गुर्जर सांसद-विधायक उग्र तो ठाकुर-ब्राह्मण नेता दिखे नरम, जानिए क्या रही वजह

दादरी में योगी : गुर्जर सांसद-विधायक उग्र तो ठाकुर-ब्राह्मण नेता दिखे नरम, जानिए क्या रही वजह

गुर्जर सांसद-विधायक उग्र तो ठाकुर-ब्राह्मण नेता दिखे नरम, जानिए क्या रही वजह

Tricity Today | मंच में योगी आदित्यनाथ और अन्य नेता

गुर्जर सांसद-विधायक उग्र तो ठाकुर-ब्राह्मण नेता दिखे नरम, जानिए क्या रही वजह Dadri : सम्राट मिहिर भोज के वंश और जाति को लेकर खड़े विवाद के बीच बुधवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) दादरी पहुंचे। उन्होंने यहां डिग्री कॉलेज में सम्राट मिहिर भोज (Samrat Mihir Bhoj) की प्रतिमा का अनावरण किया। इस मौके पर आयोजित जनसभा में एक खास नजारा देखने को मिला। मंच से गुर्जर सांसद और विधायक खासे उग्र नजर आए। कोई भी सम्राट मिहिर भोज को गुर्जर बताने से नहीं चुका। सबने अपनी जाति पर जोर दिया। दूसरी ओर मंचासीन ठाकुर और ब्राह्मण नेताओं ने संयम बरता। एकता और सांस्कृतिक सद्भाव पर जोर देते रहे।

सबसे पहले उत्तराखंड से भारतीय जनता पार्टी के विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन की बारी आई। जैसा उनके उग्र स्वभाव के बारे में जाना जाता है, उन्होंने उसी अंदाज में साफ कर दिया कि मिहिर भोज को गुर्जर के अलावा किसी और बिरादरी का बताया जाना नागवार है। उन्होंने साफ तौर पर कहा, "गुर्जर थे, गुर्जर हैं और गुर्जर रहेंगे। जो औलादें अपने पूर्वजों, अपने समाज और अपने संस्कारों को भूल जाती हैं, वह केवल बाद में पश्चाताप करते हैं।" उन्होंने अपने संबोधन में गुर्जर सम्राट मिहिर भोज ही बार बार कहा।

जेवर के विधायक धीरेंद्र सिंह ने एकता के भाव को आगे बढ़ाते हुए कहा, "मैं आप लोगों के बीच सिर्फ यही कहना चाहता हूं कि हमारे देश की संस्कृति ने विभिन्न भाषा और जातियों के बावजूद इस देश को एकता के सूत्र में पिरोए रखा। इसीलिए कहा गया है, ‘यूनान, मिस्र, रोमां, सब मिट गए जहां से, बाकी है अब भी लेकिन नामो-निशां हमारा।’ राष्ट्र हमारे लिए सर्वोपरि है और हम सभी मिलकर राष्ट्र का निर्माण करते हैं। इस आह्वान के साथ में नौजवानों से आग्रह करना चाहता हूं कि वे राष्ट्र निर्माण में अपना योगदान दें।"

नोएडा के विधायक पंकज सिंह ने कहा, "सीएम योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में उत्तर प्रदेश सपनों का राज्य बनने की तरफ अग्रसर है। वर्षों पहले हम जैसी कल्पना करते थे, आज का यूपी वैसा ही है। राज्य की भाजपा सरकार जन कल्याण के कार्यों को बखूबी आगे बढ़ा रही है। शिक्षा से लेकर अर्थव्यवस्था तक के स्तर पर यूपी अलग पहचान बना रहा है। हम सोचते थे कि एक दिन भारत इतना सक्षम हो, जो वैश्विक स्तर पर अपनी पहचान बना सके। फिर से दुनिया की अगुवाई करे। पीएम मोदी ने यह कर दिखाया है। आज पूरा विश्व भारत को देख रहा है। दुनिया की बड़ी हस्तियां भारत को सम्मान की नजरों से देख रही हैं। चाहे जेवर विधानसभा हो, दादरी या नोएडा, पूरे उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी एक बार फिर जीत हासिल करेगी और बहुमत की सरकार बनाएगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सरकार के सभी वादे पूरे किए हैं। आज जुटी हुई भीड़ इस बात की गवाह है कि आप उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में पसंद करते हैं। इसके लिए उत्तर प्रदेश की जनता का आभार है।" 

कार्यक्रम में पहुंचे लोनी के विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने जय श्रीराम के नारे के साथ अपना संबोधन शुरू किया। उन्होंने कहा, "जाट, गुर्जर, राजपूत, ब्राह्मण, यादव सब सनातन संस्कृति के रक्षक हैं। आज एकजुट होकर सनातन धर्म के रक्षक सम्राट मिहिर भोज को याद कर रहे हैं। मुस्लिम आक्रमणकारियों के सबसे बड़े शत्रु मिहिर भोज थे। अरब आक्रमणकर्ताओं के कई दस्तावेजों में इसका प्रमाण मिलता है कि सनातन धर्म की रक्षा के लिए उन्होंने विदेशी मुस्लिम आक्रमणकारियों को रोका। हम सब उनके वंशज हैं। आज उनके प्रतिमा के अनावरण मौके पर हम सभी का आना गर्व की बात है। दादरी इतने बड़े कार्यक्रम का गवाह बना।

नन्दकिशोर गुर्जर ने आगे कहा, "खासतौर पर गुर्जर समुदाय के लोग पूरे जोश में हैं। आज बहुत गौरव का दिन है। क्षत्रिय समाज की रक्षा करता है। ब्राह्मण मार्ग दिखाता है। हम सब मनु महाराज की संतान हैं। हम सब को एकजुट रहना है। देश की 26 बिरादरी गुर्जर सम्राट मिहिर भोज के साथ खड़ी रहीं। उनका वंशज होना हम सबको गौरवान्वित करने वाला है।"

इनके अलावा गौतमबुद्ध नगर के सांसद डॉ.महेश शर्मा और शिक्षक एमएलसी श्रीचन्द शर्मा ने भी सामाजिक एकता पर जोर दिया। डॉ.महेश शर्मा ने कहा, "महान हस्तियां किसी एक जाति की नहीं होती हैं। वह पूरे समाज के लिए समान भाव से काम करते हैं। उन्हें मानने और उनका अनुसरण करने का हक सभी को समान रूप से होता है। हमें जातिगत आधार पर बंटवारे से बचने की आवश्यकता है।" एमएलसी श्रीचंद शर्मा ने कहा, "सम्राट मिहिर भोज राष्ट्र रक्षा के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर करने के लिए उद्यत रहे। ऐसे महान व्यक्तित्व से सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए। जातिगत आधार पर किसी भी तरह का दुराव ऐसी महान हस्ती को लेकर उचित नहीं है। हम सभी एक हैं और एकता के माध्यम से ही राष्ट्र का विकास संभव है।"

दूसरी ओर राज्यसभा सांसद सुरेंद्र सिंह नागर, उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री अशोक कटारिया, दादरी के विधायक मास्टर तेजपाल सिंह नागर और कैराना के सांसद प्रदीप चौधरी सम्राट मिहिर भोज का संबोधन गुर्जर सम्राट के रूप में करते रहे। दूसरी ओर गौतमबुद्ध नगर के सांसद डॉ.महेश शर्मा, जेवर से विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह, नोएडा के विधायक पंकज सिंह और शिक्षक एमएलसी श्रीचंद शर्मा ने सम्राट मिहिर भोज के साथ गुर्जर शब्द जोड़ने से परहेज बरता है।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.