गाजियाबादः दुकान बेचने का झांसा देकर परिचित ने अधिकारी को लगाया 20 लाख का चूना, पैसे मांगने पर जान से मारने की दी धमकी, जानें पूरा प्रकरण

दुकान बेचने का झांसा देकर परिचित ने अधिकारी को लगाया 20 लाख का चूना, पैसे मांगने पर जान से मारने की दी धमकी, जानें पूरा प्रकरण

Tricity Today | मोदीनगर में 20 लाख की ठगी हुई है

  • किसी और की दुकान को अपना बताकर 20 लाख रुपये हड़पे
  • कोर्ट के आदेश पर मजबूरन पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा
गाजियाबाद जिले के मोदीनगर में दूसरे की दुकान को अपना बताकर एक कंपनी के अधिकारी से धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। यहां अधिकारी के एक परिचित ने पत्नी और भाई तथा एक अन्य के साथ मिलकर बैनामा और पत्नी की बीमारी के बहाने 20 लाख रुपए की ठगी कर ली। जब पीड़ित इसकी शिकायत करने जा रहा था, तो आरोपियों ने घेरकर उसके साथ मारपीट की। उसे जान से मारने की धमकी देते हुए गले से चेन लूट ली। कोर्ट के आदेश पर कविनगर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जांच कर रही है।

परिचित से किया जिक्र 
मोदीनगर की नई कॉलोनी, देवेंद्रपुरी निवासी दीपक गुरूग्राम की एक कंपनी में अधिकारी हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें मोदीनगर में एक दुकान की तलाश थी। इस सिलसिले में वह अपने परिचित रविंद्र से मिले। दोनों के बीच दुकान खरीदवाने के बारे में चर्चा हुई। रविंद्र ने कहा कि मोदीनगर में उनकी एक दुकान है। अगर वह उसे लेना चाहते हैं, तो देख लें। पीड़ित ने बताया कि अगले दिन वह रविंद्र के साथ दुकान देखने गया। उन्हें दुकान भा गई। 

25 लाख में डील फाइनल हुई
25 लाख रुपए में दुकान बेचने पर सहमति बनी। बैनामा के तौर पर 5 लाख रुपए दे दिए गए। बाकी रकम दुकान की रजिस्ट्री के दौरान देने की बात हुई। उन्होंने बताया कि रजिस्ट्री के समय रविंद्र ने उनसे कहा कि उनकी पत्नी की तबीयत खराब है और उनका ऑपरेशन होना है। इसके लिए उन्हें रुपये की जरूरत है। दीपक ने बताया कि पहले से जान-पहचान होने की वजह से उन्होंने रविंद्र को 15 लाख रुपए और दे दिए।

देरी होने पर पता किया तो सच्चाई सामने आई
मगर रजिस्ट्री में विलंब होने पर पीड़ित ने दुकान पर जाकर पता किया। तब मालूम हुआ कि दुकान रविंद्र और उसकी पत्नी सुनीता की नहीं है, बल्कि किसी और की है। दीपक ने बताया कि मामले की शिकायत उन्होंने पुलिस से करते हुए उच्च अधिकारियों से की। इससे बौखलाए रविंद्र ने उन्हें पत्नी सुनीता, भाई ओमप्रकाश के अलावा एक अन्य के साथ मिलकर राजनगर आरडीसी में घेर लिया। आरोपियों ने उन्हें जान से मारने की धमकी देते हुए मारपीट की और चेन लूट ली। 

कोर्ट के आदेश पर मामला दर्ज
इसकी शिकायत पुलिस से की गई। मगर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की। तब दीपक ने कोर्ट की शरण ली। कोर्ट के आदेश पर अब पुलिस ने उक्त लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी और लूट की धारा में रिपोर्ट दर्ज किया है। पुलिस का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। दोषियों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.