यूपी बोर्ड परीक्षाः गौतमबुद्ध नगर के 8 केंद्रों ने माध्यमिक शिक्षा परिषद को भेजी आपत्ति, इन परेशानियों को बनाया आधार

गौतमबुद्ध नगर के 8 केंद्रों ने माध्यमिक शिक्षा परिषद को भेजी आपत्ति, इन परेशानियों को बनाया आधार

Google Image | यूपी बोर्ड परीक्षा के लिए 56 केंद्र बनाए गए हैं

गौतमबुद्ध नगर में यूपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं को लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं। इस संबंध में जिले के 8 स्कूलों ने माध्यमिक शिक्षा परिषद में आपत्ति दर्ज कराई है। इन सभी विद्यालयों को परीक्षा केंद्र बनाया गया था। इनकी तरफ से आपत्ति में अलग-अलग मसलों को आधार बनाया गया है। शनिवार की देर रात शिक्षा विभाग को इनकी रिपोर्ट मिल गई है। अब जिला प्रशासन की अगुवाई में जिला विद्यालय निरीक्षक की टीम इन आपत्तियों के निस्तारण का मार्ग तलाशेगी। इसके बाद परीक्षा केंद्र फिर निर्धारित किए जाएंगे। 

दरअसल जिला प्रशासन ने विद्यालयों से बोर्ड परीक्षा में आने वाली चुनौतियों के संबंध में जानकारी मंगाई थी। नोएडा के जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ धर्मवीर सिंह ने इस बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि स्कूलों से आपत्ति मांगी गई थी। इससे पहले 59 स्कूलों ने आपत्ति दर्ज कराई थी। इनमें से कई ने दूरी का हवाला दिया था। कई विद्यालय प्रबंधन ने शिक्षकों की कमी की बात कही। कुछ स्कूलों ने मौजूदा संसाधनों को बोर्ड परीक्षा के लिहाज से अपर्याप्त बताया। 

जिलाधिकारी की अध्यक्षता में बैठक कर इन सभी मसलों को हल कर लिया गया था। इसके बाद ही परीक्षा केंद्रों की सूची माध्यमिक शिक्षा परिषद को भेजी गई थी। शिक्षा बोर्ड ने स्कूलों को दोबारा आपत्ति दर्ज कराने का मौका दिया था। इसमें जिले के 8 स्कूलों ने आपत्ति की है। इनमें से ज्यादातर विद्यालयों ने छात्रों की संख्या अधिक होने की बात कही है। इनका शीघ्र निस्तारण किया जाएगा।

पिछले साल से ज्यादा केंद्र
दरअसल यूपी बोर्ड की परीक्षा के लिए जिले में 56 केंद्रों को फाइनल किया गया था। पिछले वर्ष 47 केंद्रों पर एग्जाम हुए थे। मगर कोरोना वायरस गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए इस बार केंद्रों की संख्या में इजाफा हुआ है। शिक्षा विभाग का कहना है कि ऐसे विद्यालयों को केंद्र बनाया गया है, जहां पहुंचने में परीक्षार्थियों को ज्यादा परेशानी न हो। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा सके। इसलिए सिर्फ उन्हीं स्कूलों को चुना गया है, जहां पर कक्षाएं 36 स्वॉयर फुट की हैं। ताकि छात्रों के बीच शारीरिक दूरी रखी जा सके।

अन्य खबरे

Copyright © 2019-2020 Tricity. All Rights Reserved.