फिर बढ़ने जा रही जमीन की कीमत, देखिए नए सरकारी रेट

ये हैं गाजियाबाद के 10 सबसे महंगे रिहायशी इलाके : फिर बढ़ने जा रही जमीन की कीमत, देखिए नए सरकारी रेट

फिर बढ़ने जा रही जमीन की कीमत, देखिए नए सरकारी रेट

Tricity Today | Ghaziabad City

फिर बढ़ने जा रही जमीन की कीमत, देखिए नए सरकारी रेट Land Rates Hike in Ghaziabad : दिल्ली-एनसीआर के शहरों में गाजियाबाद में आज भी घर बनाना आसान बात नहीं है। टॉप रिहायशी इलाकों में जमीनों की कीमत आसमान छू रही हैं। अब आने वाले दिनों में इस शहर के पॉश इलाकों में घर बनाने का सपना और महंगा हो जाएगा। दरअसल, गाजियाबाद जिला प्रशासन जमीन की सरकारी कीमत यानी सर्किल रेट बढ़ाने जा रहा है। जाहिर सी बात है कि प्रॉपर्टी बाजार में कीमतें और ज्यादा बढ़ जाएंगी। आज हम आपको गाजियाबाद शहर के टॉप 10 आवासीय इलाकों में जमीन की मौजूदा कीमत है और बढ़ोत्तरी के बारे में बता रहे हैं।

कौशाम्बी नंबर वन, उसके बाद वैशाली, वसुंधरा और इंदिरापुरम
गाजियाबाद में सबसे महंगा रेजिडेंशियल एरिया कौशांबी बना हुआ है। पिछले करीब चार दशकों से गाजियाबाद शहर में कौशांबी नंबर वन है। यहां तमाम वीआईपी और वीवीआईपी रह रहे हैं। मौजूदा वक्त में आवासीय भूखंडों की कीमत डेढ़ से दो लाख रुपये वर्गमीटर तक हैं। हालांकि, सरकारी कीमत 72,500 से 90,000 रुपये प्रति वर्गमीटर है। जिसे बढ़ाकर 76,000 से 95,000 प्रति वर्गमीटर किया जा रहा है। मतलब साफ है कि आने वाले दिनों में कौशांबी में रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी की कीमत दो लाख रुपये वर्गमीटर के पार पहुंचने वाली है। दरअसल, गाजियाबाद का यह इलाका राजधानी दिल्ली से बिल्कुल सटा हुआ है। गाजियाबाद जिला प्रशासन सबसे ज्यादा बढ़ोतरी इसी इलाके में कर रहा है। पांच हजार रुपये प्रति वर्ग मीटर तक बढ़ोतरी की जा रही है। दिल्ली का आनंद विहार और गाजियाबाद का कौशांबी सड़क के आमने-सामने हैं। दूसरे नंबर पर वैशाली और तीसरे नंबर पर वसुंधरा आवासीय क्षेत्र हैं।

कौशाम्बी, वसुंधरा और वैशाली में जमीन की कीमतों पर एक नजर

इस वजह से जमीन की कीमत तेजी से बढ़ीं
गाजियाबाद में पिछले तीन-चार वर्षों के दौरान एक्सप्रेसवे और रैपिड रेल कॉरिडोर जैसे प्रोजेक्ट आए हैं। इनके आसपास सबसे ज्यादा रेट बढ़ेंगे। जिला प्रशासन से मिली जानकारी के मुताबिक दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे, ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे और दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल कॉरिडोर के निर्माण के बाद इनके आसपास कॉलोनियां विकसित होनी शुरू हो गई हैं। इनके आसपास जमीनों के बाजार भाव सबसे ज्यादा बढे़ हैं। दुहाई क्षेत्र में विकसित हो रही नई कॉलोनियों में कुछ साल पहले तक 10-12 हजार रुपये प्रतिवर्ग मीटर रेट थे, वहीं, अब 20-25 हजार रुपये प्रति वर्गमीटर रेट हो गए हैं। इसी तरह डासना, मसूरी में दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे और मुरादनगर, मोदीनगर में रैपिड रेल कॉरिडोर के निर्माण का असर जमीनों के रेट पर पड़ रहा है। 

अब खेती की जमीन के रेट भी बढ़ाए जाएंगे
इन क्षेत्रों में कृषि भूमि के सर्किल रेट करीब 10 से 12 फीसदी बढ़ाए जाने की तैयारी कर ली गई है। गाजियाबाद के एडीएम (वित्त एवं राजस्व) विवेक श्रीवास्तव ने बताया कि नए सर्किल रेट की सूची सारे सरकारी दफ्तरों में चस्पा कर दी गई हैं। इन पर कलक्ट्रेट के कमरा नंबर-120 में आपत्तियां दाखिल कर सकते हैं। इस कक्ष में लोग 3 अगस्त तक आपत्तियां दे सकेंगे। इसके बाद भूमि दर निर्धारण समिति इन आपत्तियों पर सुनवाई करके निस्तारण करेगी। अगले सप्ताह पूरे जिले में नए सर्किल रेट लागू कर दिए जाएंगे।

गाजियाबाद के कुछ और महंगे आवासीय इलाके

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.