टर्मिनल और बिल्डिंग के काम ने पकड़ी तेजी, बिजलीघर बनकर हुआ तैयार 

Noida International Airport : टर्मिनल और बिल्डिंग के काम ने पकड़ी तेजी, बिजलीघर बनकर हुआ तैयार 

टर्मिनल और बिल्डिंग के काम ने पकड़ी तेजी, बिजलीघर बनकर हुआ तैयार 

Tricity Today | प्रतीकात्मक फोटो

टर्मिनल और बिल्डिंग के काम ने पकड़ी तेजी, बिजलीघर बनकर हुआ तैयार  Greater Noida | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ड्रीम प्रोजेक्ट नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के काम में तेजी आ गई है। एयरपोर्ट के टर्मिनल और सपोर्ट बिल्डिंग का निर्माण तेजी के साथ हो रहा है। एयरपोर्ट के अंदर 11 केवीए का पॉवर सब स्टेशन बनकर तैयार हो गया है। इस सब स्टेशन को बिजली सेक्टर-32 में बने 220 केवीए के स्टेशन से दी जा रही है। टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड ने यह काम शुरू किया है। चारदीवारी का काम पहले ही पूरा हो चुका है। इसके साथ ही बिजली की प्रारंभिक जरूरतों को पूरा करने के लिए 11 केवीए क्षमता का सब स्टेशन तैयार हो गया है। 

ज़्यूरिख़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट एजी को जिम्मेदारी 
देश के सबसे बड़े जेवर एयरपोर्ट के पहले चरण का निर्माण कार्य शुरू हो गया है। नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड ने स्विस कंपनी ज़्यूरिख़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट एजी को यह हवाईअड्डा विकसित करने की जिम्मेदारी दी है। भारत में काम करने के लिए स्विस कंपनी ने यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड के नाम से एसपीवी बनाई है। यह कंपनी निर्माण करवा रही और हवाईअड्डे का संचालन करेगी। एयरपोर्ट के निर्माण के लिए वाईआईएपीएल ने टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड को जिम्मेदारी सौंपी है। 

टाटा प्रोजेक्ट लिमिटेड को सौंपी गई जिम्मेदारी 
टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड ने हवाईअड्डा बनाने का काम शुरू कर दिया है। गुणवत्ता और समय पर काम पूरा कराने के लिए केंद्र सरकार की कंपनी इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड को निगरानी करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। कंपनी ने अपनी पहली रिपोर्ट नियाल को सौंप दी है। इस रिपोर्ट के मुताबिक टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड ने एयरपोर्ट की टर्मिनल बिल्डिंग का काम शुरू कर दिया है। साथ ही सपोर्ट बिल्डिंग का काम शुरू किया गया है। 

एयरपोर्ट में तेल भंडार के लिए बनाए जाएंगे टैंक 
एयरपोर्ट की चारदीवारी का काम पूरा हो चुका है। बिजली की प्रारंभिक जरूरतों को पूरा करने के लिए एयरपोर्ट साइट पर 11 केवीए का सब स्टेशन बना दिया गया है। इसी से एयरपोर्ट की प्रारंभिक जरूरतें पूरा होंगी। एयरपोर्ट से सितंबर 2024 तक उड़ान शुरू हो जाएंगी। वहीं, एयरपोर्ट में तेल भंडारण के लिए टैंक आदि बनाए जाएंगे। इसके लिए यूज ऑफ एक्सप्लोसिव का लाइसेंस लेना पड़ेगा। यह लाइसेंस इसी साल अगस्त तक मिल जाएगा।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.