चूहे मारने की दवा खाकर एसएसपी कार्यालय पहुंचा लापता पत्नी का सुहाग, कहा- ऐसी जिंदगी से अच्छा मर जाऊं

गाजियाबाद : चूहे मारने की दवा खाकर एसएसपी कार्यालय पहुंचा लापता पत्नी का सुहाग, कहा- ऐसी जिंदगी से अच्छा मर जाऊं

चूहे मारने की दवा खाकर एसएसपी कार्यालय पहुंचा लापता पत्नी का सुहाग, कहा- ऐसी जिंदगी से अच्छा मर जाऊं

Tricity Today | जहर खाकर गाजियाबाद एसएसपी कार्यालय पहुंचे युवक

चूहे मारने की दवा खाकर एसएसपी कार्यालय पहुंचा लापता पत्नी का सुहाग, कहा- ऐसी जिंदगी से अच्छा मर जाऊं Ghaziabad : बीते 16 जुलाई से लापता पत्नी का पता नहीं चलने से परेशान पति ने गुरुवार को जहर खाकर एसएसपी कार्यालय पहुंच गया। जब उसने मौजूद पुलिसवालों को जहर खाकर आने की बात बताई, तो हड़कंप मच गया। आनन-फानन में सुमित उर्फ मोनू चौधरी को नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया। 

रैट किलर खाकर पुलिस वालों के सामने पहुंचा
युवक का कहना था कि जब हर कोई मुझ पर शक कर रहा है, तो जेल जाने से बेहतर है कि खुद मर जाऊं। गुरुवार दोपहर मोनू बदहवास हालत में एसएसपी कार्यालय पहुंचा। उसने कार्यालय पर खड़े पुलिसकर्मियों को बताया कि वह रैट किलर खाकर आया है। इसके साथ ही उसने अपना हाथ बढ़ाकर सुसाइड नोट पुलिस वालों को थमा दिया। यह सुनकर पुलिसकर्मियों के होश उड़ गए। उन्होंने तुरंत गाड़ी की व्यवस्था कर मोनू को अस्पताल भिजवाया।

8 महीने पहले हुई थी शादी
गांव उझैड़ा निवासी मोनू ने करीब 8 महीने पहले नेहा चौधरी से लव मैरिज की थी। शादी के बाद से दोनों कविनगर थाना क्षेत्र की मानसरोवर पार्क कॉलोनी में रह रहे थे। बीते 16 जुलाई की दोपहर करीब ढाई बजे नेहा चौधरी संदिग्ध परिस्थतियों में लापता हो गई। 

अभी तक नहीं चला कोई पता
पीड़ित के अनुसार पुलिस ने करीब 3 दिन बाद गुमशुदगी दर्ज की थी। अभी तक पत्नी का कुछ पता नहीं चल रहा। मोनू ने बताया कि तब से वह दर-दर की ठोकरें खा रहा है। मोनू ने सुसाइड नोट में जितेंद्र नामक शख्स समेत कई लोगों के नाम लिखे हैं। आरोप है कि उन्होंने उसकी पत्नी को गायब कर दिया है। हालांकि, अभी ये पता नहीं चला है कि जिन लोगों पर आरोप लगाया गया है, उनका मोनू और नेहा से क्या संबंध है। 

दोनों परिवार और रिश्तेदारों से अलग रह रहे थे
मोनू ने सुसाइड नोट में यह भी लिखा है कि नेहा से लव मैरिज करने के बाद परिवार और रिश्तेदार सब दूर हो गए हैं। इसलिए वह घर से अलग रह रहा था। अब पत्नी के गायब होने के बाद कोई उसका साथ नहीं दे रहा है। पुलिस भी नहीं सुन रही है। ऐसे में उसके पास करने के अलावा कोई और विकल्प नहीं है। कविनगर थाने के प्रभारी एसएचओ ने बताया कि उन्हें इस मामले की पूरी जानकारी नहीं है। उधर कप्तान का कहना है कि इस प्रकरण में जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.