ग्रेटर नोएडा से यमुना पार जाने के लिए करना होगा इंतजार, फरीदाबाद को जोड़ने वाले पुल की डेडलाइन बढ़ी, ये हैं अड़चनें

बड़ी खबर : ग्रेटर नोएडा से यमुना पार जाने के लिए करना होगा इंतजार, फरीदाबाद को जोड़ने वाले पुल की डेडलाइन बढ़ी, ये हैं अड़चनें

ग्रेटर नोएडा से यमुना पार जाने के लिए करना होगा इंतजार, फरीदाबाद को जोड़ने वाले पुल की डेडलाइन बढ़ी, ये हैं अड़चनें

Tricity Today | मंझावली पुल

ग्रेटर नोएडा से यमुना पार जाने के लिए करना होगा इंतजार, फरीदाबाद को जोड़ने वाले पुल की डेडलाइन बढ़ी, ये हैं अड़चनें ग्रेटर नोएडा-फरीदाबाद को जोड़ने वाला ब्रिज इसी महीने बन कर तैयार होना था। लेकिन इस पर सफर का सपना देखने वालों को और इंतजार करना होगा। इस महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट के निर्माण के लिए नई डेडलाइन तय की गई है। इसके मुताबिक यह पुल इस साल के आखिरी महीने दिसंबर तक संभवतः बन कर तैयार होगा। इसके अलावा एक बड़ा पेंच भूमि अधिग्रहण का भी है। पुल को जमीन से जोड़ने के लिए जमीन अब तक नहीं खरीदी गई है। पीडब्ल्यूडी ने कहा है कि दिसंबर महीने के अंत तक पुल का निर्माण पूरा कराने का प्रयास किया जाएगा। 

24 किमी लंबा प्रोजेक्ट है
बताते चलें कि फरीदाबाद को ग्रेटर नोएडा से जोड़ने के लिए 24 किलोमीटर लंबे प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है। इसके लिए गांव मंझावली में यमुना नदी पर फोर लेन पुल बनाया जाना है। पुल को फरीदाबाद शहर से जोड़ा जाएगा। इसके लिए फरीदाबाद की सीमा में 19 किलोमीटर व यूपी की सीमा में करीब 5 किलोमीटर लंबी सड़क बनाई जानी है। पहले चरण में पुल का काम किया जा रहा है। मगर कोरोना महामारी की वजह से बिगड़े हालातों को देखते हुए इसमें देरी से इनकार नहीं किया जा सकता।



630 मीटर लंबा पुल बनना है
मंझावली में यमुना नदी पर तकरीबन 122 करोड़ रुपये की लागत से इस महत्वपूर्ण 630 मीटर लंबे फोर लेन पुल का प्रोजेक्ट शुरू किया गया। इसका निर्माण कार्य साल 2018 के शुरुआत में शुरू हुआ था। तब निर्माण पूरा करने के लिए लगभग डेढ़ साल की डेडलाइन तय की गई। मगर अनेकानेक कारणों की वजह से इसके काम में देरी होती रही। साल 2020 के मार्च महीने में कोरोना संक्रमण व लॉकडाउन के चलते पुल का काम धीमा पड़ गया। हालांकि बीच में काम को थोड़ी गति मिली। मगर लेबर की कमी व संक्रमण बढ़ने से काम फिर से ठप हो गया है।

नहीं मिल रही रफ्तार
पीडब्ल्यूडी ने पुल का निर्माण कार्य पूरा करने के लिए जून महीने का टारगेट तय किया था। मगर हकीकत में अभी पुल के लिए बनाए गए पिलर पर गार्डर रखने का काम भी नहीं हो सका है। बरसात का मौसम आने वाला है। इस दौरान यमुना का जल स्तर बढ़ जाएगा। इसके चलते 2-3 महीने काम फिर बंद रहेगा। जल स्तर कम होने के बाद ही काम को गति मिल सकेगी। अब पीडब्ल्यूडी की योजना है कि इसे दिसंबर महीने तक पूरा कराया जाएगा। पीडब्ल्यूडी एक्सईएन प्रदीप सिंधु ने बताया कि कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन और  लेबर की कमी भारी पड़ रही है। कुछ अन्य कारण भी हैं, जिनके चलते मंझावली पुल का काम रफ्तार नहीं पकड़ सका है। हमारा प्रयास है कि दिसंबर तक प्रोजेक्ट को पूरा कर लिया जाए। सब ठीक रहा तो आने वाले दिनों में काम को गति मिलेगी।

भूमि भी है बड़ी अड़चन
पुल को फरीदाबाद से जोड़ने के लिए मंझावली से खेड़ी पुल की तरफ आने वाली सड़क की चौड़ाई को बढ़ाकर 10 मीटर किया जाना है। इसके लिए लगभग 25 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया जाना है। गांव मंझावली व चीरसी में बाईपास सड़क बनाई जाएगी। खरीदी जाने वाली जमीन चिन्हित कर ली गई है। किसानों से सहमति पत्र के साथ जमीन का ब्यौरा ई-भूमि पोर्टल पर अपलोड हो चुका है। मगर उच्चाधिकारियों की तरफ से इसे मंजूरी मिलना बाकी है। कोरोना संक्रमण के चलते पिछले लंबे वक्त ये यह लंबित है। इस वजह से जमीन खरीदने का काम अभी तक नहीं हो सका है। जब तक जमीन का अधिग्रहण नहीं होगा, पुल को सड़क से नहीं जोड़ा जा सकेगा। ऐसे में अगर पुल तैयार भी हो जाए, तो उसका इस्तेमाल नहीं हो सकेगा।

 

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.