बाइक बोट घोटाले की वजह से दोस्त ने सपा नेता के भाई की हत्या की, गिरफ्तार

ग्रेटर नोएडा : बाइक बोट घोटाले की वजह से दोस्त ने सपा नेता के भाई की हत्या की, गिरफ्तार

बाइक बोट घोटाले की वजह से दोस्त ने सपा नेता के भाई की हत्या की, गिरफ्तार

Tricity Today | मीडिया को जानकारी देते अफसर

बाइक बोट घोटाले की वजह से दोस्त ने सपा नेता के भाई की हत्या की, गिरफ्तार ग्रेटर नोएडा के दादरी कस्बे के पास लुहारली गांव में समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता महेश भाटी के छोटे भाई दिनेश की गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड का गुरुवार को गौतमबुद्ध नगर पुलिस कमिश्नरेट ने सनसनीखेज खुलासा किया है। दिनेश भाटी की हत्या बाइकबोट घोटाले के कारण हुई है। दरअसल, दिनेश के दोस्त ने उसके कहने पर बाइकबोट में पैसा लगाया था। मुनाफा नहीं मिला तो दोनों के बीच तकरार बढ़ती चली गई। अंततः दिनेश के दोस्त ने उसे गोलियों से छलनी कर दिया।

ग्रेटर नोएडा के पुलिस उपायुक्त राजेश कुमार सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बताया कि दिनेश भाटी के कहने पर उसके दोस्त ने बाइकबोट में 50 हज़ार रुपये की रकम लगाई थी। मुनाफा नहीं मिलने पर दोस्त से तकरार हो गई। दोस्त और उसके दो साथियों ने सपा नेता महेश भाटी के भाई दिनेश भाटी की हत्या कर दी। दादरी कोतवाली पुलिस ने नेता के भाई दिनेश की हत्या करने वाले तीनों बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है।

बाइकबोट में ठेका लेने के लिए दिनेश ने सोनू को बनाया था साझीदार
डीसीपी ने बताया कि दिनेश भाटी की दोस्ती अपने गांव के रहने वाले सोनू पुत्र सतीश के साथ थी। दिनेश ने सोनू से करीब 3 साल पहले 50 हजार रुपये लिए थे। दिनेश ने उससे कहा था कि बाइक बोट कंपनी में हॉर्टिकल्चर का ठेका लेना है। दोनों मिलकर इसमें काम करेंगे और मुनाफे को आधा-आधा बांट लेंगे। सोनू ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि दिनेश भाटी ने 50 हजार रुपये वापस नहीं किए और ना ही ठेके में हिस्सेदारी दी। इस बात को लेकर कई बार बातचीत भी हुई लेकिन दिनेश भाटी ने कोई सुनवाई नहीं की। डीसीपी ने बताया कि दिनेश भाटी और सोनू भाटी के बीच इसी बात को लेकर विवाद गहराता चला गया।

सोनू भाटी ने अपने दो दोस्तों के साथ मिलकर हत्या की योजना बनाई
सोनू ने अपने दो साथियों अमित पुत्र आनंद और दीपक पुत्र मनोज के साथ मिलकर 9 मई की शाम लुहारली गेट के पास दिनेश भाटी की गोली मारकर हत्या कर दी। यह तीनों लोग तभी से फरार चल रहे थे। पुलिस ने नहर कोठी के पास से बीती रात करीब 1:30 बजे तीनों को गिरफ्तार कर लिया है। सोनू ने महेश और दिनेश भाटी की गांव में चल रही रंजिश का फायदा उठाने की योजना बनाई। सोनू ने पुलिस को बताया कि जब उसने दिनेश भाटी से अपने 50 हजार रुपये वापस मांगे तो उसने तमंचा दिखाकर जान से मारने की धमकी दी। मारपीट और गाली-गलौज भी किया। इसका बदला लेने के लिए वह भीतर ही भीतर जल रहा था। उसने पूरी घटना के बारे में अपने दोनों दोस्तों दीपक और अमित को बताया।

दिनेश की हत्या का शक गांव में चल रही रंजिश के कारण पुनीत पर जाता
तीनों ने योजना बनाई कि दिनेश भाटी की हत्या कर देंगे। दिनेश और उसके भाई महेश की गांव में पुनीत और उसके भाइयों से रंजिश चल रही है। ऐसे में दिनेश भाटी की हत्या का इल्जाम भी पुनीत और उसके परिवार पर जाएगा। इन तीनों लोगों पर किसी का शक भी नहीं होगा। पुलिस ने बताया कि सोनू के खिलाफ 13 मुकदमे चल रहे हैं। जिनमें हत्या, हत्या का प्रयास आर्म्स एक्ट, गुंडा एक्ट और गैंगस्टर एक्ट के मुकदमे हैं। सोनू के खिलाफ दादरी, बुलंदशहर के सिकंदराबाद और कई दूसरे थानों में मुकदमे दर्ज हैं। दूसरे बदमाश दीपक के खिलाफ 10 मुकदमे दर्ज हैं। उस पर भी मारपीट, बलवा, हत्या का प्रयास, आर्म्स एक्ट, गैंगस्टर एक्ट और गुंडा एक्ट के मुकदमे हैं। अमित के खिलाफ यह दूसरा मुकदमा दर्ज हुआ है। इससे पहले उस पर वर्ष 2019 में दादरी कोतवाली में हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज किया गया था। डीसीपी ने बताया कि तीनों को अदालत के सामने पेश किया जा रहा है। वहां से न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया जाएगा।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.