ग्रेटर नोएडा के ठेकेदार हत्याकांड का सनसनीखेज खुलासा : दसवीं कक्षा के दो छात्रों ने कार लूटने के लिए हत्याकांड को अंजाम दिया

दसवीं कक्षा के दो छात्रों ने कार लूटने के लिए हत्याकांड को अंजाम दिया

Google Image | प्रतीकात्मक फोटो

ग्रेटर नोएडा के अटाई गांव के रहने वाले ठेकेदार हेमचंद उर्फ हेमी की हत्या में पुलिस ने सनसनीखेज खुलासा। मामले में मंगलवार को नया मोड़ आ गया है। ठेकेदार की हत्या दसवीं के दो छात्रों ने कार लूट के मकसद से की थी। पुलिस ने दोनों आरोपी छात्रों को गिरफ्तार कर हत्याकांड का खुलासा किया है।छात्रों के पास से ठेकेदार की लूटी हुई कार एक मोबाइल और घटना में प्रयुक्त बाइक बरामद की है। हालांकि, परिजन पुलिस के खुलासे से संतुष्ट नहीं है। इस मामले में मृतक के पार्टनर पर हत्या का आरोप लगा रहे हैं।

ग्रेटर नोएडा के थाना ईकोटेक वन क्षेत्र के अटाई गांव के रहने वाले एक ठेकेदार हेमचंद उर्फ हेमी का 6 जनवरी को मुरशदपुर गांव के समीप सड़क किनारे शव पड़ा मिला था। ठेकेदार के सिर में गोली लगी थी। परिजनों ने इस मामले में ठेकेदार के पार्टनर धर्मी पर हत्या का मुकदमा दर्ज करवाया था। पुलिस ने धर्मी को हिरासत में लेकर पूछताछ की, लेकिन घटना का खुलासा नहीं हुआ। पुलिस ठेकेदार का मोबाइल बरामद नहीं कर सकी। जिसके चलते पुलिस ने घटना की तहकीकात शुरू की। अब हत्याकांड में नया मोड़ आ गया है। ग्रेटर नोएडा के एडिशनल डीसीपी विशाल पांडे ने बताया ठेकेदार की हत्या दसवीं के 2 छात्रों ने की थी। यह दोनों मौसेरे भाई हैं और लोनी के शकलपुरा गांव के रहने वाले हैं।

पहले अपने दोस्त को कत्ल करने की योजना बनाई थी
एडिशनल डीसीपी विशाल पांडे ने बताया कि पुलिस पूछताछ में दोनों नाबालिग आरोपियों ने बड़ा खुलासा किया है। दोनों ने पुलिस को बताया कि घटना के दिन उन्होंने अपने एक दोस्त प्रवीण को फोन कर बुलाया था। दोनों का मकसद दोस्त से उसकी कार लूटना था। दोनों आरोपियों के बुलावे पर जब प्रवीण वहां नहीं पहुंचा तो वह बाइक पर कार लूटने की फिराक में इधर-उधर घूमने लगे। इसी बीच दोनों आरोपियों ने मुरशदपुर गांव के समीप ठेकेदार हेमचंद को कार में बैठे देखा। ठेकेदार कार साइड में लगाकर अंदर बैठकर फोन पर बात कर रहे थे। इसी बीच दोनों आरोपी ठेकेदार के पास पहुंचे और रास्ता पूछने के बहाने ठेकेदार से गाड़ी का शीशा नीचे करवाया। शीशा नीचे करते ही ठेकेदार को सिर में गोली मार दी। इसके बाद उसके शव को नीचे फेंक कर उसकी कार और मोबाइल लेकर फरार हो गए। पुलिस ने इनके पास से ठेकेदार की कार, मोबाइल और घटना में प्रयुक्त इनकी बाइक बरामद की है।

परिजन नहीं पुलिस के खुलासे से संतुष्ट
पुलिस के इस घटना के खुलासे से परिजन संतुष्ट नहीं हैं।मंगलवार को परिजन डीसीपी कार्यालय पहुंचे और पुलिस पर झूठा खुलासा करने का आरोप लगाया। परिजन इस हत्याकांड में मृतक के पार्टनर धर्मी पर हत्या करने का आरोप लगा रहे हैं। परिजनों ने उसके खिलाफ नामजद मुकदमा भी दर्ज करवा रखा था, लेकिन पुलिस की छानबीन के बाद धर्मी का हत्याकांड से कोई लेना-देना सामने नहीं आया। जिसके चलते पुलिस ने धर्मी को पूछताछ के बाद छोड़ दिया था।  परिजन अभी भी धर्मी पर हत्या करने का आरोप लगा रहे हैं।

अन्य खबरे

Copyright © 2019-2020 Tricity. All Rights Reserved.