ग्रेटर नोएडा के रामपुर गांव जाना चाहते थे लोनी विधायक नन्दकिशोर गुर्जर, पुलिस ने रोका तो लुकसर जेल पहुंचे

BIG BREAKING : ग्रेटर नोएडा के रामपुर गांव जाना चाहते थे लोनी विधायक नन्दकिशोर गुर्जर, पुलिस ने रोका तो लुकसर जेल पहुंचे

ग्रेटर नोएडा के रामपुर गांव जाना चाहते थे लोनी विधायक नन्दकिशोर गुर्जर, पुलिस ने रोका तो लुकसर जेल पहुंचे

Tricity Today | लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर अपने साथियों के साथ

ग्रेटर नोएडा के रामपुर गांव जाना चाहते थे लोनी विधायक नन्दकिशोर गुर्जर, पुलिस ने रोका तो लुकसर जेल पहुंचे गाजियाबाद की लोनी विधानसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी के विधायक नंदकिशोर गुर्जर ग्रेटर नोएडा के रामपुर गांव जाना चाहते थे। गौतमबुद्ध नगर पुलिस ने उन्हें रामपुर गांव नहीं जाने दिया। इसके बाद विधायक लुकसर जेल पहुंचे हैं। विधायक का कहना है कि वह जेल भेजे गए 5 लोगों से मिलने आए हैं। आपको बता दें कि रामपुर गांव में मामूली बात को लेकर दो पक्षों में विवाद हो गया था। इस मामले को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश की गई। जिसमें पुलिस ने कड़ाई की और पांच लोगों को गिरफ्तार करके जेल भेजा है।

चारा काटने के विवाद को साम्प्रदायिक बनाने की कोशिश
दनकौर थानाक्षेत्र के गांव रामपुर में खेत से चारा काटने को लेकर दो पक्षों में विवाद हो गया था। इसके बाद गांव के कुछ युवकों ने उपद्रव किया और धार्मिक स्थल में तोड़फोड़ की। हालात बिगड़ते देखकर पुलिस ने गांव में पीएसी और रैपिड रिस्पांस फोर्स तैनात कर दी थी। इसके बाद दोनों ओर के लोगों की पंचायत हुई। एक पक्ष का कहना है कि इस पंचायत में फैसला हो गया था। इसके बावजूद पुलिस ने एफआईआर दर्ज की और पांच लोगों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया। यह एकतरफा कार्रवाई है। 



धार्मिक स्थल तोड़ा और कई लोगों को बुरी तरह पीटा
दूसरी तरफ इन लोगों पर धार्मिक स्थल में तोड़फोड़ करने और एक संप्रदाय विशेष के कई लोगों के साथ बुरी तरह मारपीट करने का आरोप है। दो लोग गंभीर रूप से घायल हुए और उनका इलाज ग्रेटर नोएडा के प्राइवेट अस्पताल में चल रहा है। पुलिस ने ऐसे लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की। उन्हें गिरफ्तार किया और 5 लोगों को जेल भेज दिया है।

नंदकिशोर गुर्जर ने कहा- पुलिस ने एकतरफा कार्रवाई की
अब बुधवार की दोपहर लोनी से विधायक नंदकिशोर गुर्जर रामपुर गांव जा रहे थे। इस बारे में पुलिस को जानकारी मिली तो उन्हें गांव में नहीं जाने दिया गया। नंदकिशोर गुर्जर ने कहा, "पुलिस ने एकतरफा कार्रवाई की है। जब दोनों पक्षों के बीच समझौता हो गया था तो एक ही पक्ष के 5 लोगों को जेल क्यों भेजा गया। मैं पीड़ित परिवारों से मिलना चाहता  था। पुलिस ने कहा कि इससे माहौल बिगड़ जाएगा। लिहाजा, मैं गांव में नहीं जा रहा हूं। मैं जेल में बंद पांचों लोगों से मुलाकात करने जा रहा हूं।"

पुलिस की एकतरफा कार्रवाई का विरोध करने फिर आऊंगा
जेल के बाहर विधायक नन्दकिशोर गुर्जर और पुलिस-प्रशासनिक अफसरों के बीच बात हुई। अधिकारियों ने विधायक को आश्वासन दिया कि बुधवार की शाम तक इन लोगों को रिहा कर दिया जाएगा। इसके बाद विधायक ने कहा कि अगर शीघ्र अति शीघ्र इन लोगों को रिहा नहीं किया गया तो वह एक बार फिर आएंगे। जरूरत पड़ी तो सड़क से लेकर विधानसभा तक आंदोलन करेंगे। एकतरफा कार्रवाई नहीं होने दी जाएगी। पुलिस ने ज्यादती की है। ऐसा नहीं होना चाहिए था।

 

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.