आखिर तेजा गुर्जर ने क्यों किया बवाल, यह है अमित शाह के कार्यक्रम किरकिर करने की हकीकत

ग्रेटर नोएडा : आखिर तेजा गुर्जर ने क्यों किया बवाल, यह है अमित शाह के कार्यक्रम किरकिर करने की हकीकत

आखिर तेजा गुर्जर ने क्यों किया बवाल, यह है अमित शाह के कार्यक्रम किरकिर करने की हकीकत

Tricity Today | तेजा गुर्जर और अमित शाह

आखिर तेजा गुर्जर ने क्यों किया बवाल, यह है अमित शाह के कार्यक्रम किरकिर करने की हकीकत Greater Noida : केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) गुरुवार को ग्रेटर नोएडा आए थे। उन्होंने तुगलपुर गांव में घर-घर जाकर भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) के दादरी विधानसभा सीट से उम्मीदवार मास्टर तेजपाल सिंह नागर (Tejpal Singh Nagar MLA) का प्रचार किया। इस कार्यक्रम के दौरान भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के पश्चिमी उत्तर प्रदेश अध्यक्ष तेजा गुर्जर भड़क गए। उन्होंने गौतमबुद्ध नगर के सांसद डॉ.महेश शर्मा पर गंभीर आरोप लगाए और उनके खिलाफ जमकर नारेबाजी भी करवाई। तेजा गुर्जर ने आरोप लगाया कि गृहमंत्री अमित शाह परी चौक के पास बने गुर्जर शोध संस्थान में समाज के बुजुर्गों का माल्यार्पण करने नहीं गए। संस्थान में बाबू हुकुम सिंह की मूर्ति पर माल्यार्पण करना चाहिए था। कुल मिलाकर यह बड़ा बवाल तेजा गुर्जर की बदौलत खड़ा हो गया है। स्थिति संभालने के लिए शुक्रवार को तेजा गुर्जर ने अपने सुर बदले हैं। तेजा गुर्जर ने अपने सोशल मीडिया हैंडल पर अपनी सफाई में वीडियो पोस्ट की है। वीडियो में राज्यसभा सांसद सुरेंद्र सिंह नागर भी हैं।

अब क्या कह रहे हैं तेजा गुर्जर
अब जब यह बवाल सुर्खियां बन गया और नारेबाजी से लेकर बयानबाजी करते तेजा गुर्जर वीडियो में नजर आ रहे हैं तो शुक्रवार की सुबह सुर बदले हैं। अब उनका कहना है कि किसी ने साजिश के तहत समाज के लोगों को बताया कि गृहमंत्री हुकुम सिंह जी की मूर्ति पर मालार्पण करने जाएंगे। इस कार्यक्रम की सूचना दी गई थी। गुर्जर भवन में लगी स्वर्गीय हुकुम सिंह जी की मूर्ति लगी है। तेजा गुर्जर ने कहा कि किसी ने हमारे समाज के लोगों में यह बात फैलाई थी कि स्थानीय सांसद ने हुकुम सिंह जी की मूर्ति पर माल्यार्पण नहीं होने दिया है। इसी बात से आक्रोशित होकर कुछ लोगों ने नारे लगाए थे। तेजा गुर्जर ने बदले बोल में कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने हुकुम सिंह जी की बेटी मृगांका सिंह को विधानसभा चुनाव का टिकट दिया है और गृहमंत्री ने उनके लिए सबसे पहले कैराना में 'डोर टू डोर' प्रचार किया है।

कुछ नहीं मिला तो विपक्ष ही सही
तेजा गुर्जर की जल्दीबाजी और डेस्पिरेशन ने भारतीय जनता पार्टी के लिए परेशानी खड़ी कर दी है। स्थिति सम्भालने के लिए सांसद सुरेंद्र सिंह नागर को आगे किया गया है। अब उनका कहना है, "कुछ लोगों की वजह से गलतफहमी हुई। अब इसका फायदा विरोधी दल उठाना चाहते हैं। इस पूरे वाक्ये में मेरा कोई लेना देना नहीं है। हमारा समाज पहले भी बीजेपी के साथ खड़ा था और अब भी खड़ा हुआ है।" कल सीधे तौर पर तेजा गुर्जर गौतमबुद्ध नगर के सांसद डॉ.महेश शर्मा पर हमलावर थे। उन्होंने यहां तक बोल दिया था कि जब साजिश करने वाले का चुनाव आएगा तो सबक सिखाया जाएगा। अभी तो दादरी विधानसभा सीट से समाज का व्यक्ति चुनाव लड़ रहा है।

तेजा गुर्जर को भरोसा था उनके घर आएंगे अमित शाह
भारतीय जनता पार्टी के गौतमबुद्ध नगर में एक बड़े नेता ने कहा, "गृहमंत्री अमित शाह ग्रेटर नोएडा में तुगलपुर आए। तुगलपुर तेजा गुर्जर का गांव है। उन्हें पूरा भरोसा था कि भाजपा के स्थानीय नेता गृहमंत्री को लेकर उनके घर जरूर आएंगे। यही वजह थी कि तेजा ने अपने घर भारी भीड़ इकट्ठा कर रखी थी। फूल मालाओं का बढ़िया इंतजाम किया था। भाजपा के नेता गृहमंत्री को लेकर तेजा गुर्जर के घर नहीं पहुंचे। इससे तेजा गुर्जर की भावनाएं आहत हो गईं और वह युवकों की टोली के साथ सड़क पर नारेबाजी करवाते हुए निकल पड़े। उन्हें लगा कि सांसद डॉ.महेश शर्मा ने गृह मंत्री अमित शाह का कार्यक्रम उनके घर नहीं होने दिया है।" भाजपा नेताओं का कहना है कि गुर्जर शोध संस्थान में जाकर बाबू हुकुम सिंह की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने का कोई कार्यक्रम निर्धारित नहीं किया गया था। ऐसे में तेजा गुर्जर ने गुर्जर शोध संस्थान को विरोध का बहाना बना दिया। भाजपा नेताओं का आगे कहना है कि तेजा गुर्जर की वीडियो देखने और सुनने पर साफ झलकता है कि वह अमित शाह के अपने घर नहीं आने से आहत हुए हैं। दरअसल, तेजा गुर्जर को अपने आलीशान घर में भाजपा नेताओं को बुलाकर मोहित करने का पुराना शौक है।

कैराना और अमित शाह के कनेक्शन को भूल गए तेजा
तेजा गुर्जर ने अपनी भड़ास निकालने के लिए स्थानीय सांसद डॉ.महेश शर्मा और स्वर्गीय बाबू हुकुम सिंह की प्रतिमा को तो जोड़ दिया लेकिन वह कैराना, मृगांका सिंह और अमित शाह के वहां डोर टू डोर कैंपेन को भूल गए। दरअसल, अमित शाह ने कैराना से ही 'डोर टू डोर कैंपेन' शुरू किया था। गुर्जर समाज के दिग्गज नेता स्वर्गीय बाबू हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को भारतीय जनता पार्टी ने कैराना सीट से एक बार फिर टिकट दिया है, जबकि वह पिछला चुनाव बुरी तरह हार गई थीं। जब तेजा गुर्जर को भाजपा हाईकमान ने यह सबक सिखाया तो उनके सुर बदल गए हैं। भाजपा हाईकमान के कहने पर ही राज्यसभा सांसद सुरेंद्र सिंह नागर शुक्रवार की सुबह तेजा गुर्जर के पास पहुंचे। उन्हें डैमेज कंट्रोल करने की नसीहत दी। जिसके बाद पहले डॉक्टर महेश शर्मा को साजिशकर्ता बताने वाले तेजा गुर्जर अब किसी अज्ञात और विपक्ष को साजिशकर्ता करार दे रहे हैं।

आफत निकली है तो दूर तक जाएगी
तेजा गुर्जर ने बाबू हुकुम सिंह का अनादर करने का आरोप लगाते हुए बवाल कर दिया। यह पूरा मामला सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। गुर्जर समाज के युवक जमकर भारतीय जनता पार्टी का विरोध कर रहे हैं। एक बार फिर दादरी का सम्राट मिहिर भोज प्रकरण पिटारे से निकलकर बाहर आ गया है। यह बात अलग है कि शुक्रवार की सुबह तेजा गुर्जर ने सफाई में एक नया वीडियो जारी किया है, लेकिन यह वीडियो कितना आगे जा पाएगा? यह सबको मालूम है। दरअसल, चुनाव के दौरान नकारात्मक बातें ज्यादा और पॉजिटिविटी बमुश्किल आगे बढ़ पाती है। ऐसे में जानकारों का कहना है यह आफत निकली है तो दूर तक जाएगी। समाजवादी पार्टी, आम आदमी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवारों ने इस मामले को भुनाना शुरू कर दिया है। दादरी विधानसभा क्षेत्र में गुरुवार से ही समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी राजकुमार भाटी और बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी मनवीर भाटी जमकर इस घटना का प्रचार कर रहे हैं। लोगों को तेजा गुर्जर का वीडियो व्हाट्सएप पर शेयर किया जा रहा है।

अन्य खबरे

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.