दादरी सीट की जनता उम्मीदवारों से लेगी वादों का हलफनामा, कांग्रेस के प्रत्याशी ने सबसे पहले मांग मानी

यूपी विधानसभा चुनाव पर खास खबर : दादरी सीट की जनता उम्मीदवारों से लेगी वादों का हलफनामा, कांग्रेस के प्रत्याशी ने सबसे पहले मांग मानी

दादरी सीट की जनता उम्मीदवारों से लेगी वादों का हलफनामा, कांग्रेस के प्रत्याशी ने सबसे पहले मांग मानी

Tricity Today | दादरी सीट पर खास खबर

दादरी सीट की जनता उम्मीदवारों से लेगी वादों का हलफनामा, कांग्रेस के प्रत्याशी ने सबसे पहले मांग मानी Greater Noida West : चुनावों में उम्मीदवार बड़े-बड़े वादे और दावे करते हैं। चुनाव के बाद जीतकर विधायक बनने वाले वापस मुड़कर नहीं देखते और हारने वाले प्रत्याशी भी नदारद हो जाते हैं। जनता की यह शिकायत आम बात है। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) चल रहा है। ऐसे में दादरी विधानसभा क्षेत्र के वोटरों ने एक खास पहल की है। ग्रेटर नोएडा वेस्ट के निवासी उम्मीदवारों से वादों का हलफनामा मांग रहे हैं। मतलब, उम्मीदवार एफिडेविट में लिखकर देंगे कि वह क्या करना चाहते हैं? वोटरों का कहना है, "अगर चुनाव के बाद यह लोग वादों से मुकरे तो हलफनामे के आधार पर ना केवल कानूनी कार्रवाई की जाएगी, बल्कि सामाजिक रूप से भी विरोध किया जाएगा।" बड़ी बात यह है कि वोटरों की इस मांग को बड़े राजनीतिक दलों से चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों ने स्वीकार भी कर लिया है।

वोटरों ने वादों का हलफनामा मांगा
उम्मीदवारों को वादों पर खरा उतारने के लिए जनता उम्मीदवारों से शपथ पत्र मांग रही है। ताकि विधायक बनने के बाद उनसे वादों को पूरा करवाया जा सके। ग्रेटर नोएडा वेस्ट में फ्लैट खरीदारों की संस्था नेफोवा ने यह पहल की है। नेफोवा ने सभी प्रत्याशियों से शपथ पत्र मांगा है। दादरी से कांग्रेस प्रत्याशी दीपक भाटी चोटीवाला इस पहल पर सबसे पहले आगे आए। सोमवार को उन्होंने नेफोवा की मांग को स्वीकार किया। वह बुधवार को अपना शपथ पत्र नेफोवा को सौंपेंगे। यह भरोसा देंगे कि शपथ पत्र में किए गए वादों को हर हाल में पूरा करेंगे।

ट्वीटर स्पेश पर हुई यह चर्चा
नेफोवा के अध्यक्ष अभिषेक कुमार का कहना है, "चुनाव में उम्मीदवार जनता से तमाम तरह के वादे करते हैं। अक्सर जनप्रतिनिधि चुने जाने के बाद वादों को पूरा नहीं करते हैं। इससे जनता खुद को ठगा महसूस करती है। अब हम उम्मीदवारों से वादों का शपथ पत्र मांग रहे हैं। गौतमबुद्ध नगर जिले की दादरी विधानसभा सीट के कांग्रेस प्रत्याशी दीपक भाटी चोटीवाला ने ट्विटर स्पेस पर हमारी संस्था के सदस्यों से संवाद किया। संवाद के दौरान हम लोगों ने उनकी बातों को सुना और अपने मुद्दे उनके सामने रखे हैं।"

कांग्रेस के उम्मीदवार आगे आए
नेफोवा के सदस्यों ने कहा, "उन्होंने हमसे जो वादे किए हैं, उनका शपथ पत्र दें। यह शपथ पत्र स्टांप पेपर पर मांगा गया है। ताकि विधायक बनने के बाद उसको पूरा करवाया जा सके। कांग्रेस के उम्मीदवार दीपक भाटी चोटीवाला ऐसे पहले प्रत्याशी बन गए हैं, जिन्होंने शपथ पत्र देने की हामी भर ली है। बुधवार वह वादों को शपथ पत्र देंगे।" नेफोवा के अध्यक्ष अभिषेक कुमार ने बताया कि जो प्रत्याशी उनकी संस्था के सदस्यों के पास वोट मांगने आ रहे हैं, उनसे वादों का शपथ पत्र मांगा जा रहा है। चुनाव प्रचार में उम्मीदवार वादे कर लेते हैं लेकिन बाद में पूरा नहीं करते हैं। कांग्रेस प्रत्याशी ने ट्विटर स्पेस पर संवाद किया। इस दौरान यह मांग उठाई गई थी। प्रत्याशी ने शपथ पत्र देने के लिए कहा है।

सपा और बसपा प्रत्याशी भी तैयार
अभिषेक कुमार ने कहा, "सभी प्रत्याशियों से शपथ पत्र मांगा जाएगा। समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी राजकुमार भाटी और बहुजन समाज पार्टी के मनवीर भाटी से भी एफिडेविट मांगे गए हैं। वह दोनों भी एफिडेविट देने को तैयार हैं। यह अच्छी और अपने तरह की नई पहल है।" दादरी विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस के प्रत्याशी दीपक भाटी चोटीवाला ने कहा, "ग्रेटर नोएडा वेस्ट के लोगों ने मुझसे एजेंडे पर बात की। मैंने उन्हें अपनी प्राथमिकताएं बताईं। उन्होंने मुझे अपने एजेंडे के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने शपथ पत्र मांगा है। हम जनता से जो वादे कर रहे हैं, उनका शपथ देंगे। विधायक बनने के बाद उन्हें पूरा भी करेंगे। जनता का हक है कि वह प्रत्याशियों से वादों का शपथ पत्र लें। यह ग्रेटर नोएडा वेस्ट के लोगों की अच्छी पहल है।"

वोटर की जागरूकता जरूरी
चुनाव और राजनीति पर नजर रखने वाले लोगों का कहना है कि वोटरों का जागरूक होना बेहद जरूरी है। जिस तरह ग्रेटर नोएडा वेस्ट के मतदाताओं ने उम्मीदवारों से दावों और वादों का हलफनामा मांगा है, यह अपने आप में अभिनव प्रयोग है। मोदीनगर में एमएम डिग्री कॉलेज में इतिहास विभाग के एचओडी डॉ. कृष्णकांत शर्मा का कहना है, "जनता जितनी जागरूक होगी, लोकतंत्र और चुनाव उतने बेहतर होंगे। चुनाव के दौरान बिना सिर-पैर वाले दावे और वादे करके उम्मीदवार वोटरों को लुभाने का पुरजोर प्रयास करते हैं। उनका मानना होता है कि चुनाव हो जाने के बाद 5 वर्षों तक कोई पूछताछ करने वाला नहीं है। ग्रेटर नोएडा वेस्ट के लोगों ने जिस तरह दावों और वादों का हलफनामा उम्मीदवारों से मांगा है, यह अपने आप में बेहद अच्छी बात है। इससे देशभर के मतदाताओं में जागरूकता आएगी। लोग उम्मीदवारों के बेतुके दावों और वादों को गंभीरता से लेना बंद करेंगे।"

अन्य खबरे

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.