विवादः पीएम-सीएम के फोटो पर कालिख पोतने का मामला गर्म हुआ, लोगों ने लेखपाल पर लगाया आरोप, जानें पूरा वाकया

पीएम-सीएम के फोटो पर कालिख पोतने का मामला गर्म हुआ, लोगों ने लेखपाल पर लगाया आरोप, जानें पूरा वाकया

Google Image | कालिख लगा बोर्ड

गौतमबुद्ध नगर के किशोरपुर गांव से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां के एक लेखपाल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पोस्टर पर कालिख पोतने का आरोप लगा है। ग्रामीणों की शिकायत पर मामले की छानबीन की जा रही है। दरअसल ग्रामीण विद्युतीकरण योजना के प्रचार के लिए प्राथमिक स्कूल के पास बोर्ड लगा है। इसी पर मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के फोटो पर कालिख पोता गया है। गांव के लोगों ने लेखपाल पर आरोप लगाकर मामले की जांच की मांग की है। मौके पर पहुंची पुलिस ने छानबीनी के बाद लेखपाल को बयान दर्ज कराने के लिए जेवर कोतवाली में बुलाया है।

यह है पूरा मामला
ग्रामीणों ने बताया कि किशोरपुर गांव में लगे प्राथमिक स्कूल के सामने विद्युत निगम का बोर्ड लगा है। इस पर प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की फोटो लगी है। साथ ही योजना का विवरण लिखा हुआ है। लोगों का कहना है कि लेखपाल ने बोर्ड पर कालिख पोत दी। इससे लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचा है। शनिवार की देर शाम ग्रामीणों ने इसकी शिकायत पुलिस से की। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस तुरंत मौके पर पहुंच गई। पुलिस अधिकारी ने बोर्ड पर कालिख देख आरोपी लेखपाल को कोतवाली पहुंचकर बयान दर्ज कराने के लिए कहा है। 

लेखपाल ने दी सफाई
मौके पर मौजूद उपजिलाधिकारी, जेवर रजनीकांत मिश्र ने बताया कि लेखपाल से बात हुई है। लेखपाल ने बताया कि मामला, 2019 लोकसभा चुनाव के दौरान आदर्श आचार संहिता के वक्त का है। लेखपाल ने कहा कि कुछ लोगों ने चिढ़ को लेकर इस समय शिकायत की है। वहीं, भाजपा के कुछ कार्यकर्ताओं ने इस पर आपत्ति जताई है। उनका कहना है कि आचार संहिता के दौरान भी प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के फोटो पर कालिख नहीं पोती जा सकती। लेखपाल को विभाग से बोर्ड उखड़वा देना चाहिए था।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.