आरोप : दादरी विधायक ने 20 हजार किसान परिवारों को दिया धोखा? मनवीर भाटी ने कहा- नहीं चाहते कि किसानों को हक़ मिलें

दादरी विधायक ने 20 हजार किसान परिवारों को दिया धोखा? मनवीर भाटी ने कहा- नहीं चाहते कि किसानों को हक़ मिलें

Tricity Today | तेजपाल नागर और मनवीर भाटी

किसान सेवा संघर्ष समिति के प्रवक्ता और किसान नेता मनवीर भाटी ने दादरी से विधायक मास्टर तेजपाल सिंह नागर पर करारा हमला किया है। मनवीर भाटी ने सीधे तौर पर कहा, "विधायक तेजपाल सिंह नागर किसानों के मुद्दों को सरकार और मुख्यमंत्री के सामने उठाने में असफल रहे हैं। वह मुख्यमंत्री के सामने किसानों की दीर्घकालिक मांग 10% आवासीय भूखंड का मुद्दा नहीं उठा पाए। इसके दो ही मायने हैं, दादरी विधायक कमजोर हैं या वह किसानों के साथ धोखा कर रहे हैं। वह नहीं चाहते कि किसानों को उनके हक मिलें।" 

दरअसल, पिछले साल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में आए थे। उस वक्त ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण से प्रभावित किसानों के 10% आवासीय भूखंडों को लेकर मुख्यमंत्री और जनप्रतिनिधियों के बीच चर्चा हुई थी। इस बैठक में प्राधिकरण अफसर भी शामिल थे। मनवीर भाटी का कहना है कि उस चर्चा के दौरान प्राधिकरण के चेयरमैन आलोक टंडन ने यह मामला उठाया था, लेकिन दादरी विधायक बैठक में चुपचाप बैठे रहे। जिसकी वजह से इस मुद्दे पर कोई फैसला नहीं हो सका। किसान संघर्ष समिति की ओर से जारी बयान में कहा गया है, दादरी विधायक ने किसानों के सबसे अहम मुद्दों में से एक सभी किसानों को दस प्रतिशत आवासीय भूखंड देने वाले मुद्दे पर मुख्यमंत्री के सामने नहीं उठाया। इससे किसानों में भारी आक्रोश है। 

समिति के प्रवक्ता मनवीर भाटी ने आगे कहा, मुख्यतः आंदोलन में सभी किसानों को 10 प्रतिशत प्लॉट देने वाला मुद्दा एक मुख्य मुद्दा रहा है। जिसके लिए अधिकारियों ने कहा था कि इस विषय पर किसानों के आंदोलनकारी प्रतिनिधिमंडल की मुलाक़ात शासन में कराई जाएगी। जब दादरी के विधायक मुख्यमंत्री से मिले तो लगा कि अब यह मुद्दा मुख्यमंत्री के समक्ष रखा जाएगा, लेकिन मुलाक़ात के दौरान विधायक की ओर से इस मुद्दे पर एक शब्द भी नहीं कहा गया। जबकि इस मुद्दे से लगभग क्षेत्र के 20 हज़ार किसान प्रभावित हैं। इससे किसानों को निराशा हुई है। 

संघर्ष समिति के प्रवक्ता मनवीर भाटी ने कहा कि यह क्षेत्र के सभी किसानों के लिए बड़ा ही दुखद है कि क्षेत्र के विधायक मुख्यमंत्री के सामने किसानों को प्रभावित करने वाले मुद्दे पर एक शब्द नहीं कहते हैं। क्या यह हज़ारों किसानों के साथ धोखा नही हैं? क्या विधायक भी अफसरों की तरह इस बात पर सहमति रखते हैं कि सभी किसानों को दस प्रतिशत प्लॉट नहीं मिलना चाहिए।

आपको बता दें कि दिसंबर के अंतिम सप्ताह में किसानों ने लीजबैक मामले को लेकर बड़ा आंदोलन खड़ा किया था। उस दौरान भी दादरी विधायक तेजपाल सिंह नागर का कोई बयान या स्टैंड पता नहीं चला था। जिसे लेकर किसानों में भारी रोष व्याप्त था। आंदोलनरत किसानों ने बयान भी जारी किया था कि जनप्रतिनिधि चुप्पी साधकर बैठे हुए हैं। किसान अपने हकों के लिए सड़क पर उतरकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इन लोगों का मकसद केवल वोट बंटोरकर विधानसभा और संसद में पहुंचना है। अब यह नया मामला सामने आया है। जिसे लेकर किसान संघर्ष समिति ने विधायक की भूमिका पर सवाल खड़े किए हैं।

इस प्रकरण को लेकर हम विधायक मास्टर तेजपाल सिंह नागर से पक्ष लेना चाहते हैं, किंतु पिछले दिनों एक प्रकरण पर उन्हें की गई फोन कॉल को उन्होंने गलत ढंग से पेश करते हुए ट्राइसिटी टुडे के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया था। जिसके मद्देनजर हम उन्हें फोन कॉल नहीं करते हैं। हालांकि, हमें उनके पक्ष का इंतजार रहेगा। अगर वह अपनी बात रखना चाहते हैं तो हमें मेल भेज सकते हैं। हम सहर्ष उनकी बात रखना चाहेंगे।

अन्य खबरे

Copyright © 2019-2020 Tricity. All Rights Reserved.