परिवार के 7 लोगों की हत्याएं और 9 साल चली सुनवाई, आज होगा आरोपी ड्राइवर की सजा का फैसला

गाजियाबाद नरसंहार कांड : परिवार के 7 लोगों की हत्याएं और 9 साल चली सुनवाई, आज होगा आरोपी ड्राइवर की सजा का फैसला

परिवार के 7 लोगों की हत्याएं और 9 साल चली सुनवाई, आज होगा आरोपी ड्राइवर की सजा का फैसला

Google Image | प्रतीकात्मक फोटो

परिवार के 7 लोगों की हत्याएं और 9 साल चली सुनवाई, आज होगा आरोपी ड्राइवर की सजा का फैसला Ghaziabad News : घंटाघर नई बस्ती मोहल्ले में कारोबारी परिवार के 7 लोगों की हत्या करने के मामले में आरोपी पूर्व ड्राइवर को अदालत ने शनिवार को दोषी ठहराया है। सजा पर फैसले के लिए 1 अगस्त तारीख तय गई की है। हत्यारे राहुल वर्मा पर कारोबारी के घर से घटना के बाद लाखों रुपए के गहने और जेवरात लूटकर भागने का मामला सिद्ध हुआ है। सनसनीखेज मामले की सुनवाई शनिवार को कोर्ट के विशेष न्यायाधीश की अदालत में हुई।

जानिए 7 हत्याकांड के मामला
जिला शासकीय अधिवक्ता राजेश चंद्र शर्मा ने बताया कि अदालत ने पुख्ता साक्ष्य, गवाही और फॉरेंसिक रिपोर्ट के आधार पर 7 हत्याकांड के मामले में कारोबारी के पूर्व कार चालक राहुल वर्मा को दोषी ठहराया है। उन्होंने बताया कि सनसनीखेज हत्याकांड में शामिल इकलौता हत्यारोपी राहुल करीब 9 साल से डासना जेल में बंद है।

21 मई 2013 की रात की घटना
दरअसल, घंटाघर कोतवाली क्षेत्र में 21 मई 2013 की रात सनसनीखेज घटना हुई थी। घंटाघर नई बस्ती मोहल्ले में रहने वाले बुजुर्ग कारोबारी सतीश गोयल और उनके पूरे परिवार की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई थी। मृतक कारोबारी के दामाद सचिन मित्तल ने कोतवाली थाने में अज्ञात बदमाशों के खिलाफ हत्याकांड का मुकदमा दर्ज कराया था। मृतकों में कारोबारी सतीश गोयल, उनकी पत्नी मंजू गोयल, बेटे सचिन गोयल, पुत्रवधू रेखा गोयल और तीन पौत्र-पौत्री शामिल थे।

अंतिम सुनवाई के लिए तारीख तय
जिला शासकीय अधिवक्ता राजेश चंद्र शर्मा और सहायक शासकीय अधिवक्ता संजय त्यागी ने बताया कि इस मामले में कोर्ट में सुनवाई चल रही है। अदालत में अभियोजन पक्ष के साथ बचाव पक्ष की ओर से गवाही पूरी हो चुकी है। अदालत ने 30 जुलाई को अंतिम सुनवाई के लिए तारीख तय की थी। अधिवक्ता ने बताया कि 21 मई 2013 की रात घंटाघर बाजार से सटे नई बस्ती मोहल्ले में कारोबारी सतीश गोयल और उनके परिवार के सात लोगों की हत्या कर दी गई थी। हत्याकांड के बाद शहर के व्यापारी संगठनों में जबर्दस्त रोष और आक्रोश था।

राहुल वर्मा पर आरोप 
वारदात के बाद शहर कोतवाली के तत्कालीन प्रभारी को निलंबित कर दिया गया था। वारदात के बाद पुलिस ने विवेचना शुरू की और घटना के 1 दिन बाद सनसनीखेज हत्या के आरोप में राहुल वर्मा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। पुलिस ने राहुल के पास से 6 हजार रुपए नकद और सोने चांदी के लाखों के जेवरात बरामद किए थे। कोतवाली पुलिस ने दो दिन बाद 24 मई को हत्यारे राहुल वर्मा को पुलिस रिमांड पर लेकर हत्या में प्रयुक्त चाकू और खून से सने कपड़े भी बरामद किए थे। राहुल वर्मा कारोबारी का कार चालक था। राहुल घटना से करीब 15 दिन पहले कारोबारी सतीश गोयल के घर से साढ़े चार लाख रुपए चोरी कर फरार हो गया था और तब से नौकरी पर नहीं आ रहा था।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.