सनसनीखेजः पति ने पत्नी और पुत्र की हत्या के लिए दी सुपारी, मासूम को देखकर किलर ने बदला फैसला, जानें इस हैरतअंगेज घटनाक्रम का हर पहलु

पति ने पत्नी और पुत्र की हत्या के लिए दी सुपारी, मासूम को देखकर किलर ने बदला फैसला, जानें इस हैरतअंगेज घटनाक्रम का हर पहलु

Social Media | पुलिस की गिरफ्त में आरोपी पति और दोस्त

गाजियाबाद के कविनगर क्षेत्र में एक महिला और चार साल के बच्चे की सुपारी किलिंग के मामले ने सबको चौंका दिया। 25 फरवरी को किलर दोनों को मारने उनके घर पहुंचा। मगर चार साल के मासूम को देखकर उसका दिल पसीज गया। उसने हत्या करने के बजाय महिला को सारी सच्चाई बता दी और बिना वार किए खाली हाथ ही लौट गया। उसके बाद इस मामले की हकीकत सामने आई। जिसने भी इस घटना के बारे में सुना, वह चकित रह गया। मामले में पति ने पत्नी और बच्चे की हत्या कराने के लिए 10 लाख की सुपारी दी। इसका एक वीडियो भी वायरल हुआ है। महिला ने जिले के कविनगर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराया। इसमें कहा गया कि पति, उनकी हत्या करा कर बीमा के पैसे हड़पना चाहता है। पुलिस ने मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। 

सीओ द्वितीय अवनीश कुमार ने घटना के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आरोपित अजय कुमार यादव महिंद्रा एंक्लेव का रहने वाला है। दूसरा आरोपी विजय नगर का रहने वाला रामप्रकाश है। इन दोनों से दो तमंचे और पांच कारतूस बरामद हुए हैं। इसी से अजय की पत्नी राखी की हत्या की योजना बनी थी। पुलिस तमंचा बेचने वाले की तलाश कर रही है। हालांकि सुपारी लेने वाला मुख्य अभियुक्त गजराज फरार है। अजय ने अपनी पत्नी की हत्या के लिए गजराज को ही 10 लाख रुपए देने की बात कुबूल की थी। रामप्रकाश ने अजय की मुलाकात गजराज से करवाई। गजराज पर लूट और गैंगस्टर से जुड़ी कई धाराओं में पहले से कई केस दर्ज हैं। वह पहले भी हवालात जा चुका है। 

एक्सीडेंट में जान लेना तय हुआ
गत 25 फरवरी को गजराज जब राखी को मारने पहुंचा, तो बच्चे को देखकर उसका ह्दय द्रवित हो उठा। उसी दौरान अजय ने उसे कॉल किया। अजय ने कहा कि हत्या के लिए ही 10 लाख देने की डील हुई है। हत्या नहीं हुई, तो पैसे नहीं मिलेंगे। साथ ही अजय ने उन्हें गोली नहीं मारने के लिए कहा। उसने उनकी मौत को एक्सीडेंट दिखाने की बात कही। ताकि, उसे क्लेम कर बीमा का पैसा लेने में परेशानी न हो।

दोनों ने प्रेम विवाह किया था
राखी बताती हैं, ‘अजय और मैंने प्रेम विवाह किया था।’ अजय मूल रूप से आजमगढ़ के सरायमीर जन का निवासी है और वह एमबीए ग्रैजुएट है। फिलहाल एक मेडिसिन कंपनी में एमआर (मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव) के रूप में काम कर रहा है। राखी बिहार के पटना की रहने वाली है। उन दोनों का एक चार साल का बेटा है। शादी के बाद सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था। लेकिन बीते एक साल से दोनों में विवाद शुरू हो गया। इस हादसे के बाद राखी सदमें में है। वह पति के किसी दूसरी महिला से अवैध संबंध का शक जता रही है। पुलिस भी इस एंगल को ध्यान में रखकर छानबीन कर रही है। 

जुर्म कबूल किया
पुलिस की पूछताछ में अजय ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। उसने कहा कि उससे गलती हो गई। हालांकि अब तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि राखी की मौत के बाद अजय को बीमा के कितने पैसे मिलने थे। क्योंकि अजय ने क्लेम के पैसे मिलने के बाद ही सुपारी की रकम देने की बात कही थी।

चार साल के मासूम ने बचाई मां की जान
राखी ने बताया कि पति से सुपारी फाइनल करने के बाद किलर ने उनका पीछा शुरू कर दिया था। वह मां-बेटे को सड़क हादसे में मारने की फिराक में था। इसके लिए उसने कई बार कार से उनका पीछा भी किया, मगर अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हो सका। खुद सुपारी किलर ने राखी को यह सब बताया। हालांकि उसने बताया था कि अगर वह उसे अकेली मिल जाती, तो वह कार से कुचलकर उसे मार देता। मासूम ने उसकी जान बचा ली।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.