67 लाख की धोखाधड़ी करने वाला फरार एक आरोपी गिरफ्तार

ग्रेटर नोएडा : 67 लाख की धोखाधड़ी करने वाला फरार एक आरोपी गिरफ्तार

67 लाख की धोखाधड़ी करने वाला फरार एक आरोपी गिरफ्तार

Tricity Today | एक आरोपी गिरफ्तार

67 लाख की धोखाधड़ी करने वाला फरार एक आरोपी गिरफ्तार
  • - इस मामले में पहले ही 5 आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं 
  • - पीड़ित के मोबाइल नंबर का नया सिम निकलवाकर की थी 67 लाख की ठगी
Greater Noida : कोतवाली बीटा -2 पुलिस और आईटी सेल ग्रेटर नोएडा ने 67 लाख रुपये की धोखाधड़ी करने के मामले में फरार आरोपी रतन सिंह राना को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी ने अपने दो बेटों सतीश राना व प्रदीप राना व अन्य साथियों के साथ मिलकर धोखाधड़ी करके पीड़ित के खाते से करीब 67 लाख रुपये निकाल लिए थे। आरोपी के दोनों बेटों को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। इस मामले में अब तक कुल 5 लोगों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है, यह छठी गिरफ़्तारी है।

जानकारी के मुताबिक पीड़ित सुरेश यादव का खाता इंडसइंड बैंक में था। अक्टूबर 2020 में आरोपियों ने उनका मोबाइल नंबर जो इंडसइंड बैंक के खाते मे लिंक था, उसी नंबर का दूसरा नया सिम निकलवाकर एवं फर्जी दस्तावेज से डेबिट कार्ड जारी कराकर पीड़ित के खाते से 67 लाख तीस हजार नौ सौ पच्चीस रुपये हड़प लिये थे। हड़पे गये रुपयों में से करीब 11 लाख रुपये डेबिट कार्ड द्वारा एवं शेष रुपये को IMPS के माध्यम से अलग-अलग ज्वैलर्स से सोने के सिक्के एवं ज्वैलरी खरीदकर और बेचकर आपस में रुपयों का बटवारा कर लिया था। 

पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी। जांच एक दौरान पुलिस ने शुक्रवार रात आरोपी रतन सिंह राणा निवासी बागपत को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस इस मामले में अब तक 5 अन्य आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। इनमें अनुज, जितेन्द्र कुमार सैनी, सतीश राणा,  प्रदीप राणा और विक्रम कटारिया शामिल हैं। इनमें सतीश और प्रदीप राणा शुक्रवार रात गिरफ्तार रतन राणा के बेटे हैं जो पहले  ही जेल जा चुके हैं। विक्रम कटारिया इंडसइंड बैंक का कर्मचारी था जिसकी मदद से आरोपियों ने डेबिट कार्ड जारी करवाया था और रुपये ट्रांसफर करवाये थे। खास बात यह है की पीड़ित सुरेश यादव से ठगी किया गया 67 लाख रुपया पुलिस उसके खाते में वापस करवा चुकी है।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.