राजधानी से 200 किलोमीटर तक सांस लेना मुहाल

दिल्ली बनी गैस चैंबर : राजधानी से 200 किलोमीटर तक सांस लेना मुहाल

राजधानी से 200 किलोमीटर तक सांस लेना मुहाल

Tricity Today | India Gate

राजधानी से 200 किलोमीटर तक सांस लेना मुहाल New Delhi : राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली इस वक्त गैस चैंबर बानी हुई है। खतरनाक वायु प्रदूषण के कारण दिल्ली और एनसीआर (Delhi NCR) के शहरों का दम घुट रहा है। राजधानी से सटे शहरों और करीब 200 किलोमीटर की दूसरी तक लोगों को सांस लेना मुश्किल हो रहा है। अंदाजा केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की बुधवार शाम 4:00 बजे जारी हुई रिपोर्ट से लगाया जा सकता है। दिल्ली पूरे देश में दिल्ली सबसे प्रदूषित शहर है। राजधानी का एयर क्वालिटी इंडेक्स 424 है।

जो दिल्ली से जितना दूर उतना सुखी
दिल्ली से जो शहर जितनी दूर है, वहां के लोग उतने सुखी हैं। दिल्ली से सटे शहरों में वायु प्रदूषण से बुरा हाल है। बुजुर्ग और बच्चे सांस रोगों की चपेट में आ रहे हैं। दिल्ली के बाद दूसरे नंबर पर फरीदाबाद में एक्यूआई 403 है। ग्रेटर नोएडा में 402 एक्यूआई है। बहादुरगढ़ 400, नोएडा का एक्यूआई 398 है। मानेसर 393, गुरुग्राम 390, और गाजियाबाद 381 पर है। एनसीआर के बाहरी शहरों का भी बुरा हाल है। मतलब, बुलंदशहर का एयर क्वालिटी इंडेक्स 326 है। बागपत का 316, बल्लभगढ़ का 273 और हापुड़ का 318 दर्ज किया गया है। कुल मिलाकर साफ है कि दिल्ली से लेकर 200 किलोमीटर के दायरे तक लोगों का दम घुट रहा है।

क्या विकास का खामियाजा भुगत रहे हैं लोग
वायु प्रदूषण और शिथिल प्रशासन पर नाराजगी जाहिर करते हुए गौतमबुद्ध नगर के विधायक धीरेंद्र सिंह ने जिलाधिकारी सुहास एलवाई को पत्र लिखकर नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने पूछा है, "क्या इस क्षेत्र में हो रहा यह विकास यहां रहने वाले लोगों की जान से ज्यादा जरूरी है। क्योंकि ग्रेटर नोएडा और दनकौर में आज की वायु गुणवत्ता बेहद खराब है। मैं इस वक्त के प्रदूषण स्तर का चित्र भेज रहा हूं। ग्रेटर नोएडा में वायु गुणवत्ता की स्थिति 500 पहुंच चुकी है, जो इंसान की जिंदगी के लिए बेहद खतरनाक है। अगर समय रहते इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो या रहने वाले लोगों का जीवन और स्वास्थ्य संकट में पड़ सकता है।"

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.