ग्रेटर नोएडा : लोकतंत्र सेनानी नेमचंद शर्मा पेंशन के लिए कलेक्ट्रेट में धरने पर बैठे, मुख्यमंत्री के सचिव ने डीएम से मांगी जानकारी

लोकतंत्र सेनानी नेमचंद शर्मा पेंशन के लिए कलेक्ट्रेट में धरने पर बैठे, मुख्यमंत्री के सचिव ने डीएम से मांगी जानकारी

Tricity Today | लोकतंत्र सेनानी नेमचंद शर्मा पेंशन के लिए कलेक्ट्रेट में धरने पर बैठे

लोकतंत्र सेनानी नेमचंद शर्मा 'अटल' अपनी पेंशन को गलत ढंग से रोकने के मामले में सोमवार को कलेक्ट्रेट में धरने पर बैठ गए हैं। उनका कहना है, "मेरी लोकतंत्र सम्मान पेंशन राशि बिना वजह बाबू ने बंद कर दी है। मैंने तमाम बार इसकी जानकारी जिला प्रशासन के अधिकारियों को दी, लेकिन अभी तक इंसाफ नहीं मिल पाया है। जिसके बाद मैं आज कलेक्ट्रेट में धरने पर बैठ गया हूं।"

नेमचंद शर्मा ने मंगलवार को कलेक्ट्रेट में धरने पर बैठते हुए ADM दिवाकर सिंह को अपनी समस्याओं का पत्र दिया है। उनका कहना है कि जब तक मुझे पेंशन राशि नहीं मिलेगी, तब तक धरने पर बैठा रहूंगा। नेमचंद शर्मा 'अटल' का कहना है कि मेरी पेंशन बंद कर दी गई है। जब इस मामले में बाबू से मिला तो उसने कहा, जब तक मैं सीट पर बैठा हूं, तब तक पेंशन नहीं मिलने दूंगा।" जिसकी वजह से मैं मानसिक प्रताड़ना से जूझ रहा हूं। 

दूसरी ओर इस मामले में जेवर से विधायक ठाकुर धीरेन्द्र सिंह ने दखल दी है। उन्होंने बताया कि लोकतंत्र सेनानी नेमीचंद शर्मा 'अटल' की पेंशन बहाली के लिए मुख्यमंत्री के सचिव संजय प्रसाद को जानकारी दी है। संजय प्रसाद ने जिलाधिकारी सुहास एलवाई से बात की है। जिलाधिकारी ने पूरे प्रकरण पर संज्ञान ले लिया है। जल्दी ही नेमचंद शर्मा की पेंशन बहाल कर दी जाएगी। इस मसले को लेकर मुख्यमंत्री के सचिव ने भी डीएम से रिपोर्ट मांगी है। दूसरी ओर इस मामले को लेकर जिलाधिकारी ने ट्राईसिटी टुडे को बताया है कि प्रकरण उनके संज्ञान में है। जल्दी ही इस मामले को लेकर निर्णय ले लिया जाएगा।

यह है पूरा मामला 
पीड़ित नेमचंद शर्मा ने बताया कि अक्टूबर, 2019 में कानूनी अड़चनों का हवाला देकर उनकी लोकतंत्र सेनानी पेंशन सम्मान राशि का भुगतान रोक दिया गया। इस संबंध में उन्होंने जिलाधिकारी कार्यालय में तैनात संबंधित अधिकारी को शिकायत दी। अफसर ने उनसे पेंशन बहाली के नाम पर रिश्वत की मांग की। उन्होंने रिश्वत देने से इनकार कर दिया। इससे नाराज अधिकारी ने अपने पद का फायदा उठाते हुए उनकी पेंशन रोक दी। अफसर ने उच्चाधिकारियों को भी गुमराह किया।

दो डीएम और सांसद कुछ मदद नहीं कर पाए
यहां तक कि बाबू ने उन्हें चुनौती देते हुए कहा है कि जब तक वह डीएम कार्यालय में तैनात है, कोई भी उनकी पेंशन बहाल नहीं करा सकता है। पिछले डेढ़ साल की भागदौड़ से थक हारकर पीड़ित नेमचंद शर्मा ‘अटल’ ने 2 मार्च को डीएम दफ्तर पर सत्याग्रह करने की ठानी है। पेंशन बहाली को लेकर वह गौतमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी सुहास एलवाई, पूर्व जिलाधिकारी बीएन सिंह, सांसद डॉ.महेश शर्मा समेत सभी जनप्रतिनिधियों और बड़े अधिकारियों से गुहार लगा चुके हैं। लेकिन सिवाय कागजी कार्रवाई और आश्वासन के उन्हें कुछ हासिल नहीं हुआ है। 

सांसद की चिट्ठी को भी तरजीह न दी
इसकी शिकायत लेकर लोकतंत्र सेनानी गौतमबुद्ध नगर के सांसद डॉ. महेश शर्मा से मिले। सांसद ने समस्या का समाधान कराने का आश्वासन दिया और जिलाधिकारी के नाम एक पत्र दिया। इसको एक साल से ज्यादा बीत गया है। मगर उस पत्र पर अब तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। उन्होंने बताया कि नवंबर 2019 से अब तक वह लगातार डीएम ऑफिस का चक्कर काट रहे हैं। मगर उन्हें इंसाफ नहीं मिल रहा है। उनके पास सत्याग्रह के सिवा कोई विकल्प नहीं है।

मंगलवार को कलेक्ट्रेट में धरने पर नेमचंद शर्मा के साथ अतुल शर्मा एडवोकेट, दिवाकर शर्मा, पुनीत पंडित, भाजपा के सदस्य शोविंदर भाटी और विनीत पंडित मौजूद हैं।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.