लिए बेहद चिंतित है।

अन्य खबरे

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.