फर्जी डेथ सर्टिफिकेट लगाकर हड़पे 30-30 हजार रुपये, 98 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

Lucknow : फर्जी डेथ सर्टिफिकेट लगाकर हड़पे 30-30 हजार रुपये, 98 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

फर्जी डेथ सर्टिफिकेट लगाकर हड़पे 30-30 हजार रुपये, 98 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

Tricity Today | Symbolic Photo

फर्जी डेथ सर्टिफिकेट लगाकर हड़पे 30-30 हजार रुपये, 98 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज लखनऊ के सरोजनी नगर थाने में फर्जी तरह से सरकारी पेंशन लेने के मामले में 98 लोगों पर एफआईआर दर्ज की गई है। इसमें 8 ऐसे लोगों को भी आरोपी बनाया गया है जिन्होंने परिवार के मुखिया की मौत की तारीख में हेराफेरी कर उस ग्रांट को हड़प लिया। वहीं फर्जी डॉक्युमेंट्स लगाकर सरकारी ग्राट हड़पने की कोशिश करने वाले 67 लोगों को भी आरोपी बनाया गया है। 

दो आरोपियों की तलाश में जुटी पुलिस
सरोजनी नगर इंस्पेक्टर महेंद्र सिंह ने बताया कि रेवेन्यू क्लर्क मयंक शुक्ला की शिकायत पर एफआईआर दर्ज की गई है। सरकारी ग्रांट हड़पने के मामले में सहजराम और भगौती शर्मा मास्टरमाइंड हैं। इन दोनों ने मिलकर सरकारी पैसा हड़पने के लिए जिंदा लोगों के फर्जी डेथ सर्टिफिकेट बनवा दिए। जिन 67 लोगों का ग्रांट रोका गया है उनके फर्जी सर्टिफिकेट दोनों ने ही बनवाए थे। पुलिस दोनों को गिरफ्तार करने के लिए लगातार छापेमारी कर रही है। 

फर्जी डेथ सर्टिफिकेट से 30-30 हज़ार हड़पे
सरकारी ग्रांट हड़पने के लिए 21 जिंदा लोगों को कागजों में मरा हुआ दिखा दिया गया। इसके साथ ही 8 लोगों की मौत की तारीख में भी हेराफेरी कर उनके परिवार को मिलने वाला ग्रांट हड़प लिया गया। राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना के तहत परिवार के मुखिया की मौत होने पर उसके परिवार को एक साथ 30 हजार रुपये की रकम दी जाती है। 98 लोगों पर फर्जीवाड़ा कर यह रकम हड़पने का आरोप है। इसमें 8 ऐसे लोगों को भी आरोपी बनाया गया है जिन्होंने परिवार के मुखिया की मौत की तारीख में हेराफेरी कर उस ग्रांट को हड़प लिया।

अन्य खबरे

Copyright © 2020 - 2021 Tricity. All Rights Reserved.