चीनी नागरिक के भारतीय दोस्त ने मांगी जमानत, आज जिला अदालत में होगी सुनवाई

जासूसी कांड : चीनी नागरिक के भारतीय दोस्त ने मांगी जमानत, आज जिला अदालत में होगी सुनवाई

चीनी नागरिक के भारतीय दोस्त ने मांगी जमानत, आज जिला अदालत में होगी सुनवाई

Google Image | आरोपी | File Photo

चीनी नागरिक के भारतीय दोस्त ने मांगी जमानत, आज जिला अदालत में होगी सुनवाई
  • पूर्वोत्तर की लड़कियों से पुलिस लगातार कर रही है पूछताछ
  • रवि की तलाश में पुलिस की टीमें दे रहीं दबिश, कई राज्यों में पड़े छापे
     
Greater Noida News : भारत-नेपाल बार्डर पर भागने की फिराक में पकड़े गए चीनी घुसपैठियों को ग्रेटर नोएडा में पनाह देने वाले चीनी नागरिक सु फाई के भारतीय दोस्त और बिजनेस पार्टनर रविकुमार नटवरलाल ने जमानत मांगी है। उसकी अग्रिम जमानत अर्जी पर आज (गुरुवार) गौतमबुद्ध नगर जिला न्यायालय में सुनवाई होगी। रविकुमार पर जासूसी के शक में पकड़े गए चीनी नागरिक सु फाई का साथ देने का आरोप है। दोनों ने फर्जी कंपनियां बनाकर करोड़ों रुपये के आर्थिक अपराधों को अंजाम दिया है।

सु फाई और नटवरलाल के हवाला से जुड़े तार, महिला मित्र के खाते में 22 लाख मिले
भारत में जासूसी करने के शक में पकड़े गए चीनी नागरिक सु फाई और उसके भारतीय दोस्त रविकुमार नटवरलाल के हवाला से तार जुड़े हैं। जिसकी वजह से जांच में तेजी आई है। पुलिस की टीमें रवि की तलाश कर रही हैं। उसे पकड़ने के लिए ग्रेटर नोएडा पुलिस ने दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में करीब एक दर्जन ठिकानों पर छापेमारी की है। वहीं, चीनी नागरिक सु फाई की भारतीय महिला मित्र पेटेख रेनुओ के एक अन्य खाते में 22 लाख रुपये मिले है। पूर्व में उसके कई अन्य खातों में 52 लाख रुपये और करीब साढ़े लाख रुपये के बिटकोइन मिले हैं। बिटकॉइन भारत में प्रतिबंधित हैं। इसके अलावा बहुत बड़ा लेनदेन नकद में हुआ है।

क्या है पूरा मामला
बीते 11 जून को नेपाल बार्डर पर बिहार के सीतामढ़ी क्षेत्र में एसएसबी ने दो चीनी नागरिकों लु लैंग और तो यूं हेलंग को पकड़ा था। दोनों 18 दिनों तक ग्रेटर नोएडा के घरबरा गांव स्थित चीनी नागरिकों के अवैध शराब के अड्डे व जेपी ग्रींस सोसायटी में रहे थे। दोनों को भारत में पनाह चीनी नागरिक सु फाइ व उसकी महिला मित्र नगालैंड निवासी पेटेख रेनुओ ने दी थी। पनाह देने वालों को ग्रेटर नोएडा पुलिस ने पकड़ा तो पता चला कि अवैध रूप से सु फाई भारत में रह रहा था, उसकी वीजा अवधि वर्ष 2020 में समाप्त हो गई थी। सु फाई के कब्जे से कई फर्जी दस्तावेज बरामद हुए जो कि देश सुरक्षा में सेंध लगा रहे थे। वह घरबरा गांव में चीनी नागरिकों के लिए एक ऐसा अड्डा चला रहा था जहां बार, पब, कैसिनो समेत कई अन्य मनोरंजन के साधन एक साथ मौजूद रहते थे। अड्डे का एग्रीमेंट उसके भारतीय मित्र रविकुमार नटवरलाल के नाम है।

अन्य खबरे

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.