ग्रेटर नोएडा में चार घंटे की बिजली कटौती से बेहाल रहे लोग, इन सेक्टर में बाधित हुई आपूर्ति

चिंताजनक : ग्रेटर नोएडा में चार घंटे की बिजली कटौती से बेहाल रहे लोग, इन सेक्टर में बाधित हुई आपूर्ति

ग्रेटर नोएडा में चार घंटे की बिजली कटौती से बेहाल रहे लोग, इन सेक्टर में बाधित हुई आपूर्ति

Google Image | ग्रेटर नोएडा में चार घंटे की बिजली कटौती

ग्रेटर नोएडा में चार घंटे की बिजली कटौती से बेहाल रहे लोग, इन सेक्टर में बाधित हुई आपूर्ति Greater Noida : देश भर में कोयले की कमी से विद्युत उत्पादन कम हो रहा है। इसका असर ग्रेटर नोएडा में दिखाई दे रहा है। बिजली संकट ने ग्रेटर नोएडा के लोगों की ही मुसीबत बढ़ा दी है। सोमवार को लोगों को 4 घंटे तक की कटौती का सामना करना पड़ा। अलग-अलग सेक्टरों में अलग-अलग समय पर कटौती की गई। शाम के समय औद्योगिक क्षेत्रों में भी बिजली गुल रही। बिजली का उत्पादन पटरी पर आने के बाद ही कटौती रुकेगी।

देशभर में कोयले की कमी के चलते बिजली का उत्पादन प्रभावित हुआ है। बिजली उत्पादन कम होने से कटौती शुरू हो गई गई है। एनपीसीएल के मुताबिक ग्रामीण क्षेत्रों में 4 घंटे तक की कटौती की गई है। फीडर वाइज यह कटौती की गई है। इसके अलावा शहरी क्षेत्रों में 2 से 3 घंटे की कटौती की गई है। औद्योगिक क्षेत्रों में शाम 7 बजे के बाद कटौती की गई। बिजली की उपलब्धता कम होने के चलते यह कटौती की जा रही है। अधिकारियों के मुताबिक, मांग के अनुरूप 20 से 80 मेगावाट तक बिजली कम मिल पा रही है। कभी 20 मेगावाट कम आती है तो कभी यह बढ़कर 80 मेगावाट तक पहुंच जाती है। यही कारण है कि बिजली कटौती करनी पड़ रही है। स्थितियां सामान्य होते ही कटौती बंद कर दी जाएगी।

2-5 घंटे की होगी कटौती
दरअसल एनपीसीएल को भी 20 से 25 फ़ीसदी कम बिजली मिल रही है। ऐसे में गौतमबुद्ध नगर जैसे तीन लाख से ज्यादा उपभोक्ता वाले जिले में आपूर्ति सुनिश्चित कराना बेहद कठिन होगा। इसको देखते हुए विभाग ने कटौती का निर्णय लिया है। शनिवार को भी कुछ इलाकों में 30 मिनट से 1 घंटे तक की आपूर्ति बाधित हुई। जबकि आज से 2 से 5 घंटे तक कटौती की जाएगी। बताते चलें कि कोयले की कमी के चलते देश में पावर प्लांट से बिजली का उत्पादन कम हो गया है। इस वजह से इसकी आपूर्ति में बाधा आ रही है।

दरें बढ़ सकती हैं
अगर इसी तरह उत्पादन का संकट रहा तो बिजली की दरें बढ़नीं भी तय हैं। एनपीसीएल इंडिया एनर्जी एक्सचेंज से 100 मेगावाट बिजली खरीदता है। सामान्य तौर पर इनकी दर 3-6 रुपये प्रति यूनिट होती है। लेकिन कमी के चलते अब इसकी कीमत 20 प्रति यूनिट तक पहुंच गई है। एनपीसीएल यहां से 15-16 रुपये प्रति यूनिट बिजली खरीद रहा है। इतने महंगे दर पर खरीद कर कम रेट पर उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराना एनपीसीएल के लिए लंबे समय तक संभव नहीं होगा। इसलिए अगर यह संकट ऐसे ही चला, तो बिजली की दरों में बदलाव होगा।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.