रेलवे आरक्षण केंद्र का बुरा हाल, आम आदमी तो दूर अफसरों की शिकायत पर भी सुनवाई नहीं

ग्रेटर नोएडा : रेलवे आरक्षण केंद्र का बुरा हाल, आम आदमी तो दूर अफसरों की शिकायत पर भी सुनवाई नहीं

रेलवे आरक्षण केंद्र का बुरा हाल, आम आदमी तो दूर अफसरों की शिकायत पर भी सुनवाई नहीं

Tricity Today | रेलवे आरक्षण केंद्र

रेलवे आरक्षण केंद्र का बुरा हाल, आम आदमी तो दूर अफसरों की शिकायत पर भी सुनवाई नहीं Greater Noida : शहर के सेक्टर बीटा-1 मार्केट में प्रथम तल पर उत्तर रेलवे का टिकट बुकिंग केंद्र है। शहर के लोगों की सहूलियत के लिए यह केंद्र ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण ने अपने रखरखाव और खर्चे पर बनवाया था। करीब 15 वर्षों से रेलवे रिजर्वेशन सेंटर काम कर रहा है। सेंटर की हालत खस्ता है। खिड़की और दरवाजे टूटे या उखड़े पड़े हैं। जिसके चलते सर्दियों में यहां आने वाले लोगों को असुविधा का सामना करना पड़ता है। दूसरी ओर केंद्र में काम करने वाले रेलवे के कर्मचारी और अधिकारी खुद को असुरक्षित महसूस करते हैं। बड़ी बात यह है कि शहर के लोग तमाम मर्तबा इसकी हालत सुधारने के लिए प्राधिकरण को पत्र लिख चुके हैं। आरक्षण केंद्र के प्रभारी अधिकारी भी बार-बार प्राधिकरण अफसरों को चिट्ठी भेज रहे हैं। आम आदमी और रेलवे अफसरों के इन पत्रों पर कोई ध्यान देने वाला नहीं है।

रेलवे कार्यालय के पर्यवेक्षक ने मुख्य कार्यपालक अधिकारी को पत्र भेजा है। उन्होंने लिखा है, "बुकिंग केंद्र की हालत जर्जर हो चली है। दरवाजे और खिड़कियां टूट चुके हैं। जिसकी वजह से बेहद असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है। मौसम से जुड़ी परेशानियां होती हैं। साथ ही सुरक्षा को लेकर भी भय बना रहता है। केंद्र में बुकिंग के बदले आने वाला पैसा मौजूद रहता है। कर्मचारियों में आशंका रहती है। कोई आपराधिक घटना घटित हो सकती है। ऐसे में आवश्यक है कि रेलवे रिजर्वेशन सेंटर की हालत को दुरुस्त किया जाए।" केंद्र पर्यवेक्षक ने आगे लिखा है कि इस बारे में पहले भी कई बार लिखकर भेजा जा चुका है लेकिन कोई सकारात्मक कदम नहीं उठाया गया है।

गौतमबुद्ध नगर विकास समिति के उपाध्यक्ष मयंक राणा कहते हैं, "यह पूरे ग्रेटर नोएडा में एकमात्र रेलवे रिजर्वेशन सेंटर है। यहां दिनभर बड़ी संख्या में लोग रेलवे टिकट बुक करवाने आते हैं। केंद्र की हालत बेहद जर्जर है। साफ-सफाई का भी उचित प्रबंध नहीं है। सर्दी, गर्मी और बरसात में लोगों को असुविधाओं का सामना करना पड़ता है। केंद्र की खिड़कियां टूट कर गिर चुकी हैं। दरवाजों की हालत भी खराब है। यहां लूटपाट जैसी घटना हो सकती है। केंद्र में हर वक्त पैसा मौजूद रहता है। शहर के सामाजिक संगठन कई बार प्राधिकरण के सामने मुद्दा उठा चुके हैं। ग्रेटर नोएडा अंतरराष्ट्रीय पहचान रखता है। यहां का रेलवे रिजर्वेशन सेंटर भी उसी स्तर का होना चाहिए। यह ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण की जिम्मेदारी है। शहर के लोगों को अच्छी सुविधाएं मिलनी चाहिएं।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.