आमने-सामने: कौन बनेगा गौतमबुद्ध नगर जिला पंचायत का अध्यक्ष, इन दो चेहरों के चारों ओर घूम रहा चुनाव

कौन बनेगा गौतमबुद्ध नगर जिला पंचायत का अध्यक्ष, इन दो चेहरों के चारों ओर घूम रहा चुनाव

Tricity Today | अमित चौधरी और अमन भाटी

UP Panchayat Chunav : गौतमबुद्ध नगर में पंचायत चुनाव के लिए मतदान होने में करीब 2 दिन का वक्त बाकी हैं। सारे उम्मीदवार अपनी जीत पक्की करने के लिए ताकत लगाए हुए हैं। वैसे तो अभी जिला पंचायत सदस्य बनने के लिए संघर्ष है, लेकिन 2 उम्मीदवार ऐसे हैं, जिन्हें गौतमबुद्ध नगर जिला पंचायत अध्यक्ष पद का दावेदार मानकर चुनाव लड़ा जा रहा है। इनमें भारतीय जनता पार्टी के वार्ड नंबर-5 से उम्मीदवार अमित चौधरी और दूसरे बहुजन समाज पार्टी के वार्ड नंबर-4 से अवनेश उर्फ अमन भाटी हैं। कुल मिलाकर गौतमबुद्ध नगर का जिला पंचायत चुनाव इन्हीं दो चेहरों के चारों ओर घूमता नजर आ रहा है।

सबसे पहले भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार अमित चौधरी की बात करते हैं। अमित चौधरी चिपियाना बुजुर्ग गांव के रहने वाले हैं। करीब 10 वर्षों से भारतीय जनता पार्टी की सक्रिय राजनीति कर रहे हैं। पिछली दो जिला कार्यकारिणी में वह बतौर महामंत्री कार्यरत हैं। पार्टी ने उन्हें जेवर क्षेत्र में वार्ड नंबर-5 से उम्मीदवार बनाकर भेजा है। अमित चौधरी को बेहद सरल और सौम्य स्वभाव के लिए जाना जाता है। गौतमबुद्ध नगर भारतीय जनता पार्टी के तमाम नेता उनके पक्ष में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से प्रचार कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश भाजपा में भी अमित चौधरी की अच्छी पकड़ बताई जाती है। भारतीय जनता पार्टी के नेताओं का कहना है कि अगर अमित चौधरी जिला पंचायत का चुनाव जीतने में कामयाब हुए तो पार्टी उन्हें अध्यक्ष पद का उम्मीदवार बनाएगी। अमित पढ़े-लिखे और युवा उम्मीदवार हैं। उनकी कोई राजनीतिक विरासत नहीं है। अपने बूते पर राजनीति में यहां तक पहुंचे हैं।

अब बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार अवनेश भाटी की बात करते हैं। अवनेश भाटी समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और विधान परिषद सदस्य नरेंद्र भाटी के भतीजे हैं। नरेंद्र भाटी पार्टी प्रोटोकॉल तोड़कर अपने भतीजे के लिए लगातार चुनाव प्रचार कर रहे हैं। अवनेश के पिता बिजेंद्र भाटी गौतमबुद्ध नगर जिला पंचायत के अध्यक्ष रह चुके हैं। समाजवादी पार्टी के लंबे अरसे तक जिला अध्यक्ष रहे हैं। पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान वह सपा छोड़कर डॉ महेश शर्मा का समर्थन करने के लिए भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए थे। भाजपा से अमन को जिला पंचायत का चुनाव लड़ना चाहते थे, लेकिन किन्हीं परिस्थितियों के चलते ऐसा नहीं हो सका। जिला पंचायत चुनाव की रणभेरी बजने से ठीक पहले उन्होंने भाजपा छोड़ दी और बहुजन समाज पार्टी का दामन थाम लिया था। अमन को भी जिला पंचायत अध्यक्ष का दावेदार माना जा रहा है। मौजूदा परिस्थितियों में अमन का चुनाव प्रचार अपने निर्वाचन क्षेत्र में मजबूत है। उनके सामने खड़ा भारतीय जनता पार्टी का उम्मीदवार मजबूत टक्कर दे रहा है, लेकिन जिले की राजनीति पर पकड़ रखने वाले लोगों का कहना है कि अमन भाटी का जीतना लगभग तय है।

अब अगर गौतमबुद्ध नगर जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए होने वाले चुनाव की बात करें तो यहां केवल 5 जिला पंचायत सदस्य चुनकर सदन में पहुंचेंगे। जिस सदस्य के पक्ष में दो और सदस्य होंगे, वह अध्यक्ष पद पर काबिज हो जाएगा। मौजूदा चुनाव को देखकर लगता है कि किसी एक पार्टी को एकतरफा जीत मिलनी मुश्किल है। पिछले तीन-चार दिनों में जैसे-जैसे चुनाव प्रचार ने रफ्तार पकड़ी है, उसके साथ समीकरण तेजी से बदल रहे हैं। गौतमबुद्ध नगर में भारतीय जनता पार्टी, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी मजबूती से चुनाव लड़ रही हैं। आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी भी इनके बीच अच्छी पकड़ बनाकर चल रहे हैं। कई निर्दलीय उम्मीदवार भी अपने-अपने इलाकों में बड़ा असर डालेंगे। इन परिस्थितियों के चलते चुनाव परिणाम का सहज आकलन करना संभव नहीं है। 

वरिष्ठ पत्रकार आदेश भाटी का कहना है कि अगर 1-2 उम्मीदवारों को छोड़ दें तो बाकी 3-4 निर्वाचन क्षेत्र ऐसे हैं, जहां परिणाम तय नहीं हैं। मतदाताओं की संख्या कम है। व्यक्तिगत संबंध ज्यादा प्रभावशाली साबित होंगे। उम्मीदवारों को पार्टियों ने जरूर समर्थन दिया है, लेकिन सिंबल किसी के पास नहीं है। ऐसे में राजनीतिक विचारधारा कुछ खास असर नहीं डाल पाएगी। कई उम्मीदवार ऐसे हैं, जो लीडिंग कैंडिडेट्स को नुकसान पहुंचा सकते हैं। यह बात जरूर सार्वजनिक रूप से चल रही है कि अगर अमित चौधरी और अमन भाटी जीतकर आते हैं तो यह दोनों ही अध्यक्ष पद के दावेदार होंगे।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.