ग्रेटर नोएडा वेस्ट की जनता का ऐलान, रजिस्ट्री नहीं तो वोट नहीं, 50 हजार से ज्यादा लोग करेंगे चुनाव का बहिष्कार

BIG BREAKING : ग्रेटर नोएडा वेस्ट की जनता का ऐलान, रजिस्ट्री नहीं तो वोट नहीं, 50 हजार से ज्यादा लोग करेंगे चुनाव का बहिष्कार

ग्रेटर नोएडा वेस्ट की जनता का ऐलान, रजिस्ट्री नहीं तो वोट नहीं, 50 हजार से ज्यादा लोग करेंगे चुनाव का बहिष्कार

Tricity Today | सरकार के खिलाफ प्रदर्शन

ग्रेटर नोएडा वेस्ट की जनता का ऐलान, रजिस्ट्री नहीं तो वोट नहीं, 50 हजार से ज्यादा लोग करेंगे चुनाव का बहिष्कार
  •  घर खरीदारों ने किया प्रदर्शन
  • फ्लैट्स की रजिस्ट्री को लेकर किया प्रदर्शन
  •  निवासी बोले, अगर रजिस्ट्री नहीं तो 2022 में वोट नहीं
  • 50,000 से ज्यादा घर खरीदार के मकानों की रजिस्ट्री नहीं
  •  प्राधिकरण और जनप्रतिनिधियों से नहीं मिली कोई मदद
  • सड़क पर उतरने को मजबूर निवासी 
Greater Noida West : ग्रेटर नोएडा वेस्ट के हजारों लोगों ने आज रविवार को बिल्डर, ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण और सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया है। इन लोगों का कहना है कि अगर हमारी समस्याओं का समाधान नहीं हुआ तो हम ग्रेटर नोएडा वेस्ट के लाखों लोग आगामी विधानसभा चुनाव 2022 में किसी भी पार्टी को वोट नहीं देंगे। इन ग्रेटर नोएडा वेस्ट के निवासियों को फ्लैट तो मिल गया है लेकिन उनकी रजिस्ट्री नहीं हुई है। जिसके कारण हजारों लोग परेशान हैं और आज ग्रेटर नोएडा वेस्ट के किसान चौक पर बिल्डर, ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण और सरकार के खिलाफ शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया है। 

प्राधिकरण और बिल्डर के बीच घर खरीदार परेशान
प्रदर्शन में शामिल नेफोवा की महासचिव श्वेता भारती ने कहा, "ग्रेटर नोएडा वेस्ट के हजारों लोगों के फ्लैट्स की रजिस्ट्री नहीं हुई है। यह घर खरीदार समय-समय पर अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन किसी के कान पर जूं तक नहीं रेंग रही है। काफी बार ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने बिल्डर और निवासियों के बीच बातचीत करवाई लेकिन कोई भी समस्या का समाधान नहीं हुआ। बताया जाता है कि प्राधिकरण का पैसा बिल्डर को बकाया है। अगर ऐसा है तो इन घर खरीदारों को सजा क्यों दी जा रही है। प्राधिकरण और बिल्डर के बीच में बिना बात के घर खरीदार पीस रहे हैं।"

वोट की चोट से करेंगे वार
श्वेता भारती ने आगे कहा, "इस मामले को लेकर ग्रेटर नोएडा वेस्ट के घर खरीदार काफी बार जनप्रतिनिधियों से भी मिले और बातचीत की लेकिन कोई भी उनके समस्याओं को नहीं सुन रहा है। जिसकी वजह से लोग मजबूरी में सड़क पर प्रदर्शन करने को मजबूर हैं। इसके बावजूद भी अगर प्राधिकरण और जनप्रतिनिधि उनकी बात को नहीं सुनते हैं तो अबकी बार विधानसभा चुनाव 2022 में हम घर खरीदार किसी भी पार्टी को वोट नहीं देंगे। हम वोट का बहिष्कार करेंगे। हम वोट की चोट पर वार करेंगे।"

सुपरटेक के 15,000 घरों की नहीं हुई रजिस्ट्री 
सुपरटेक ईको विलेज-3 के निवासी चंद्र शेखर का कहना है कि, "साढ़े 4 साल से ऊपर हो गया है लेकिन हमारे फ्लैट की रजिस्ट्री नहीं हुई है। सुपरटेक बिल्डर के द्वारा हमें मूलभूत सुविधा भी नहीं दी जा रही है। हमारी मांग है कि हमको अपने घरों पर मालिकाना हक दिया जाए। हमारे घर की रजिस्ट्री करवाई जाए। फ्लैट की रजिस्ट्री नहीं होने के कारण हमको बैंक को ज्यादा ब्याज देना पड़ रहा है। हमने बिल्डर के दरवाजे को खटखटाया और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के दरवाजे को भी खटखटाया है। उसके बावजूद भी कोई भी हमारी समस्याओं को नहीं सुन रहा है। काफी बार प्राधिकरण ने घर खरीदार और बिल्डर के बीच बैठक करवाई है लेकिन कोई भी नतीजा सामने नहीं निकल कर आया है। जनप्रतिनिधियों के द्वारा भी हमें कोई मदद नहीं मिली है। सुपरटेक के करीब 15,000 फ्लैट खरीदार अपनी मांगों को लेकर परेशान कर रहे हैं। अब हर हफ्ते अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे है लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है।"

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की लापरवाही से जनता परेशान
इस प्रदर्शन के दौरान घर खरीदार देवेश कुमार ने कहा, "लोगों को 10-10 साल फ्लैट लिए हुए हो गए हैं, उनके फ्लैट की किस्त लगातार जा रही है। कुछ लोगों के फ्लेट्स की किस्त काफी ज्यादा जा रही है। अगर फ्लैट खरीदा दूसरे बैंक में जाना चाहता है तो वह जा नहीं सकता, क्योंकि उनकी फ्लैट की रजिस्ट्री नहीं हुई है। हमारी इस परेशानी का सबसे बड़ा कारण ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण है। घर खरीदार से जितना मकान का पैसा तय हुआ था, वह सब घर खरीदा बिल्डर को दे चुका है लेकिन प्राधिकरण अपना पैसा बिल्डर से नहीं ले पा रहा है। जिसकी वजह से घर खरीदा परेशान हैं।" 

50,000 से ज्यादा घर खरीदार परेशान, कोई सुनवाई नहीं
उन्होंने आगे बोला कि, "इसमें घर खरीदार का कोई भी कसूर नहीं है। उसके बावजूद भी घर खरीदार को परेशान किया जा रहा है। हम मानते हैं कि सरकार भी इस मामले में फेल है। इस मामले में सरकार को भी संज्ञान में लेना चाहिए और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के अफसरों से पूछना चाहिए कि आखिर वो अपना पैसा बिल्डर से क्यों नहीं ले पा रहा है। हैरानी की बात यह है कि जब प्राधिकरण का पैसा बिल्डर ने नहीं लौटाया तो प्राधिकरण आगे भी उसको जमीन और बैंक से लोन क्यों मिल रहा है। इसपर सरकार को ध्यान देना चाहिए। सिर्फ सुपरटेक में ही 15,000 फ्लेट्स खरीदार परेशान नहीं है, बल्की पूरे नोएडा एक्सटेंशन में 50,000 से ज्यादा घर खरीदार के मकान की रजिस्ट्री नहीं हुई है।"

ग्रेटर नोएडा वेस्ट की जनता करेगी वोट का बहिष्कार
इन लोगों का कहना है कि आगामी विधानसभा चुनाव 2022 से पहले अगर उनके फ्लैट्स की रजिस्ट्री नहीं हुई तो ग्रेटर नोएडा वेस्ट की जनता किसी भी पार्टी को वोट नहीं देगी। अगर हमारे फ्लैट्स की रजिस्ट्री नहीं तो किसी भी पार्टी को वोट नहीं।

अन्य खबरे

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.