स्कार्पियो कार पर फर्जी नंबर प्लेट लगाकर चल रहा था पुलिसकर्मी, जानिए असली कार मालिक को कैसे लगी भनक

ग्रेटर नोएडा : स्कार्पियो कार पर फर्जी नंबर प्लेट लगाकर चल रहा था पुलिसकर्मी, जानिए असली कार मालिक को कैसे लगी भनक

स्कार्पियो कार पर फर्जी नंबर प्लेट लगाकर चल रहा था पुलिसकर्मी, जानिए असली कार मालिक को कैसे लगी भनक

Tricity Today | स्कार्पियो कार पर फर्जी नंबर प्लेट और असली नंबर प्लेट

स्कार्पियो कार पर फर्जी नंबर प्लेट लगाकर चल रहा था पुलिसकर्मी, जानिए असली कार मालिक को कैसे लगी भनक Greater Noida News : पुलिस का स्टीकर और फर्जी नंबर प्लेट लगी एक स्कॉर्पियो कार ने एक युवक को मुश्किल में डाल दिया। डेढ़ साल में युवक के पास 6 से अधिक चालान पहुंच गए जबकि पीड़ित युवक उन स्थानों पर कभी गया ही नहीं जहां पर चालान हुए दर्शाए गए हैं। 10 अक्टूबर को जब फर्जी नंबर प्लेट लगी स्कॉर्पियो कार ग्रेटर नोएडा के साइट-4 स्थित महिंद्रा शोरूम में सर्विस होने के लिए पहुंची और जॉब कार्ड बना तो पीड़ित युवक के मोबाइल पर सर्विस का मैसेज पहुंचा। इस पर परेशान युवक ने सर्विस सेंटर पहुंच कर देखा कि उसकी स्कॉर्पियो कार का नंबर पुलिस का स्टीकर लगी स्कॉर्पियो पर लिखा हुआ है। 

आरोप है कि सर्विस सेंटर के कर्मचारियों से गाड़ी के मालिक का नंबर लेने पर पता चला कि एक हेड कांस्टेबल ने सर्विस के लिए कार भेजी है। पीड़ित युवक अब 3 दिन से पुलिस चौकी से लेकर एसीपी ऑफिस के चक्कर काट रहा है लेकिन पीड़ित की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। 

मूल रूप से ग्रेटर नोएडा के सलेमपुर गांव के रहने वाले सचिन कुमार दिल्ली विनोद नगर में परिवार के साथ रहते हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें 2015 में शादी में स्कॉर्पियो कार दहेज में मिली थी जो उसकी पत्नी के नाम पर रजिस्टर्ड है। उनकी स्कॉर्पियो कार का पिछले डेढ़ साल में 6 से अधिक चालान हो चुके हैं जबकि सचिन के मुताबिक जिन स्थानों के चालान दर्शाए गए हैं, वहां पर वह कभी गए ही नहीं है। इसको लेकर वह कई बार पुलिस से भी शिकायत कर चुके हैं। लेकिन कोई सुनवाई नही हुई।

बीते 9 अक्टूबर को उनके मोबाइल फोन पर ग्रेटर नोएडा साइट-4 स्थित महिंद्रा सर्विस सेंटर से एक मैसेज आया, जिसमें लिखा था कि उनकी कार की सर्विस की जा रही है। यह देखकर वह चौंक गए क्योंकि उसकी कार घर पर ही खड़ी थी। उन्होंने सर्विस सेंटर पर फोन कर कहा कि जिस नंबर की गाड़ी की वह सर्विस कर रहे हैं। वह नंबर उनकी स्कॉर्पियो का है। 

सचिन कुमार ने बताया कि उन्होंने सर्विस सेंटर के कर्मचारियों से कहा कि वह गाड़ी चोरी की है। इस पर सेंटर के कर्मचारियों ने बताया कि इस गाड़ी को एक हेड कांस्टेबल का बेटा सर्विस के लिए लाया है। इस पर कर्मचारियों ने स्कॉर्पियो कार सर्विस को होल्ड कर दिया। 10 अक्टूबर को वह सर्विस सेंटर पहुंच गए। उन्होंने मैनेजर को बताया कि जो गाड़ी सर्विस होने के लिए आई है वह चोरी की है। जो उनकी गाड़ी की फर्जी नंबर प्लेट लगाकर चलाई जा रही है। 

गाड़ी का इंजन नंबर चेक करने पर पता चला कि उस पर पेंट किया हुआ है। उसके बाद उन्होंने 112 नंबर पर फोन कर पुलिस बुला ली। पीड़ित सचिन ने बताया कि शिकायत करने के बाद दो पुलिसकर्मी उनके घर पहुंच गए और समझौते का दबाव बनाने लगे जिसके बाद उन्हें पुलिस चौकी पर बुलवाया गया। जब वह चौकी पहुंचे तो कह दिया कि  चौकी इंचार्ज छुट्टी पर गए हैं। 15 अक्टूबर को उनकी शिकायत पर कार्रवाई की जाएगी। 

फर्जी नंबर प्लेट लगी स्कॉर्पियो की वीडियो वायरल की
पुलिस द्वारा कोई सुनवाई नहीं होने पर पीड़ित ने फर्जी नंबर प्लेट और पुलिस का स्टीकर लगी गाड़ी की वीडियो बनाकर सोशल मीडिया में वायरल कर दी। मामला पुलिस के आला अधिकारियों के संज्ञान में आने के बाद पुलिस ने इस मामले की जांच-पड़ताल शुरू कर दी है। डीसीपी ग्रेटर नोएडा अभिषेक ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद आरोपी के खिलाफ सख्त कार्यवाई की जाएगी।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.