बच्चों को अगवा कर बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश, अलीगढ़ से मुंबई तक फैला नेटवर्क, ग्रेटर नोएडा के 4 गिरफ्तार

बड़ी खबरः बच्चों को अगवा कर बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश, अलीगढ़ से मुंबई तक फैला नेटवर्क, ग्रेटर नोएडा के 4 गिरफ्तार

बच्चों को अगवा कर बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश, अलीगढ़ से मुंबई तक फैला नेटवर्क, ग्रेटर नोएडा के 4 गिरफ्तार

Tricity Today | पुलिस की गिरफ्त में आरोपी

बच्चों को अगवा कर बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश, अलीगढ़ से मुंबई तक फैला नेटवर्क, ग्रेटर नोएडा के 4 गिरफ्तार Ghaziabad News: गाजियाबाद पुलिस (Ghaziabad Police) ने बच्चा चोरी करके निसंतान दंपतियों को बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। साहिबाबाद पुलिस ने तीन महिलाओं समेत पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर बच्चा सकुशल बरामद किया है। यह गिरोह बच्चों को सौंपने के बदले में लाखों का सौदा करते थे। मांग के मुताबिक पैसे और वैसे बच्चे को अगवा करते थे। पुलिस सभी अभियुक्तों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर रही है।

बुधवार को साहिबाबाद थाने में घटना का खुलासा कतरे हुए सीओ साहिबाबाद आलोक दुबे ने बताया, साहिबाबाद थाना प्रभारी नागेन्द्र चौबे, एसएसआई संजीव कुमार, एसआई संदीप कुमार की टीम ने बच्चा चोरी करने वाले गिरोह की महिला सोनिया पत्नी दौलतराम शर्मा निवासी चिरंजी लाल कॉलोनी बिसाहडा रोड दादरी, संगीता पत्नी आशीष चौधरी शंकरपुरी छपरौला बिसरख, राकेश कुमार पुत्र राजाराम निवासी सूरज विहार कॉलोनी बिसाहडा को गिरफ्तार किया है। साथ ही टीम ने बच्चा खरीदने वाले रजनीश गर्ग पुत्र डालचन्द, कविता गर्ग पत्नी रजनीश गर्ग निवासी सूरज विहार कॉलोनी बिसाहडा को गिरफ्तार किया है। 



इनके कब्जे से बुधवार सुबह अर्थला मेट्रो स्टेशन के पास से बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया गया। दिसंबर 2020 में दुर्योधन पुत्र ठाकुरदास निवासी गंगा नगर कॉलोनी गांधी पार्क अलीगढ ने उक्त बच्चे को चोरी किया था। बच्चे को संगीता एवं सोनिया की मदद से गौतमबुद्ध नगर निवासी रजनीश गर्ग को दो लाख में बेच दिया गया था। आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। दरअसल अलीगढ पुलिस ने 5 अगवा बच्चे बरामद किए थे। इसमें दुर्योधन व गिरोह के अन्य सदस्य जेल जा चुके हैं। दुर्योधन से मिली जानकारी के बाद साहिबाबाद से चोरी एक बच्चा आजम खान को अलीगढ से बरामद किया जा चुका है। 

दूसरे बच्चे आरव को हिण्डन पुल हज हाउस के पास से दुर्योधन ने चुराया था। उसको सोनिया व संगीमा की निशानदेही पर दादरी से बरामद किया गया है। गिरोह के अन्य सदस्यों के साथ पकड़े गए लोगों का इतिहास खंगाला जा रहा है। सीओ ने बताया कि पकड़े गये आरोपी बच्चा चोरी कर निसन्तान दंपत्ति को लाखों रूपए में बेच देते थे। मूलरूप से कानपुर देहात के खजूरी कला निवासी संजू अर्थला स्थित हज हाउस के पास रहते हैं। उनका डेढ़ साल का बेटा आरव 23 दिसंबर 2020 की दोपहर को गायब हो गया था। संजू ने 25 दिसंबर को साहिबाबाद थाने में आरव के अपहरण की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। उसके बाद से पुलिस बच्चे की तलाश में जुटी थी। 

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.