अवैध मुआवजे और प्लॉटों से नहीं भरा भूमाफिया का पेट तो कर लिया ग्रीन बेल्ट पर कब्जा

तुस्याना भूमि घोटाला : अवैध मुआवजे और प्लॉटों से नहीं भरा भूमाफिया का पेट तो कर लिया ग्रीन बेल्ट पर कब्जा

अवैध मुआवजे और प्लॉटों से नहीं भरा भूमाफिया का पेट तो कर लिया ग्रीन बेल्ट पर कब्जा

Tricity Today | Greater Noida Authority

अवैध मुआवजे और प्लॉटों से नहीं भरा भूमाफिया का पेट तो कर लिया ग्रीन बेल्ट पर कब्जा Greater Noida : ग्रेटर नोएडा के तुस्याना गांव में हुए अरबों रुपए के भूमि घोटाले से माफिया का पेट भरने वाला नहीं था। सूरजपुर-कासना रोड पर नॉलेज पार्क में ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के प्लानिंग विभाग ने 6 प्रतिशत आबादी प्लॉट के रूप में 691 वर्ग मीटर जमीन दी थी। लेकिन इस प्लॉट पर कमर्शियल बिल्डिंग खड़ी कर दी गई। अब अथॉरिटी की जांच में सामने आया है कि राजेंद्र मकोड़ा ने 691 वर्ग मीटर के बजाय 1600 वर्ग मीटर से अधिक जमीन घेर ली है। इस पर वाणिज्यिक गतिविधियां चलाई जा रही हैं। कार वॉश से लेकर रेस्टोरेंट, दवा की दुकानें और जिम आदि को किराए पर बिल्डिंग दी हुई है।

राजेंद्र मकोड़ा इस कमर्शियल बिल्डिंग से हर महीने कई लाख रुपये का किराया वसूल रहा है। नॉलेज पार्क-1 में मैन कासना-सूरजपुर रोड पर शहर के बीचोंबीच बनी इस बिल्डिंग को 14,000 वॉल्ट की हाईटेशन लाइन के तले और नर्सरी की जमीन पर बनाया गया है। इस प्लॉट को अलॉट कराने से लेकर प्लॉट लगाने तक ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के कई तत्कालीन अफसरों के नाम सामने आ रहे हैं। इस फाइल पर तत्कालीन सीईओ और एसीईओ ने हस्ताक्षर किए हैं, दोनों रिटायर हो चुके हैं।

इनके अलावा, जीएम प्लानिंग, डीजीएम प्लानिंग, प्लानिंग विभाग के ड्राफ्टमैन, प्रॉजेक्ट विभाग के डीजीएम और उद्यान विभाग के वरिष्ठ प्रबंधक आदि शामिल रहे है। जमीन का मुआवजा उठाने से लेकर आबादी के प्लॉट लगाने तक के मामले की जांच करने के लिए राजस्व परिष्द के चेयरमैन संजीव कुमार मित्तल की अध्यक्षता में 9 जून 2022 को हाई पावर कमेटी गठित की गई थी। इसमें मेरठ मंडल के आयुक्त, अपर पुलिस महानिदेशक राजीव सब्बरवाल और ग्रेटर नोएडा की सीईओ सदस्य हैं।

Copyright © 2021 - 2022 Tricity. All Rights Reserved.