गौतमबुद्ध नगरः फर्जी डिग्री के सहारे नौकरी कर रही चार शिक्षिकाओं के खिलाफ एफआईआर, योग्यता पर उठे सवाल

फर्जी डिग्री के सहारे नौकरी कर रही चार शिक्षिकाओं के खिलाफ एफआईआर, योग्यता पर उठे सवाल

Tricity Today | चार शिक्षिकाओं के खिलाफ एफआईआर

उत्तर प्रदेश में कार्यरत सरकारी शिक्षकों के दस्तावेजों की जांच के लिए गठित एसआईटी ने नोएडा में फर्जी कागजात के सहारे नौकरी करने वाली चार शिक्षिकाओं को पकड़ा है। इन सभी को बर्खास्त कर उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। चारों शिक्षिकाएं बीएड की फर्जी डिग्री के आधार पर नौकरी कर रही थीं। चारों की डिग्री आगरा स्थित डॉ भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय की हैं। एसआईटी को नकली दस्तावेजों के आधार पर सरकारी विद्यालयों में कार्यरत हजारों फर्जी शिक्षकों का पर्दाफाश करने में सफलता मिली है। 

एसआईटी कर रही है जांच
गौतमबुद्ध नगर के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बताया कि, जनपद में चार शिक्षिकाएं फर्जी दस्तावेज के जरिए सालों से नौकरी कर रही थीं। योगी सरकार द्वारा फर्जी दस्तावेजों के आधार पर नौकरी करने वाले शिक्षकों की जांच के लिए SIT गठित की गई है। यह टीम पूरे प्रदेश में फर्जी कागजातों के आधार पर नौकरी करने वाले शिक्षकों का पर्दाफाश करती है। एसआईटी की जांच में पता चला है कि नोएडा के प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत चार शिक्षिकाएं बीएड की फर्जी डिग्री के आधार पर लंबे समय से नौकरी कर रही हैं। चारों की डिग्री आगरा के डॉ भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी की है। 

बर्खास्त करने का आदेश जारी किया
जांच के बाद इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने इन सभी शिक्षिकाओं को बर्खास्त करने का आदेश जारी किया। इस पर अमल करते हुए इन सभी को बर्खास्त कर उनके खिलाफ संबंधित थानों में एफआईआर दर्ज कराई गई है। दो शिक्षिकाएं दनकौर थाना क्षेत्र के विद्यालयों में कार्यरत थीं। थाना क्षेत्र के भट्टा गांव के प्राथमिक स्कूल में तैनात आशा कुमारी और चचूला गांव के स्कूल में तैनात सुषमा रानी के दस्तावेज फर्जी पाए गए हैं। हाईकोर्ट के आदेशानुसा दोनों को बर्खास्त कर केस मामला दर्ज कराया गया है। ये दोनों कई वर्षों से नौकरी कर रही थीं।

एक ही विश्वविद्यालय की फर्जी डिग्री मिली
जांच में पता चला था कि दोनों शिक्षिकाओं की फर्जी डिग्री डॉ भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा की हैं। जेवर थाना क्षेत्र की शिक्षिका संतोष कुमारी के खिलाफ भी केस दर्ज कराया गया है। चौथी शिक्षिका मनीषा मथुरिया है। वह बीटा 2 थाना क्षेत्र के नवादा प्राथमिक विद्यालय में तैनात थी। उन्हें पहले ही बर्खास्त किया जा चुका है। उनके खिलाफ भी मामला दर्ज है।
 
जल्द दाखिल होगी चार्जशीट
ग्रेटर नोएडा के डीसीपी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि, शिक्षिकाओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जांच की जा रही है। जल्द ही जांच पूरी कर चार्जशीट फाइल की जाएगी। उन्होंने बताया कि, दनकौर में दो, जेवर थाना क्षेत्र में एक और बीटा-2 में भी एक शिक्षिका के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है। पुलिस सभी की छानबीन कर रही है।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.