सनसनीखेज : दक्ष की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट ने खोले कई गहरे राज, हैवानों ने मासूम को जिंदा ही नहर में फेंका था, जानें इस मामले का हर पहलु

दक्ष की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट ने खोले कई गहरे राज, हैवानों ने मासूम को जिंदा ही नहर में फेंका था, जानें इस मामले का हर पहलु

Tricity Today | दक्ष (File Photo)

  • दक्ष की हत्या के मामले में पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं
  • दक्ष को अगवा कर अपहरणकर्ताओं ने उसे जिंदा ही बुलंदशहर में नहर में फेंक दिया था
  • रिपोर्ट से पता चला कि दक्ष की मौत 5 दिन पहले ही हो गई थी
  • बीते 31 मार्च को साढ़े तीन साल के दक्ष को दादरी के वेद विहार कॉलोनी से अगवा कर लिया गया था
  • एसओजी समेत पुलिस की 10 टीमें गठित की गई हैं
  • पुलिस का मानना है कि दक्ष को अगवा करने से पहले उसकी रेकी की गई थी
ग्रेटर नोएडा के दादरी कस्बे के वेद विहार कॉलोनी में रहने वाले साढ़े तीन साल के दक्ष की हत्या के मामले में पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। दक्ष को अगवा कर अपहरणकर्ताओं ने उसे जिंदा ही बुलंदशहर में नहर में फेंक दिया था। रविवार को शव मिलने के बाद पोस्टमार्टम कराया गया। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पुलिस भी हैरान है।  इसमें खुलासा हुआ कि मासूम की मौत पानी में डूबने से हुई थी। रिपोर्ट से पता चला कि दक्ष की मौत 5 दिन पहले ही हो गई थी। बताते चलें कि बीते 31 मार्च को साढ़े तीन साल के दक्ष को दादरी के वेद विहार कॉलोनी से अगवा कर लिया गया था। सुबह 10:00 बजे के करीब बदमाशों ने उसे अगवा किया था।

पुलिस की 10 टीमें अभियान पर लगीं
इस संबंध में दादरी कोतवाली में मामला पंजीकृत है और पुलिस आरोपियों की धरपकड़ के लिए लगातार प्रयास कर रही है। ग्रेटर नोएडा के डीसीपी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि एसओजी समेत पुलिस की 10 टीमें गठित की गई हैं। इन सभी को आरोपियों की पहचान कर उन्हें गिरफ्तार करने के अभियान में लगाया गया है। फिलहाल पुलिस के हाथ खाली हैं। कुछ संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया गया है। उनसे भी पूछताछ कर सुराग तलाशा जा रहा है। इसके अलावा सीसीटीवी फुटेज की मदद से मामले को सुलझाने की कोशिश हो रही है। 

रंजिशन हत्या का शक गहरा रहा है
पुलिस इस मामले में पुरानी रंजिश के एंगल से भी छानबीन कर रही है। दक्ष के पिता का पैतृक गांव बुलंदशहर जिले में है। उसका शव भी बुलंदशहर की नहर में मिला था। इससे आशंका गहरा गई है कि आरोपी बुलंदशहर के हो सकते हैं। दक्ष के पिता मुनेंद्र बिजली विभाग में संविदा पर कर्मचारी हैं। पुलिस उनसे पूछताछ कर यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि, कहीं उनकी किसी से गहरी रंजीश तो नहीं है। यहां तक कि मनमुटाव वाले लोगों से भी पूछताछ की जाएगी। रंजिशन हत्या का शक इसलिए गहरा रहा है, क्योंकि आरोपियों ने दक्ष को अगवा करने के बाद फिरौती के लिए कोई कॉल नहीं की। न ही कोई फिरौती की मांग की गई। पुलिस किराए पर रह चुकी एक महिला को भी संदिग्ध मान रही है और उसकी कुंडली खंगाल रही है। 

अच्छी तरह रेकी के बाद अगवा किया
 दक्ष की हत्या मामले में फिलहाल पुलिस के हाथ खाली हैं। लेकिन इस सनसनीखेज मामले में पुलिस को कई थ्योरी मिली हैं। अब पुलिस इनके सहारे सुराग तलाशने में जुटी है। पुलिस का कहना है कि जल्द ही आरोपियों की पहचान कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा। वारदात के तरीके से यह स्पष्ट हो गया है कि पूर्व प्रायोजित तरीके से अपहरण के बाद हत्या की गई है। शुरुआती जांच में पुलिस का मानना है कि दक्ष को अगवा करने से पहले उसकी रेकी की गई थी। इसके बाद पूरी घटना को अंजाम दिया गया। इस थ्योरी को ध्यान में रखते हुए पुलिस  किराएदार महिला के साथ किसी अन्य करीबी को भी अपराध में शामिल मान रही है। पुलिस मामले से जुड़े हर पक्ष पर गंभीरता से मंथन कर रही है। पुलिस हत्यारे को एक दूसरी वजह से भी जल्द गिरफ्तार करना चाहती है। उनका मानना है कि अगर वह नहीं पकड़ा गया, तो परिवार को आगे भी हानि पहुंचा सकता है।

हर पल की खबर थी
31 मार्च की सुबह करीब 10:30 बजे आरोपियों ने दक्ष को अगवा किया था। जबकि 27 मार्च को मुनेंद्र का परिवार होली मनाने पैतृक गांव बुलदंशहर गया था। पहले उनकी योजना 31 मार्च को दादरी लौटने की थी। मगर 31 मार्च को वित्त वर्ष का आखिरी दिन था। मुनेंद्र बिजली विभाग में संविदा पर काम करते हैं। इस लिए परिवार के सभी लोग 30 मार्च को ही आ दादरी आ गए। एक दिन बाद 31 मार्च को दक्ष आईसक्रीम लेने घर से बाहर निकला, तभी उसे अगवा कर लिया गया। मगर उस दौरान वहां से किसी वाहन के गुजरने के सबूत नहीं मिल रहे हैं। इससे शक गहरा हो रहा है कि, कोई बहुत करीब से दक्ष की निगरानी कर रहा था। 

सीसीटीवी कैमरे की कमी सबको खल रही
बताते चलें कि दक्ष का जिस गली से अपहरण हुआ, उसमें तकरीबन 100 परिवार रहते हैं। मगर पूरी गली में कहीं सीसीटीवी नहीं है। न ही किसी ने अपने घर के सामने कैमने लगवाए हैं। अब लोगों को इसकी कमी खल रही है। वह गली आगे से बंद है। आने-जाने का सिर्फ एक ही रास्ता है। इसलिए अगर कहीं सीसीटीवी लगा होता, तो आसानी से अपहर्ताओं की पहचान हो जाती। 

कैंडल मार्च निकालेंगे
दक्ष की हत्या को लेकर कई सामाजिक संगठन आज शाम को कस्बे में कैंडल मार्च निकालेंगे। कैंडल मार्च निकालकर दक्ष को न्याय दिलाने की मांग की जाएगी। मंगलवार की शाम 6:30 बजे वेद विहार कॉलोनी में लोग इकट्ठा होंगे। 

वकीलों ने जताया दुख
दक्ष की हत्या के विरोध में गौतमबुद्ध नगर जिला न्यायालय के वकील सोमवार को हड़ताल पर रहे। दरअसल दक्ष न्यायालय में प्रेक्टिस करने वालीं अधिवक्ता प्रीति लोहिया का नतीजा था। जैसे ही इसकी खबर अधिवक्ताओं में फैली, वे आक्रोशित हो गए। बार एसोसिएशन के अध्यक्ष मनोज भाटी एडवोकेट ने कहा कि, “दक्ष लोहिया की हत्या के विरोध में सोमवार को अधिवक्ताओं ने कामकाज बंद रखा। हमने मासूम को श्रद्धांजलि दी। इस पर दुख जताया।” उन्होंने पुलिस पर मामले में ढिलाई बरतने का भी आरोप लगाया। 

सोशल मीडिया पर दी श्रद्धांजलि
सोशल मीडिया पर भी लोग मासूम दक्ष को श्रद्धांजलि दे रहे हैं। राजनीतिक और सामाजिक सक्रिय लोग पीड़ित परिवार के घर पहुंच रहे हैं और अपनी शोक-संवेदनाएं प्रकट कर रहे हैं। दक्ष की हत्या को लेकर हर किसी के मन में आक्रोश है। सब की एक ही मांग है कि आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाए और उन्हें फांसी पर लटकाया जाए।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.