नोएडा में सबसे ज्यादा प्रदूषण, इन इलाकों में सांस लेना हुआ मुश्किल

एनसीआर वालों की किस्मत में नहीं है शुद्ध हवा : नोएडा में सबसे ज्यादा प्रदूषण, इन इलाकों में सांस लेना हुआ मुश्किल

नोएडा में सबसे ज्यादा प्रदूषण, इन इलाकों में सांस लेना हुआ मुश्किल

Google Image | Symbolic Photo

Noida : दमघोंटू हवा से दिल्ली एनसीआर के लाखों लोगों को धीरे-धीरे राहत मिलने लगी है लेकिन अभी पूरी तरह स्थिति नियंत्रण में नहीं है। बृहस्पतिवार को एनसीआर की एयर क्वालिटी इंडेक्स रिपोर्ट बहुत खराब श्रेणी में दर्ज की गई है। एक्यूआई घटने के बाद भी एनसीआर की हवा में प्रदुषण खराब श्रेणी में ही है। ठंड के साथ-साथ लोगों को आए दिन बढ़ते प्रदूषण से भी जूझना पड़ रहा है। सोमवार को ग्रेटर नोएडा शहर एनसीआर में सबसे प्रदूषित शहर दर्ज किया गया था, हालांकि कुछ दिनों से एनसीआर की एक्यूआई घटी है। बढ़ते प्रदूषण और सर्दी की दस्तक के बीच बीमारियां भी लोगों तक पहुंचने लगी हैं। ठंड से लोग बुखार, खांसी, जुखाम से जूंझ रहे है तो वही प्रदुषण भी सांस सम्बंधित बिमारियों का कारण बन गया है। जिलेभर में सबसे अधिक सांस से सम्बंधित मरीज पाए जा रहे है।

दिल्ली एनसीआर शहरों की एक्यूआई बराबर श्रेणी 
CPCB एक्यूआई से मिली जानकारी के मुताबिक ग्रेटर नोएडा का एक्यूआई 286, नोएडा 264, गाजियाबाद 269, गुरुग्राम 26 फरीदाबाद 248 दर्ज किया गया है। वहीं राजधानी दिल्ली सबसे प्रदूषित शहर रहा, जिसका एक्यूआई 321से बेहद खबर श्रेणी में रहा। वेस्ट यूपी के बागपत का 213, बुलंदशहर और मेरठ का पहले से बढ़कर 262 दर्ज किया गया, जो मंगलवार 174 के अंदर था। पिछले हफ्ते नोएडा का एक्यूआई 414 था जो अब घट गया है। साथ ही ग्रेटर नोएडा का भी एक्यूआई पहले 300 से ऊपर था, जो 286 है। एक्यूआई घट तो रही पर इसके बाद भी हालात बेहद खराब है। मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक, नए साल के बाद मौसम में बदलाव दिखेगा। साथ ही आने वाले समय में प्रदुषण कम होगा। 

क्या होती है सबसे खराब और सामान्य स्तिथि 
मानकों के मुताबिक शून्य और 50 के बीच AQI को 'अच्छा', 51 और 100 तक 'संतोषजनक', 101 और 200 में 'मध्यम', 201 और 300 के बीच 'खराब', 301 और 400 'बहुत खराब' और 401 और 500 के बीच 'गंभीर' माना जाता है।

Copyright © 2022 - 2023 Tricity. All Rights Reserved.