ग्रेटर नोएडा वेस्ट में अवैध होर्डिंग्स लगाने वालों पर 21 लाख का जुर्माना, कार्रवाई जारी रहेगी

BIG BREAKING : ग्रेटर नोएडा वेस्ट में अवैध होर्डिंग्स लगाने वालों पर 21 लाख का जुर्माना, कार्रवाई जारी रहेगी

ग्रेटर नोएडा वेस्ट में अवैध होर्डिंग्स लगाने वालों पर 21 लाख का जुर्माना, कार्रवाई जारी रहेगी

Tricity Today | अवैध होर्डिंग्स

ग्रेटर नोएडा वेस्ट में अवैध होर्डिंग्स लगाने वालों पर 21 लाख का जुर्माना, कार्रवाई जारी रहेगी Greater Noida West : ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण (Greater Noida Authority) ने अवैध होर्डिंग लगाकर मोटी कमाई कर रहे लोगों पर कार्यवाही की है। ग्रेटर नोएडा वेस्ट में ऐसे अवैध होर्डिंग लगाने वालों पर 21 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है। इनसे वसूली के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। प्राधिकरण अफसरों का कहना है कि यह अभियान जारी रहेगा। शहर में अवैध विज्ञापनों का धंधा नहीं चलने दिया जाएगा।

ग्रेटर नोएडा वेस्ट में व्यापक स्तर पर अवैध विज्ञापन का धंधा चल रहा है। बड़ी संख्या में अवैध होर्डिंग लगाए गए हैं। जिनके खिलाफ लगातार शिकायतें मिल रही हैं। प्राधिकरण ने गुरुवार को इन शिकायतों पर संज्ञान लेते हुए कार्रवाई की है। प्राधिकरण के सीनियर मैनेजर शौदन सिंह ने बताया कि गुरुवार की सुबह ग्रेटर नोएडा वेस्ट का दौरा किया था। इस दौरान मुख्य सड़कों और भीतरी हिस्सों में बड़ी संख्या में अवैध होर्डिंग लगे मिले हैं। प्राधिकरण के प्रवर्तन दल ने सभी अवैध होर्डिंग उखाड़ दिए हैं। इन्हें लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। कंपनियों पर 21 लाख का जुर्माना लगाया गया है। नोटिस भेजकर पैसा जमा करने का आदेश दिया गया है। प्राधिकरण की विज्ञापन पॉलिसी के मुताबिक अगर दूसरी बार इन कंपनियों के होर्डिंग्स लगे मिले तो जुर्माना राशि दोगुनी लगाई जाएगी।

ट्राइसिटी टुडे ने सबसे पहले प्रकाशित की थी खबर
आपको बता दें कि बीते 13 फरवरी 2021 को आपके पसंदीदा न्यूज़ पोर्टल ट्राइसिटी टुडे डॉट कॉम ने इस मुद्दे को काफी गंभीरता से उठाया था। जिसके बाद 19 फरवरी को ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी नरेंद्र भूषण ने आदेश जारी किया था कि शहर में जहां भी बड़े-बड़े अवैध होर्डिंग दिखाई देंगे, उनको तुरंत उखाड़ा जाएगा। 

दरअसल, ग्रेटर नोएडा वेस्ट अवैध और जानलेवा यूनीपोल का गढ़ बन गया था। पूरे शहर में बड़े-बड़े अवैध होर्डिंग और यूनीपोल लगे हुए थे। जिन पर तमाम नेशनल और मल्टीनेशनल कंपनियों के एडवर्टाइजमेंट देखे जा सकते थे। मिली जानकारी के मुताबिक हर महीने एक यूनीपोल पर इन विज्ञापन की एवज में 50 हजार रुपये से ज्यादा धनराशि वसूल की जा रही है। बड़ी बात यह है कि ऐसे अवैध यूनीपोल की संख्या 100 से भी ज्यादा है।

बारिश में हादसों का कारण बनते हैं
शहर में लगे अवैध होर्डिंग्स केवल प्राधिकरण के लिए राजस्व हानि का जरिया नहीं हैं बल्कि इनकी वजह से बरसात के दिनों में हादसों का खतरा बढ़ जाता है। आंधी या तूफान के दौरान यह उखड़ जाते हैं। पिछले साल ग्रेटर नोएडा वेस्ट में ऐसे ही एक होर्डिंग की चपेट में आकर महिला की मौत हो गई थी।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.