ब्लैक फंगस से एक निवासी की मौत, स्वास्थ्य विभाग की बढ़ी मुश्किलें, अब तक जनपद में 60 मरीज मिले

GHAZIABAD NEWS : ब्लैक फंगस से एक निवासी की मौत, स्वास्थ्य विभाग की बढ़ी मुश्किलें, अब तक जनपद में 60 मरीज मिले

ब्लैक फंगस से एक निवासी की मौत, स्वास्थ्य विभाग की बढ़ी मुश्किलें, अब तक जनपद में 60 मरीज मिले

Google Image | ब्लैक फंगस से एक निवासी की मौत

ब्लैक फंगस से एक निवासी की मौत, स्वास्थ्य विभाग की बढ़ी मुश्किलें, अब तक जनपद में 60 मरीज मिले गाजियाबाद में ब्लैक फंगस का असर धीरे-धीरे कम हो रहा है। जिले में अब तक इसके 60 मरीज सामने आए हैं। इनमें से 30 को अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है। इनमें से कुछ का ओपीडी के जरिए उपचार चल रहा है। बीते मंगलवार को ब्लैक फंगस का नया मामला सामने आया था। स्वास्थ्य अधिकारी के अनुसार जिले में अब ब्लैक फंगस के 60 मरीज सामने आ चुके हैं। इनमें से 30 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। बीमारी की वजह से एक मरीज की मौत हो चुकी है। 29 मरीजों का उपचार चल रहा है। 

इनमें से 9 मरीज यशोदा में, 10 मरीज हर्ष पॉली क्लीनिक, 7 मरीज मैक्स और 2 मरीजों का पल्मोनिक अस्पताल में इलाज चल रहा है। डॉ बीपी त्यागी ने बताया कि उनके पास 23 मरीज आए थे। जिनमें से 12 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। एक मरीज की मौत हो गई थी। जिन मरीजों को छुट्टी दी गई है, उनका ओपीडी के जरिए अभी उपचार चल रहा है। मरीजों को हर तीसरे दिन सफाई के लिए बुलाया जाता है। डॉ त्यागी ने बताया कि जब तक फंगस पूरी तरह से साफ और नया फंगस बनना बंद नहीं होगा, तब तक इलाज जारी रहेगा। 

इसमें 6 सप्ताह तक का वक्त लग सकता है। हालांकि अधिकांश मरीज तेजी से रिकवर कर रहे हैं। डॉ त्यागी ने बताया कि एंफोटेरिसिन-बी इंजेक्शन की कमी बनी हुई है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन से मांग की गई है। इसके अलावा दवा कंपनियों से भी संपर्क किया जा रहा है। ब्लैक फंगस के उपचार में प्रयोग होने वाली अन्य दवाओं की भी किल्लत है। हालांकि बहुत सी ओरल दवाएं आसानी से मिल रही हैं। विभाग का कहना है कि जल्दी ही जरूरी मेडिसिन की किल्लत समाप्त हो जाएगी।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.